क्रिकेट / मियांदाद ने कहा- वसीम अकरम को कोच बनाओ; डिजिटल कोचिंग हमारे काम की नहीं



जावेद मियांदाद ने कहा है कि वसी अकरम को पाकिस्तान का नया कोच बनाया जाना चाहिए। (फाइल) जावेद मियांदाद ने कहा है कि वसी अकरम को पाकिस्तान का नया कोच बनाया जाना चाहिए। (फाइल)
X
जावेद मियांदाद ने कहा है कि वसी अकरम को पाकिस्तान का नया कोच बनाया जाना चाहिए। (फाइल)जावेद मियांदाद ने कहा है कि वसी अकरम को पाकिस्तान का नया कोच बनाया जाना चाहिए। (फाइल)

  • जावेद मियांदाद के मुताबिक, दूसरे देश हमारे महान खिलाड़ियों से सीखकर आगे बढ़े
  • विश्व कप के बाद पाकिस्तान के हेड कोच मिकी ऑर्थर का कार्यकाल खत्म हो चुका है

Dainik Bhaskar

Aug 01, 2019, 01:50 PM IST

खेल डेस्क. पाकिस्तान के पूर्व कप्तान जावेद मियांदाद ने देश के अगले क्रिकेट कोच के लिए वसीम अकरम का नाम सुझाया है। मियांदाद के मुताबिक, विदेशी कोच डिजिटल तरीके से कोचिंग करते हैं और ये पाकिस्तान के खिलाड़ियों के लिए सही नहीं है। जावेद ने सरफराज अहमद को ही कप्तान बनाए रखने का का भी सुझाव दिया है। उनके मुताबिक, सरफराज को अभी हटाया जाना सही नहीं होगा क्योंकि अब तो वे कप्तान के तौर पर मैच्योर हुए हैं। बता दें कि शुक्रवार को पीसीबी की एक अहम मीटिंग होने वाली है। इसमें कप्तान और कोच के मामले में फैसला हो सकता है। इस मीटिंग में टीम के विश्व कप में खराब प्रदर्शन की समीक्षा भी होगी। 

 

हुनर का इस्तेमाल करें
पाकिस्तान के एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में इस पूर्व बल्लेबाजों ने नेशनल टीम को लेकर कई सुझाव दिए। उन्होंने कहा, “हमारे पास वसीम अकरम जैसे कई महान खिलाड़ी हैं। इनके हुनर का इस्तेमाल कई देशों ने किया और अपने खिलाड़ियों का हुनर बेहतर किया। हम क्यों ऐसा नहीं कर सकते। मेरा सवाल है कि हम क्यों अपने महान खिलाड़ियों की मदद नहीं लेते। अकरम को पाकिस्तान टीम का कोच बनाया जाना चाहिए।” 

 

ग्रामीण क्षेत्र से आते हैं प्लेयर्स
मियांदाद ने विदेशी कोच बनाए जाने का विरोध किया। उन्होंने कहा, “हमें डिजिटल कोचिंग की जरूरत नहीं है क्योंकि ये हमारे प्लेयर्स के लिए सही नहीं है। हमारे ज्यादातर खिलाड़ी ग्रामीण पृष्ठभूमि से आते हैं। उनके पास लैपटॉप या कम्प्यूटर्स नहीं होते। विदेशी कोच से उनकी संवादहीनता होती है। हमें जिला स्तर पर अच्छे कोच चाहिए। ट्रेनर विदेशी हो सकते हैं लेकिन राष्ट्रीय कोच तो पाकिस्तानी ही होना चाहिए। क्योंकि, वो अपने प्लेयर्स को ज्यादा बेहतर तरीके से ट्रेंड कर सकता है।” 

 

पाकिस्तान में हालात अलग
मियांदाद ने आगे कहा, “कई देशों में डिजिटल कोचिंग होती है। लेकिन, आपको यह याद रखना होगा कि दूसरे देशों के और हमारे हालात में बहुत फर्क है। हमें सीनियर लेवल पर अच्छे ट्रेनर चाहिए और वो विदेशी हो सकते हैं लेकिन कोच देश का ही होना चाहिए। हम अपनी क्रिकेट अकादमी में ट्रेनर रख सकत हैं लेकिन वो भी हमारे देशी कोच के अंतर्गत आने चाहिए। जहां तक कप्तानी की बात है तो सरफराज अब काफी मैच्योर हो चुका है। जब वो सीख चुका है तो अब उसको हटाने का कोई मतलब नहीं है।”

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना