• Hindi News
  • Sports
  • Novak Djokovic Is Kept In Melbourne Park Hotel Due To Vaccine Controversy Many Have Been Kept Here For Years

जोकोविच होटल में हैं या जेल में:वैक्सीन विवाद के कारण मेलबर्न के पार्क होटल में रखे गए हैं जोकोविच, कई शरणार्थी यहां सालों से बंद

नई दिल्ली4 महीने पहले

वर्ल्ड नंबर-1 टेनिस खिलाड़ी नोवाक जोकोविच और ऑस्ट्रेलिया की सराकर के बीच वैक्सीन नियमों को लेकर चल रही तकरार खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। डिफेंडिंग चैंपियन जोकोविच बिना कोरोना वैक्सीन लगवाए ऑस्ट्रेलियन ओपन खेलने मेलबर्न पहुंच गए हैं।

ऑस्ट्रेलिया ने उनका वीजा कैंसिल कर दिया है और तब से जोकोविच मेलबर्न में पार्क इन नाम के होटल में रखे गए हैं। इस होटल को इमिग्रेशन मामले में अटके लोगों का जेल भी कहा जाता है। यानी यहां ऐसे लोग रखे जाते हैं जो वीजा, पासपोर्ट से जुड़े मामलों में फंसे होते हैं या ऑस्ट्रेलिया में शरण की उम्मीद में घुस आए होते हैं। ऑस्ट्रेलियन ओपन 17 जनवरी से शुरू हो रहा है।

32 लोग इस होटल में इस समय बंद
होटल पार्क में इस समय अलग-अलग देशों के 32 लोग बंद हैं। इनमें कुछ तो कई वर्षों से बंद हैं। इन्हें बिना अनुमति के बाहर जाने की इजाजत नहीं होती। छोटे कमरे में रहना पड़ता है और यहां के चप्पे-चप्पे पर गार्ड का पहरा होता है। यहां रखे गए लोगों ने कई बार खाने में कीड़े होने और कमरा गंदा होने की शिकायत की है।

वैक्सीन लगवाना नहीं चाहते जोकोविच, टूर्नामेंट खेलने पर अड़े
जोकोविच के लिए ऑस्ट्रेलियन ओपन काफी लकी साबित हुआ है। उन्होंने अब तक 20 ग्रैंड स्लैम जीते हैं जिनमें नौ ऑस्ट्रेलियन ओपन टाइटल शामिल हैं। पिछली बार भी वे यहां से चैंपियन बन कर लौटे थे। इसलिए जोकोविच हर हाल में यह टूर्नामेंट खेलना चाहते हैं। हालांकि, वैक्सीन न लगवाने की उनकी जिद और ऑस्ट्रेलिया के कड़े वैक्सीन नियम उनके एक बार फिर विजेता बनने की राह में बाध बन गए हैं।

जोकोविच जिद पर अड़े हैं कि वे बिना वैक्सीन लगवाए भी खेलने के अधिकारी हैं। वहीं, ऑस्ट्रेलिया की सरकार का कहना है कि किसी एक इंसान के लिए नियम नहीं बदले जा सकते। यह पूरे देश की महामारी से सुरक्षा का मामला है। जिन लोगों ने वैक्सीन नहीं लगवाई है उन्हें ऑस्ट्रेलिया में घुसने की इजाजत नहीं है। साथ ही क्वॉरैंटाइन नियम भी काफी सख्त हैं।

जोकोविच के लिए सपोर्ट और विरोध दोनों भरपूर
जोकोविच को इस मामले में दुनिया के अलग-अलग हिस्सों से सपोर्ट और विरोध दोनों हासिल हो रहे हैं। सपोटर्स का कहना है कि कोई नियम इतना सख्त नहीं होना चाहिए। अगर जोकोविच को कोरोना नहीं है और वे दूसरों को लिए खतरा नहीं हैं तो उन्हें खेलने का मौका मिलना चाहिए। जोकोविच कहते हैं कि वे पहले कोरोना ग्रस्त हो चुके हैं। इसलिए उनके लिए वैक्सीन जरूरी नहीं होनी चाहिए। वहीं, दूसरे तबके का कहना है कि जोकोविच जैसे लोग वैक्सीन विरोधी मुहिम का हिस्सा हैं। वैक्सीन कोरोना को मात देने के लिए जरूरी है और ऐसे सेलिब्रिटी अगर विरोध करेंगे तो गलत संदेश जाएगा।

होटल के चुनाव का भारी विरोध
जोकोविच को जेल जैसे होटल में रखने का बहुत ज्यादा विरोध हो रहा है। इस विरोध में वे लोग भी शामिल हैं जो जोकोविच के वैक्सीन विरोधी रुख को गलत ठहराते हैं। उनका कहना है कि एक टेनिस खिलाड़ी के साथ अच्छा व्यवहार किया जाना चाहिए। जोकोविच ने होटल में कीड़े होने की शिकायत की थी और यह मांग रखी थी कि उन्हें किसी किराए के अपार्टमेंट में जाने की इजाजत मिले। हालांकि, ऑस्ट्रेलिया के अधिकारियों ने यह मांग ठुकरा दी।

छूट लेने के लिए कोर्ट जाएंगे जोकोविच
जोकोविच फोन और इंटरनेट के जरिए अपने वकीलों के संपर्क में हैं और वैक्सीन से छूट हासिल करने के लिए ऑस्ट्रेलिया की अदालत का दरवाजा खटखटाने वाले हैं। ऐसी स्थिति में अभी अगले कुछ दिनों तक उन्हें इसी होटल में रुकना पड़ सकता है। अदालत उन्हें दूसरी जगह शिफ्ट करने का आदेश दे तो बात अलग है।