धोनी की टीम इंडिया में हो सकती है वापसी:BCCI का प्लान- धोनी फियरलेस स्किल्स सिखाएं, मकसद- टी-20 टीम आक्रामक बने

स्पोर्ट्स डेस्क14 दिन पहले

BCCI बिना वर्ल्ड कप खिताब के देश लौटी टी-20 टीम को बदलने की योजना बना रहा है। बोर्ड की योजना में 2007 का खिताब जिताने वाले महेंद्र सिंह धोनी का भी रोल है। बोर्ड टी-20 टीम को आक्रामक बनाने के लिए धोनी को फिर टीम से जोड़ सकता है। बोर्ड टी-20 वर्ल्ड कप 2021 में भी धोनी को मेंटॉर के तौर पर टीम के साथ भेज चुका है।

द टेलीग्राफ की रिपोर्ट में ये दावा किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक BCCI इंग्लैंड की तरह फियरलेस क्रिकेट खेलने वाली टीम बनाना चाहता है। इसमें वो धोनी की एक्सपर्ट स्किल्स की मदद लेने पर विचार कर रहा है और जल्द ही फैसला भी लेगा।

भारतीय क्रिकेट में बदलाव को लेकर BCCI और भी कई पॉइंट्स पर विचार कर रहा है। जानिए BCCI का फ्यूचर प्लान-

1. टी-20 और वनडे WC जिताने वाले धोनी को बड़ा रोल
रिपोर्ट के मुताबिक धोनी को BCCI बड़ी जिम्मेदारी सौंप सकता है। उन्हें लिमिटेड ओवर यानी टी-20 और वनडे के लिए कोच या डायरेक्टर भी बनाया जा सकता है।

टीम इंडिया ने 1983 में कपिल देव की कप्तानी में पहली बार वनडे वर्ल्ड कप जीता था। इसके बाद धोनी की कप्तानी में 2011 में यह खिताब हमारे देश के पास आया। इसके अलावा पहला टी-20 वर्ल्ड कप भी धोनी की कप्तानी में ही जीता गया था। एमएस ने 15 अगस्त 2020 को वनडे और टी-20 से संन्यास ले लिया था। उन्होंने 30 दिसंबर 2014 को ऑस्ट्रेलिया में आखिरी टेस्ट खेलकर इस फॉर्मेट से भी संन्यास का ऐलान किया था।

फोटो 2007 में हुए पहले टी-20 वर्ल्ड कप फाइनल की है। तब धोनी की कप्तानी में इंडिया वर्ल्ड कप चैंपियन बनी थी। भारत ने फाइनल में पाकिस्तान को हराया था।
फोटो 2007 में हुए पहले टी-20 वर्ल्ड कप फाइनल की है। तब धोनी की कप्तानी में इंडिया वर्ल्ड कप चैंपियन बनी थी। भारत ने फाइनल में पाकिस्तान को हराया था।

2. टी-20 और वनडे टीमें अलग
BCCI इंग्लैंड की तर्ज पर लिमिटेड ओवर और टेस्ट की अलग-अलग टीम बनाने पर विचार कर रहा है। इतना ही नहीं, इन टीमों के लिए अलग-अलग कोचिंग स्टाफ भी अपॉइंट किया जा सकता है। अलग कोच पर इस महीने होने वाली मीटिंग में फैसला लिया जा सकता है।

3. हार्दिक टी-20 के रेगुलर कप्तान
BCCI के सोर्स पहले भी कह चुके हैं कि 2 साल बाद जून 2024 में होने वाले वर्ल्ड कप को लेकर बदलाव हो सकता है। हार्दिक पंड्या बोर्ड की चॉइस हैं। उन्हें नई टीम के साथ लंबे समय तक कप्तानी सौंपने पर विचार किया जा सकता है।

कड़े फैसलों का फायदा इंग्लैंड को मिला, BCCI भी उसी राह पर

टी-20 वर्ल्ड कप 2022 के सेमीफाइनल में इंडिया को इंग्लैंड के हाथों हार मिली। इंडिया 168 का स्कोर डिफेंड नहीं कर पाई। इंग्लैंड के ओपनर्स बटलर और हेल्स ने 10 विकेट से जीत दिलाई।
टी-20 वर्ल्ड कप 2022 के सेमीफाइनल में इंडिया को इंग्लैंड के हाथों हार मिली। इंडिया 168 का स्कोर डिफेंड नहीं कर पाई। इंग्लैंड के ओपनर्स बटलर और हेल्स ने 10 विकेट से जीत दिलाई।

टी-20 वर्ल्ड कप जीत चुके इंग्लैंड ने अपनी क्रिकेट में काफी बदलाव किए हैं। इंग्लैंड की टीम 7 साल पहले वनडे वर्ल्ड कप में बांग्लादेश से हारी थी। वह क्वार्टर फाइनल में नहीं पहुंच पाई। इसके बाद इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ECB) ने कड़े फैसले लिए और बदलाव शुरू किए। जानिए क्या बदलाव किए गए...

