मोहम्मद हफीज ने लिया संन्यास:18 साल के इंटरनेशनल करियर का अंत, 6 टी-20 वर्ल्ड कप का रहे हिस्सा; 2018 में खेला था आखिरी टेस्ट मैच

6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पाकिस्तान के ऑलराउंडर और पूर्व कप्तान मोहम्मद हफीज ने क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट से संन्यास ले लिया है। 41 साल के हफीज ने पाकिस्तान के लिए 218 वनडे, 55 टेस्ट और 119 टी-20 मुकाबले खेले हैं। 2003 में जिम्बाब्वे के खिलाफ हफीज ने वनडे क्रिकेट में डेब्यू किया था। इसके बाद वो अगस्त 2003 में टेस्ट टीम का हिस्सा बने थे। वहीं, हफीज ने अपना पहला टी-20 मैच 2006 में खेला था। पाकिस्तान का ये दिग्गज खिलाड़ी 2021 में खेले गए टी-20 वर्ल्ड कप में टीम का हिस्सा था। उन्होंने अपना आखिरी मुकाबला सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था।

प्रोफेसर निकनेम से मशहूर हफीज ने पाकिस्तान के लिए वनडे में 11 शतकों की मदद से 6614 रन बनाए हैं। वहीं, उनके खाते में 139 विकेट भी हैं। 55 टेस्ट में 10 शतकों की मदद से इस खिलाड़ी ने 3652 रन बनाए हैं और 53 विकेट झटके हैं। 119 टी-20 मैचों में उन्होंने 2514 रन बनाए और 61 विकेट अपने नाम किए हैं।

18 साल का रहा करियर
मोहम्मद हफीज 18 साल से इंटरनेशनल क्रिकेट खेल रहे हैं। वह कई टी-20 लीग का भी थे। श्रीलंका प्रीमियर लीग, पाकिस्तान सुपर लीग और कैरिबियाई प्रीमियरलीग में भी इस खिलाड़ी ने कमाल का प्रदर्शन किया है। हालांकि, वो लीग क्रिकेट का हिस्सा होंगे या नहीं इस पर उनका कोई बयान नहीं आया है। काउंटी क्रिकेट, टी-20 लीग और घरेलू क्रिकेट मिलाकर हफीज 40 टीमों का हिस्सा रहे हैं।

6 टी-20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान क्रिकेट टीम हिस्सा
2007 से 2021 तक 7 टी-20 मैच खेले गएल हैं। हफीज 6 टी-20 वर्ल्ड कप में टीम का हिस्सा थे। इस दौरान 2009 में वे वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम का हिस्सा भी रहे। 2012 के टी-20 वर्ल्ड कप में वो टीम के कप्तान भी थे। पाकिस्तान की टीम इस वर्ल्ड कप में सेमीफाइनल तक पहुंची थी। उन्होंने टी-20 फॉर्मेट में 29 मैचों में कप्तानी की और 18 में टीम को जीत मिली।