पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • On 20th June 3 Icons Of Indian Cricket Sourav Ganguly, Rahul Dravid And Virat Kohli Made Their Test Debuts

भारतीय क्रिकेट के लिए आज का दिन खास:1996 में गांगुली और द्रविड़, तो 2011 में कोहली ने किया था टेस्ट डेब्यू, तीनों दिग्गज कप्तान भी बने

मुंबई3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारतीय क्रिकेट के लिए 20 जून का दिन बेहद खास है। आज के दिन भारत के 3 दिग्गज क्रिकेटरों ने टेस्ट में डेब्यू किया था। सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ ने 1996 में एक साथ इंग्लैंड के खिलाफ डेब्यू किया। वहीं, 2011 में विराट कोहली ने वेस्टइंडीज के खिलाफ पहला टेस्ट खेला था। तीनों क्रिकेटर आगे चलकर भारत के कप्तान भी बने।

गांगुली ने डेब्यू टेस्ट में शतक जमाया था
गांगुली और द्रविड़ को इंग्लैंड के खिलाफ 1996 में लॉर्ड्स टेस्ट में मौका मिला। इन दोनों ने इस मौके का जमकर फायदा उठाया था। इंग्लैंड की टीम ने पहली पारी में 344 रन बना पाई थी। इसके जवाब में भारत ने 25 रन पर ओपनर विक्रम राठौड़ का विकेट गंवा दिया था। इसके बाद डेब्यूटांट गांगुली मैदान पर आए और इतिहास रच दिया। उन्होंने डेब्यू टेस्ट की पहली पारी में शतक जमाया।

इंग्लैंड के खिलाफ डेब्यू टेस्ट में गांगुली और द्रविड़।
इंग्लैंड के खिलाफ डेब्यू टेस्ट में गांगुली और द्रविड़।

द्रविड़ ने डेब्यू टेस्ट में 95 रन बनाए थे
202 रन तक भारत ने 5 विकेट गंवा दिए थे। इसके बाद 7वें नंबर पर द्रविड़ बल्लेबाजी के लिए उतरे। उन्होंने गांगुली के साथ 94 रन की पार्टनरशिप की। गांगुली 131 रन बनाकर एलन मुलाली की बॉल पर आउट हुए। वहीं, द्रविड़ 95 रन बनाकर क्रिस लुइस की बॉल पर जैक रसेल को कैच थमा दिया। गांगुली ने इस टेस्ट में शतक जमाने के साथ-साथ 3 विकेट भी लिए थे।

5 साल टीम इंडिया के कप्तान रहे गांगुली
गांगुली 2000 से लेकर 2005 तक टेस्ट कैप्टन भी रहे। उन्होंने 49 टेस्ट में टीम इंडिया की कप्तानी की। इसमें से 21 टेस्ट में जीत मिली और 13 टेस्ट हारे। 15 टेस्ट ड्रॉ रहे। वहीं, द्रविड़ 2003 में पहली बार कैप्टन बने थे। वे 2007 तक इस पद पर बने रहे।

इंग्लैंड के खिलाफ डेब्यू टेस्ट में सेंचुरी लगाने के बाद सौरव गांगुली।
इंग्लैंड के खिलाफ डेब्यू टेस्ट में सेंचुरी लगाने के बाद सौरव गांगुली।

2012 में द्रविड़ ने आखिरी टेस्ट खेला था
द्रविड़ की कप्तानी में टीम इंडिया ने 25 टेस्ट खेले। इसमें से 8 में जीत मिली। वहीं, 6 टेस्ट में हार और 11 मैच ड्रॉ रहा। गांगुली ने आखिरी टेस्ट ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2008 में खेला था। वहीं, द्रविड़ ने आखिरी टेस्ट 2012 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था।

डेब्यू टेस्ट में शॉट लगाने राहुल द्रविड़।
डेब्यू टेस्ट में शॉट लगाने राहुल द्रविड़।

कोहली के नाम 7 डबल सेंचुरी का रिकॉर्ड
कोहली ने वेस्टइंडीज के खिलाफ 2011 में डेब्यू किया। उन्होंने अपनी पहली फिफ्टी विंडीज के खिलाफ ही सीरीज के चौथे टेस्ट में लगाई। वहीं, कोहली ने पहली सेंचुरी 2012 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लगाई थी। उन्होंने इस मैच में 116 रनों की पारी खेली थी। वे टेस्ट में भारत के छठे हाईएस्ट रन स्कोरर हैं। कोहली के नाम टेस्ट में सबसे ज्यादा 7 डबल सेंचुरी लगाने का रिकॉर्ड भी है।

टेस्ट में विराट के बेमिसाल 10 साल: 2011 में आज ही के दिन किया था डेब्यू, 7 साल उनकी कप्तानी में इंडिया बनी बेस्ट टीम; 10 पारियों ने बनाया किंग कोहली

2014 में टीम इंडिया के कप्तान बने थे कोहली
कोहली के नाम एक कैलेंडर ईयर में दो बार सबसे ज्यादा टेस्ट रन बनाने का रिकॉर्ड भी है। उन्होंने 2018 में 1322 रन और 2016 में 1215 रन बनाए थे। 2014 में महेंद्र सिंह धोनी के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर संन्यास लेने के बाद कोहली परमानेंट कप्तान बने थे। तब से लेकर अब तक उन्होंने 61 टेस्ट में टीम इंडिया की कप्तानी और सबसे सफल कप्तान बन गए। 61 में से भारत ने 36 टेस्ट जीते हैं। वहीं, 14 टेस्ट में टीम इंडिया को हार मिली। 10 टेस्ट ड्रॉ रहा है।

खबरें और भी हैं...