  • एंड्र्यू स्ट्रॉस बोर्ड के बॉस बने। उन्होंने इयॉन मॉर्गन और कोच ट्रेवर बेलिस को टीम को दोबारा बनाने की जिम्मेदारी सौंपी।
  • इंग्लैंड ने टी-20, वनडे और टेस्ट के लिए अलग-अलग कप्तान और कोच अपॉइंट किए हैं।
  • जोस बटलर टी-20 और वनडे कप्तान हैं। मैथ्यू मोट कोच हैं। बेन स्टोक्स टेस्ट टीम के कैप्टन हैं और ब्रेंडन मैकुलम कोच हैं।
  • मॉर्गन को टीम को दोबारा खड़ा करने का श्रेय दिया जाता है तो बटलर-मोट की जोड़ी को आज की आक्रामक टीम बनाने का।
इसी साल 13 नवंबर को जोस बटलर की अगुआई में इंग्लैंड की टीम ने टी-20 वर्ल्ड कप जीता। बटलर की टीम ने पाकिस्तान को हराया।
इसी साल 13 नवंबर को जोस बटलर की अगुआई में इंग्लैंड की टीम ने टी-20 वर्ल्ड कप जीता। बटलर की टीम ने पाकिस्तान को हराया।

अब वेस्टइंडीज और USA में 2024 में होने वाले वर्ल्ड कप के लिए BCCI भी इंग्लिश बोर्ड की तर्ज पर बदलाव करेगा...

बोर्ड की नजर में अब 2023 वनडे वर्ल्ड कप, 2024 टी-20 वर्ल्ड कप
2023 में वनडे वर्ल्ड कप भारत में ही खेला जाना है। इसके बाद 2024 में टी-20 वर्ल्ड कप अमेरिका और वेस्टइंडीज में होना है। ऐसे में वनडे के लिए करीब 1 साल और टी-20 वर्ल्ड कप के लिए 2 साल बचे हैं। टीम मैनेजमेंट चाहता है कि इन दोनों वर्ल्ड कप के लिए नए सिरे से टीम तैयार की जाए। इसके लिए अभी से तैयारियां की जा रही हैं।

कुंबले की एक्सपर्ट राय, अलग-अलग टीमें...टी-20 में ऑलराउंडर ज्यादा हों

पूर्व भारतीय कोच अनिल कुंबले भी अलग-अलग टीमों के फेवर में हैं। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था- अब समय आ गया है कि भारत में भी टेस्ट और लिमिटेड ओवर की टीमें पूरी तरह से अलग-अलग हों। टी-20 में टी-20 स्पेशलिस्ट हों और आपकी टीम में ज्यादा से ज्यादा ऑलराउंडर हों। कुंबले ने और किन बदलावों की बात की, जानने के लिए क्लिक करें...

टीम इंडिया के मुकाबले इंग्लैंड में दोगुने ऑलराउंडर

टी-20 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया में कई खामियां नजर आई। टीम के पास जहां ऑलराउंडर्स की कमी थी, वहीं हमारी ओपनिंग पेयर काफी कमजोर दिखी। खिताब जीतने वाले इंग्लैंड के पास आखिरी तक बल्लेबाजी करने वाले खिलाड़ी थे। पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें।

अब बदलेगी इंडिया की टी-20 टीम...

इंग्लैंड से सेमीफाइनल में शर्मनाक हार के बाद इंडिया की टी-20 स्क्वॉड में बदलाव होगा। सीनियर खिलाड़ी टी-20 टीम से बाहर हो सकते हैं। BCCI के सोर्स ने कहा- अगले एक साल में टी-20 टीम में काफी बदलाव देखने को मिलेंगे। रोहित शर्मा, विराट कोहली, दिनेश कार्तिक और आर अश्विन जैसे खिलाड़ी धीरे-धीरे बाहर हो जाएंगे। पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें।