IPL की सभी 10 टीमों की पॉसिबल प्लेइंग-11:चेन्नई ने अपना कोर ग्रुप बरकरार रखा, मुंबई की विदेशी स्टार्स पर निर्भरता बढ़ी

नई दिल्ली10 महीने पहलेलेखक: अखिल गुप्ता

दो दिन तक चले मेगा ऑक्शन के बाद IPL-2022 के लिए सभी 10 टीमें तैयार हो गई हैं। हर फ्रेंचाइजी को नए सिरे से पूरा स्क्वॉड बनाना था। लिहाजा हर टीम में कुछ मजबूती तो कुछ कमजोरी नजर आ रही हैं। चेन्नई की फ्रेंचाइजी ऑक्शन टेबल पर फिलहाल सबसे कामयाब नजर आ रही है। टीम ने कोर ग्रुप में शामिल ज्यादातर खिलाड़ियों को वापस अपने साथ जोड़ने में सफलता पाई। अगर कुछ खिलाड़ी नहीं मिल पाए तो उसके स्किल सेट से मिलता-जुलता दूसरा खिलाड़ी खरीदा। दूसरी ओर मुंबई इंडियंस की टीम ऐसी बनी है जिसमें विदेशी खिलाड़ियों की अहमियत ज्यादा होगी। इसी तरह बाकी आठ टीमों के स्क्वॉड भी अलग-अलग कहानी बयान करते हैं।

ऑक्शन के बाद सभी टीमों की स्थिति कैसी बनी है, उसकी स्ट्रेंथ और वीकनेस क्या है और टूर्नामेंट की शुरुआत में इनकी पॉसिबल प्लेइंग-11 क्या हो सकती है यह जानने की कोशिश करते हैं। शुरुआत मुंबई इंडियंस के साथ...

1. पेस अटैक पर रहा मुंबई का जोर

ऑक्शन में मुंबई की टीम 48 करोड़ के पर्स के साथ आई थी। पहले दिन टीम ने ईशान किशन को 15.25 करोड़ और डिवॉल्ड ब्रेविस को 3 करोड़ में खरीदा। हमेशा से शानदार तेज गेंदबाजी के लिए जानी जाने वाली MI ने इस बार भी पेस अटैक को मजबूत बनाया है और ऑक्शन के दूसरे दिन जमकर पैसा खर्च करते हुए जोफ्रा आर्चर, टिम डेविड, जयदेव उनादकट, डेनियल सैम्स और टाइमल मिल्स जैसे खिलाड़ी खरीदे। टीम का मिडिल ऑर्डर इस बार विदेशी खिलाड़ियों पर ज्यादा निर्भर होगा। पंड्या ब्रदर्स की गैरहाजिरी में कीरोन पोलार्ड और टिम डेविड को फिनिशर की भूमिका निभानी होगी।

स्ट्रेंथ

  • अनुभवी और विस्फोटक टॉप ऑर्डर: टॉप ऑर्डर में टीम के पास रोहित शर्मा, सूर्यकुमार यादव और ईशान किशन जैसे अनुभवी और आक्रामक बैटिंग के लिए मशहूर खिलाड़ी मौजूद हैं। ये खिलाड़ी तेज और लंबी पारियां खेलने के लिए जाने जाते हैं और मुंबई के लिए लगातार अच्छा करते आ रहे हैं। इस बार ऑक्शन में टीम ने U19 वर्ल्ड कप में धमाल मचाने वाले डिवॉल्ड ब्रेविस को भी अपने साथ जोड़ा है। ब्रेविस को बेबी एबी- जूनियर एबी डिविलियर्स के नाम से जाना जाता है और वह मैदान के चारों ओर शॉट्स खेल सकते हैं।
  • जोरदार पेस बॉलिंग अटैक: टीम के पेस अटैक पहले से और मजबूत हो गया है। मुंबई ने जसप्रीत बुमराह को रिटेन किया था और अब टीम के पास दूसरे यॉर्कर स्पेशलिस्ट जोफ्रा आर्चर का नाम भी जुड़ गया है। साथ ही टाइमल मिल्स और जयदेव उनादकट भी इसी टीम के पास हैं, लेकिन इस सीजन में आर्चर टीम का हिस्सा नहीं होंगे।

वीकनेस

  • ऑलराउंडर की कमी: मुंबई के जोरदार पेस बॉलिंग जरूर है, लेकिन आर्चर को छोड़ दिया जाए तो बुमराह, उनादकट, मिल्स और बेसिल थंपी के पास बैटिंग की क्षमता नहीं है। अगर IPL की अन्य टीमों की बात करें तो चेन्नई के पास दीपक चाहर और दिल्ली के पास शार्दूल ठाकुर जैसे तेज गेंदबाज हैं, जो गेंदबाजी के साथ-साथ बल्लेबाजी भी कर सकते हैं।
  • स्पिन डिपार्टमेंट कमजोर: क्रुणाल पंड्या और राहुल चाहर के टीम से जाने के बाद टीम का स्पिन डिपार्टमेंट कमजोर हो गया है। इस बार मयंक मार्कंडेय और मुरुगन अश्विन को टीम ने अपने साथ जोड़ा है, जिनके पास अनुभव की कमी है।

2. चेन्नई सुपर किंग्स

​​​​​​​​​​​​​​

पिछले साल की चैंपियन चेन्नई सुपर किंग्स ऑक्शन में 48 करोड़ रुपए के साथ उतरी थी। टीम ने ऑक्शन में डेवोन कॉनवे, एडम मिल्न, महीष दीक्षाणा, शिवम दुबे, ड्वेन प्रिटोरियस जैसे खिलाड़ी खरीदे। वहीं, दीपक चाहर, रॉबिन उथप्पा, मिचेल सैंटनर और अंबाती रायडू पर फिर से भरोसा जताया है। आइए जानते इस बार ऑक्शन के बाद टीम की क्या मजबूती है और क्या कमजोरियां सामने आती हैं।

स्ट्रेंथ

  • एक से बढ़कर एक ऑलराउंडर: टीम के पास ऑलराउंडर की फौज है। रवींद्र जडेजा, शिवम दुबे, मोइन अली और ड्वेन ब्रावो... ये ऐसे नाम हैं, जो आईपीएल में शानदार प्रदर्शन करते आए हैं। सभी खिलाड़ी बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों से मैच का पासा पलट सकते हैं। जडेजा और ब्रावो तो लंबे समय से CSK के मैच विनर रहे हैं।
  • मजबूत फास्ट बॉलिंग: धोनी की टीम में स्विंग स्पेशलिस्ट दीपक चाहर, ब्रावो और एडम मिल्न के जैसे नाम शामिल हैं। चाहर और मिल्न को शुरुआती ओवर्स में विकेट चटकाने के लिए जाना जाता है और ये दोनों पॉवरप्ले के सबसे कंजूस गेंदबाजों में से एक हैं। साथ ही डेथ ओवर्स में ब्रावो CSK के लिए सबसे बड़ा प्लस पॉइंट हैं।

वीकनेस

  • विदेशी ओपनर की कमी: चेन्नई के पास ओपनिंग के लिए ऋतुराज गायकवाड, अंबाती रायडू, रॉबिन उथप्पा और डेवोन कॉनवे जैसे नाम हैं। विदेशी ओपनर के तौर पर टीम में केवल कॉनवे का नाम नजर आता है। कॉनवे बड़ी पारियां खेलने के लिए जाने जाते हैं, लेकिन अगर वह आउट ऑफ फॉर्म रहे, तो धोनी के लिए दिक्कत हो सकती है।
  • अनुभवी लेग स्पिनर नहीं: टीम के पास रवींद्र जडेजा और मोइन अली जैसे ऑफ ब्रेक स्पिन गेंदबाज हैं, लेकिन टीम के पास कोई अच्छा लेग स्पिनर नजर नहीं आता। IPL में लेग स्पिनर कमाल का प्रदर्शन करते आए हैं। युजवेंद्र चहल और राशिद खान ने गुच्छे में विकेट लेकर दिखाया है।

कौन बनेगा कैप्टन ऑफ कैप्टंस: रोहित-धोनी को मिल सकती है पंत-अय्यर से चुनौती; KKR, RCB और पंजाब का लीडर नया होगा

3. राजस्थान रॉयल्स​​​​​​​​​​​​​​

IPL इतिहास की पहली चैंपियन टीम राजस्थान रॉयल्स इस बार नए तेवर के साथ नजर आएगी। आगामी सीजन के लिए टीम ने 3 खिलाड़ियों, संजू सैमसन (14 करोड़), जोस बटलर (10 करोड़) और यशस्वी जयसवाल (4 करोड़) को रिटेन किया था। मेगा ऑक्शन के दौरान टीम ने कई बड़े खिलाड़ियों को अपने साथ जोड़ा है। इस बार राजस्थान रॉयल के मैनेजमेंट ने टीम को और बेहतर बनाने के लिए 89.05 करोड़ में 21 धाकड़ खिलाड़ियों को खरीदा है।

स्ट्रेंथ

  • स्पिन डिपार्टमेंट में मजबूती: टीम के पास युजवेंद्र चहल, आर अश्विन और केसी करियप्पा जैसे स्पिनर्स मौजूद हैं। चहल और अश्विन टीम इंडिया के लिए टी-20 क्रिकेट में लीडिंग विकेट टेकर्स में से एक हैं। साथ ही केसी करियप्पा भी इस फॉर्मेट के कंजूस गेंदबाज माने जाते हैं।
  • बल्लेबाजों में अनुभव: इस बार टीम के पास सैमसन और बटलर के अलावा देवदत्त पडिकल, शिमरोन हेटमायर, करुण नायर और रैसी वान डेर डूसेन जैसे नाम शामिल हैं। पहले टीम 2 से 3 खिलाड़ियों पर निर्भर रहती थी, लेकिन ऑक्शन में इन नामों के जुड़ने के बाद टीम की ये कमी दूर हो गई है।

वीकनेस

  • ​​​​​फिनिशर की कमी: टीम के पास फिनिशर की कमी है। हेटमायर और जिमी नीशम भले ही टीम के साथ हैं, लेकिन ये खिलाड़ी अब तक IPL में एक फिनिशर के रूप में खुद को स्थापित नहीं कर पाए हैं।

4. कोलकाता नाइट राइडर्स​​​​​​​​​​​​​​

कोलकाता नाइट राइडर्स IPL की सबसे ग्लैमरस टीमों में से एक है। टीम अभी तक दो बार 2012 और 2014 में IPL की ट्रॉफी जीत चुकी है। इस बार कोलकाता ने आंद्रे रसेल (12 करोड़), वरुण चक्रवर्ती (8 करोड़), वेंकटेश अय्यर (8 करोड़) और सुनील नरेन (6 करोड़) को रिटेन किया था और ऑक्शन में टीम ने बढ़िया खरीदारी की।

टीम ने श्रेयस अय्यर, एलेक्स हेल्स, अजिंक्य रहाणे, नीतीश राणा, पैट कमिंस, मो. नबी, शिवन मावी, उमेश यादव और टिम साउदी जैसे खिलाड़ी खरीदे। KKR ने अय्यर को 12.25 करोड़ में खरीदा और आगामी सीजन वही टीम के कप्तान के तौर पर नजर आ सकते हैं। आइए जानते इस बार ऑक्शन के बाद टीम की क्या मजबूती है और क्या कमजोरियां सामने आती हैं।

स्ट्रेंथ

  • पॉवर हिटर: KKR के पास आंद्रे रसेल, सुनील नरेन और वेंकटेश अय्यर जैसे पॉवर हिटर मौजूद हैं। ये तीनों खिलाड़ी बड़े शॉट्स लगाने के लिए जाने जाते हैं और टी-20 क्रिकेट में इनका स्ट्राइक रेट भी काफी शानदार रहा है।

वीकनेस​​​​​​​

विकेटकीपर की कमी: कोलकाता ने ऑक्शन में केवल 2 विकेटकीपर खरीदे। शेल्डन जैक्सन और सैम बिलिंग्स। ये दोनों ही मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज हैं। बिलिंग्स टी-20 स्पेशलिस्ट हैं, लेकिन उनके साथ फिटनेस की बहुत समस्या रहती है। वहीं, जैक्सन को टी-20 स्पेशलिस्ट नहीं माना जाता। अगर दोनों में से कोई एक खिलाड़ी चोटिल या खराब फॉर्म के कारण टीम से ड्रॉप भी हो जाता है, तो इसका टीम पर बहुत असर पड़ेगा।

5. पंजाब किंग्स​​​​​​​​​​​​​​

पंजाब किंग्स ने इस बार मेगा ऑक्शन से पहले केवल दो खिलाड़ियों ओपनर मयंक अग्रवाल (12 करोड़) और अनकैप्ड तेज गेंदबाज अर्शदीप सिंह (4 करोड़) को रिटेन किया था और नीलामी में सबसे बड़ी पर्स वैल्यू 72 करोड़ के साथ उतरी थी। ऑक्शन खत्म होने के बाद टीम के पास 3.45 करोड़ बचे।

स्ट्रेंथ

  • दमदार मिडिल ऑर्डर और फिनिशर: टीम के पास मिडिल ऑर्डर में लियाम लिविंगस्टन, शाहरुख खान, भानुका राजपक्षे और ओडीयन स्मिथ जैसे नाम हैं। ये खिलाड़ी तेजी से रन बनाने के लिए जाने जाते हैं और जरूरत पड़ने पर पारी को संभाल भी सकते हैं। इनके अलावा अंडर-19 WC में 252 रन बनाने वाले राज बावा भी टीम के लिए फिनिशर की भूमिका निभा सकते हैं।
  • तेज गेंदबाजी में दमखम: कगिसो रबाडा के जुड़ने के साथ टीम का पेस अटैक मजबूत हुआ है। रबाडा के अलावा टीम के पास अर्शदीप सिंह और संदीप शर्मा जैसे नाम भी हैं। साथ ही हरप्रीत बरार और ईशान पोरेल भी लगातार घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करते आ रहे हैं।

वीकनेस

  • स्पिनर्स की कमी: PBKS का स्पिन डिपार्टमेंट बहुत कमजोर नजर आता है। राहुल चाहर को टीम ने जरूर खरीदा है, लेकिन उनका साथ देने के लिए जो नाम है उनके पास अनुभव की कमी है। ऋतिक चटर्जी अनकैप्ड खिलाड़ी हैं और शाहरुख भी ज्यादा गेंदबाजी नहीं करते हैं। हां, चाहर का साथ लिविंगस्टन निभा सकते हैं, लेकिन उनके पास भी अनुभव की कमी हैं।

6. सनराइजर्स हैदराबाद

IPL 2022 के लिए ऑरेंज आर्मी सनराइजर्स हैदराबाद भी तैयार है। टीम ने मेगा ऑक्शन के पहले 3 खिलाड़ियों केन विलियमसन (14 करोड़), अब्दुल समद (4 करोड़) और उमरान मलिक (4 करोड़) को रिटेन किया था। टीम की कप्तानी इस बार भी कीवी दिग्गज विलियमसन के पास ही रहेगी।

स्ट्रेंथ

टीम के पास रफ्तार के सौदागर: SRH ने ऑक्शन में बढ़िया तेज गेंदबाज चुने हैं। भुवनेश्वर कुमार पर फ्रेंचाइजी ने फिर से भरोसा जताया। इसके अलावा कार्तिक त्यागी, टी नटराजन, मार्को येन्सन, शॉन एबट, उमरान मलिक, फजलहक फारूकी टीम से जुड़े हैं। ये सभी गेंदबाज 140+ की स्पीड से बॉलिंग कर सकते हैं।
स्पिन + फिनिशर: टीम के पास वॉशिंगटन सुंदर, अभिषेक शर्मा और अब्दुल समद 3 ऐसे खिलाड़ी हैं जो स्पिन के साथ-साथ मैच फिनिश करने की क्षमता भी रखते हैं। वॉशिंगटन के पास टीम इंडिया के लिए खेलने का भी अनुभव है और वह टॉप ऑर्डर से लेकर मिडिल ऑर्डर तक कहीं भी बैटिंग कर सकते हैं। साथ ही समद और अभिषेक भी बड़े हिट लगाने के अलावा पार्ट टाइम स्पिन भी सक सकते हैं।

वीकनेस

केन गए तो क्या होगा: टीम टॉप ऑर्डर में कैप्टन विलियमसन पर निर्भर करती है। केन अगर किसी एक मैच नहीं खेले, तो टीम का पूरा टॉप ऑर्डर लड़खड़ा सकता है।

7. गुजरात टाइटन्स ​​​​​​​​​​​​​​

​​​​​IPL में इस बार नई टीम गुजरात टाइटन्स की एंट्री होने जा रही है। टीम की कमान हार्दिक पंड्या की पास रहेगी। ऑक्शन से पहले अहमदाबाद की टीम ने हार्दिक के आलावा राशिद खान और शुभमन गिल को साइन किया था। मेगा ऑक्शन के दौरान भी टीम ने बढ़िया खिलाड़ी अपने साथ जोड़े।

स्ट्रेंथ

टीम के पास अच्छे ऑलराउंडर: गुजरात टीम के पास काफी अच्छे ऑलराउंडर मौजूद हैं। हार्दिक के अलावा डॉमिनिक ड्रेक्स, विजय शंकर और राहुल तेवतिया टीम का हिस्सा हैं। ये तीनों खिलाड़ी पारी को बनाने के साथ-साथ फिनिशर्स का रोल भी प्ले कर सकते हैं। ये तीनों प्लेयर्स गेंदबाजी में अपने कोटे के 4 ओवर भी डाल सकते हैं।
गेंदबाजी में अनुभव: गुजरात की पेस बॉलिंग में भी अनुभव नजर आता है। टीम के पास मोहम्मद शमी, लॉकी फर्ग्यूसन और अल्जारी जोसेफ जैसे नाम हैं। तीनों खिलाड़ियों ने IPL के पिछले कुछ सीजन में कमाल का प्रदर्शन किया है।

वीकनेस

बैटिंग में बड़े भारतीय नामों की कमी: टीम के पास बल्लेबाजी में एक भी बड़ा भारतीय नाम मौजूद नहीं है। गिल के अलावा टीम ने अनकैप्ड अभिनव सदरांगनी और साई सुदर्शन पर दांव लगाया। दोनों प्लेयर्स के पास अनुभव की कमी है और घरेलू स्तर पर दोनों बहुत कम मैच खेले हैं।

8. लखनऊ सुपर जायंट्स​​​​​​​​​​​​​​

IPL से जुड़ने वाली दूसरी नई टीम लखनऊ सुपर जायंट्स है। मेगा ऑक्शन से पहले टीम ने 3 खिलाड़ियों को खरीदा था। इनमें कप्तान केएल राहुल (17 करोड़), ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर मार्कस स्टोइनिस (9.2 करोड़) और अनकैप्ड भारतीय स्पिनर रवि बिश्नोई (4 करोड़) के नाम शामिल थे। इन्होंने भी ऑक्शन में बढ़िया टीम खड़ी की।

टीम ने ऑक्शन में मनीष पांडे, एविन लुइस, कृष्णप्पा गौतम, क्विंटन डिकॉक, दीपक हुड्डा, क्रुणाल पंड्या, आवेश खान जैसे नाम खरीदे हैं। चलिए जानने की कोशिश करते हैं कि इस टीम की क्या कमजोरियां रही और क्या फायदे का सौदा सामने आया।

स्ट्रेंथ

ऑलराउंडर से सजी टीम: टीम के पास नामी ऑलराउंडर खिलाड़ी शामिल हैं। होल्डर, स्टोइनिस, क्रुणाल पंड्या, दीपक हुड्डा, के. गौतम जैसे प्लेयर्स को टीम का हिस्सा बनाया। ये सभी खिलाड़ी गेंद और बल्ले से मैच की तस्वीर को बदलने में माहिर हैं।

वीकनेस

कमजोर स्पिन डिपार्टमेंट: टीम का स्पिन डिपार्टमेंट बहुत कमजोर है। बिश्नोई को टीम ने ऑक्शन से पहले ही साइन कर लिया था। नीलामी के दौरान टीम ने शाहबाज नदीम और क्रुणाल को टीम का हिस्सा बनाया, लेकिन ये काफी महंगे साबित होते रहे हैं।

9. दिल्ली कैपिटल्स ​​​​​​​​​​​​​​

दिल्ली कैपिटल्स पिछले कुछ सालों में IPL की सबसे कामयाब टीमों में से एक रही है। हालांकि, अभी तक दिल्ली की टीम ने एक बार भी ट्रॉफी अपने नाम नहीं की है, लेकिन टीम ने अपने प्रदर्शन से सभी को खासा प्रभावित किया है। पिछले सीजन में टीम को प्लेऑफ तक लेकर जाने वाले ऋषभ पंत इस बार भी कप्तानी करते नजर आएंगे।

स्ट्रेंथ

विस्फोटक ओपनिंग पेयर: टीम के पास डेविड वार्नर और पृथ्वी शॉ जैसे ओपनिंग पेयर हैं। ये दोनों खिलाड़ी तेजी से रन बनाने में यकीन रखते हैं और पॉवरप्ले में ये जोड़ी विपक्षी टीमों के सिर में दर्द कर सकती है।

वीकनेस

एनरिक नोर्त्या की फिटनेस: टीम ने अफ्रीकी पेसर एनरिक नोर्त्या को रिटेन किया था, लेकिन दिल्ली के लिए सबसे बड़ा कमजोर पक्ष नोर्त्या की फिटनेस हो सकती है। नोर्त्या फिलहाल हिप इंजरी से परेशान हैं। सीजन के दौरान भी अगर वह फिट नहीं हो पाते हैं, तो टीम के लिए बुरी खबर रहेगी।

10. रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (RCB) भी IPL की सबसे चर्चित टीमों में से एक है। मेगा ऑक्शन से पहले टीम ने 3 खिलाड़ियों को रिटेन किया था। इनमें विराट कोहली (15 करोड़), ग्लेन मैक्सवेल (11 करोड़) और मोहम्मद सिराज (7 करोड़) के नाम शामिल थे। हालांकि, टीम का कैप्टन कौन होगा ये तय नहीं है। ऑक्शन में फाफ डु प्लेसिस को बेंगलुरु की टीम ने 7 करोड़ में खरीदा है। जिनका कैप्टन बनना तय नजर आता है।

स्ट्रेंथ

सलामी बल्लेबाज मजबूत: रॉयल चैंलेजर्स का सबसे मजबूत पक्ष सलामी बल्लेबाजी है। टीम के पास विराट कोहली, फाफ डु प्लेसिस के रूप में दो अनुभवी बल्लेबाज हैं। दोनों खिलाड़ियों ने IPL के इतिहास में अपने बल्ले से खूब रन बरसाए हैं। इसका फायदा टीम को मिलने वाला है।

वीकनेस

अच्छा लेग स्पिनर नहीं: ऑक्शन में बेंगलुरु की टीम ने युजवेंद्र चहल जैसे कमाल के लेग स्पिनर को खो दिया। वहीं, उनकी जगह कोई गेंदबाज नहीं खरीद पाई जिससे टीम का स्पिन डिपार्टमेंट काफी कमजोर हो गया है।

खबरें और भी हैं...