• Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Pakistan China | Shahid Afridi Attacks On Narendra Modi, After Delete His Tweet ON PM Imran Khan, Over Uighur Uyghur Muslims in China

पाकिस्तान / शाहिद अफरीदी ने 4 दिन बाद उईगर मुस्लिमों वाला ट्वीट डिलीट किया, अब मोदी पर तंज किया

पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी (फाइल फोटो) पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी (फाइल फोटो)
X
पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी (फाइल फोटो)पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी (फाइल फोटो)

  • शाहिद ने 22 दिसंबर को किए ट्वीट में पीएम इमरान खान से चीन के उईगर मुसलमानों के मसले पर बोलने की अपील की थी
  • पाकिस्तान चीन से नाराजगी मोल नहीं लेना चाहता, इसलिए इस मुद्दे पर नहीं बोलता- अफरीदी ने अब यह ट्वीट हटा दिया है

दैनिक भास्कर

Dec 26, 2019, 05:32 PM IST

खेल डेस्क. शाहिद अफरीदी ने 22 दिसंबर का वो ट्वीट डिलीट कर दिया, जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री से चीन के उईगर मुस्लिमों पर हो रहे अत्याचारों का मामला उठाने को कहा था। माना जा रहा है कि शाहिद ने सेना और सरकार के दबाव में ट्वीट हटाया। इसकी वजह यह है कि पाकिस्तान सरकार चीन की नाराजगी से डरती है। इमरान खुद कभी इस मसले पर नहीं बोलते। अफरीदी ने उईगर मुस्लिमों वाले ट्वीट में इमरान और चीनी दूतावास को टैग किया था। बहरहाल, पाकिस्तान के इस पूर्व कप्तान ने अब भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज जरूर किया। एक ट्वीट में लिखा- मोदी का वक्त खत्म होता जा रहा है। उनकी हिंदू विचारधारा का भारत में ही विरोध होने लगा है।

ट्वीट डिलीट क्यों किया?

पाकिस्तान की मशहूर पत्रकार नायला इनायत ने शाहिद के 22 दिसंबर को उईगर मुस्लिमों पर किए ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर किया। साथ ही सवाल किया कि शाहिद को यह ट्वीट डिलीट करने के लिए किसने मजबूर किया। अफरीदी ने उस ट्वीट में प्रधानमंत्री इमरान के साथ ही चीनी दूतावास को भी टैग किया था। माना जा रहा है कि चीन की नाराजगी के डर से सेना और सरकार ने इस पूर्व ऑलराउंडर को ट्वीट डिलीट करने के लिए मजबूर किया।

क्या कहा था शाहिद ने?

शाहिद ने लिखा था, “उईगर मुस्लिमों पर हो रहे अत्याचार की खबरों से दिल दुखी है। मैं प्रधानमंत्री इमरान खान से अपील करता हूं कि वो इस बारे में जरूर बोलें। जब हम दुनियाभर के मुस्लिमों के बीच एकता की बात करते हैं तो इसमें हमारे चीन में रहने वाले उईगर भाई और बहनें भी शामिल हैं। मैं चीनी दूतावास से भी अपील करता हूं कि वो इस मसले पर मानवता का परिचय दें और वहां के मुस्लिमों के साथ उचित व्यवहार करें।”

मजबूरी में चुप है पाकिस्तान

इमरान ही नहीं, पाकिस्तान की पूर्व सरकारें भी उईगर मुस्लिमों के मुद्दे पर चुप रहीं। इसकी वजह ये है कि चीन इस वक्त पाकिस्तान का सबसे बड़ा साझेदार है। सीपेक और रक्षा समेत कई करोड़ डॉलर के प्रोजेक्ट पाकिस्तान में चीन के कर्ज से ही चल रहे हैं। कुछ महीने पहले इमरान अमेरिका दौरे पर थे। एक टॉक शो में उनसे उईगर मुस्लिमों से जुड़ा सवाल किया गया। जवाब में इमरान ने सिर्फ इतना कहा कि उन्हें इस मुद्दे पर कोई जानकारी नहीं है।
 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना