विज्ञापन

क्रिकेट / सचिन-विराट की तुलना नहीं हो सकती, दोनों महान खिलाड़ी; उनको गेंद नहीं फेंकना चाहता : वार्न

Dainik Bhaskar

Mar 15, 2019, 03:43 PM IST


सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली। सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली।
X
सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली।सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली।
  • comment

  • कहा- विराट और सचिन की क्लास अलग, दोनों में से सर्वश्रेष्ठ चुनना बहुत मुश्किल
  • जब विराट खेल रहे होते हैं, तब उन्हें जज करना बेहद कठिन : ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज स्पिनर
  • रिचर्ड्स और ब्रेडमैन के मुकाबले डेरियल कुलिनन के खिलाफ गेंदबाजी करना आसान

खेल डेस्क. सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली में कौन सर्वश्रेष्ठ है, इसे लेकर हमेशा बहस होती रहती है और यह अब भी जारी है। ताजा मामले में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज स्पिनर शेन वार्न ने अपनी राय जाहिर की है। वार्न का मानना है कि सचिन और विराट दोनों ही स्तरीय खिलाड़ी हैं। दोनों की तुलना नहीं हो सकती। वार्न ने कहा, ‘अगर मैं अपनी बात करूं तो मैं विराट और सचिन दोनों में से किसी को भी गेंद नहीं फेंकना चाहूंगा।’

विराट कोहली के रिकॉर्ड अद्भुत

  1. वार्न ने कहा, 'विराट और सचिन दोनों अलग-अलग शैली के बल्लेबाज हैं, लेकिन दोनों ही महान खिलाड़ी हैं। दोनों में से सर्वश्रेष्ठ चुनना बेहद कठिन है। अगर मुझसे पूछें तो मैं दोनों में से किसी को भी गेंद नहीं फेंकना चाहूंगा।'

  2. वार्न आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स टीम के ब्रांड एम्बेसडर हैं। 23 मार्च से आईपीएल का 12वां संस्करण शुरू होना है। इसके मद्देनजर राजस्थान टीम तैयारियों में जुटी है। वार्न भी प्रैक्टिस के दौरान टीम के खिलाड़ियों पर नजर बनाए हुए हैं।

  3. प्रैक्टिस के दौरान वार्न ने बताया, ‘जितना मैंने देखा है उसमें विवियन रिचर्ड्स वनडे क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज रहे हैं। कोहली का रिकॉर्ड भी अद्भुत है। जब वे खेल रहे होते हैं, तब उन्हें जज करना बहुत कठिन होता है।’

  4. वार्न ने कहा, ‘इसमें कोई शक नहीं कि डॉन ब्रेडमैन महान बल्लेबाज रहे हैं। रिचर्ड्स भी सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी रहे। यदि मुझे क्रिकेट के महान खिलाड़ियों में से किसी एक को गेंद फेंकने को कहेंगे, तो मैं इन दोनों के बजाय दक्षिण अफ्रीका के डेरियल कुलिनन को फेंकना चाहूंगा। उन्हें गेंद फेंकना आसान है।’

  5. लेग स्पिनर ने कहा, ‘सभी जानते हैं कि 90 के दशक में सचिन और ब्रॉयन लारा बेहतरीन खिलाड़ी रहे थे। हालांकि, करियर के अंतिम दौर में दोनों की फॉर्म अच्छी नहीं रही थी। हालांकि, 1994-95 में लारा-सचिन अपने चरम पर थे।’

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन