वर्ल्ड कप / गुप्टिल-स्टोक्स ओवरथ्रो विवाद की समीक्षा करेगी लॉ कमेटी, धर्मसेना ने माना था- फैसले में गलती हुई



बेन स्टोक्स मैन ऑफ द मैच बने थे। बेन स्टोक्स मैन ऑफ द मैच बने थे।
X
बेन स्टोक्स मैन ऑफ द मैच बने थे।बेन स्टोक्स मैन ऑफ द मैच बने थे।

  • मैच के आखिरी ओवर में गुप्टिल के ओवर-थ्रो पर इंग्लैंड को 6 रन मिले थे
  • गुप्टिल का थ्रो स्टोक्स के बल्ले से लगा था, उसके बाद गेंद बाउंड्री के बाहर चली गई थी

Dainik Bhaskar

Aug 13, 2019, 03:37 PM IST

खेल डेस्क. वर्ल्ड कप फाइनल में मार्टिन गुप्टिल के ओवर थ्रो को लेकर उठा विवाद अब मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) तक पहुंच गया है। एमसीसी क्रिकेट के कानूनों की संरक्षक संस्था है। वर्ल्ड क्रिकेट कमेटी (डब्ल्यूसीसी) ने फैसला किया कि एमसीसी इस मामले की सितंबर में समीक्षा करेगी। डब्ल्यूसीसी के पैनल में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व गेंदबाज शेन वॉर्न और श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमार संगकारा शामिल हैं।

 

पिछले महीने खेले गए फाइनल में इंग्लैंड को आखिरी ओवर में न्यूजीलैंड के खिलाफ ओवर थ्रो पर छह रन मिले थे। गुप्टिल का थ्रो बेन स्टोक्स के बल्ले से लगकर बाउंड्री के बाहर चला गया था। इस पर अंपायर ने इंग्लैंड को 4 रन दे दिए थे। दो रन बल्लेबाजों ने दौड़ कर बनाए थे। एमसीसी ने अपने बयान में कहा, ‘वर्ल्ड कप फाइनल विवाद को लेकर डब्ल्यूसीसी ने ओवर थ्रो के नियम 19.8 के बारे में चर्चा की। उन्हें लगता है कि नियम सही है, लेकिन इस मामले पर लॉ सब कमेटी सितंबर में समीक्षा करेगी।’

 

साइमन टॉफेल ने अंपायरों के निर्णय को गलता कहा था
अंपायरों के इस फैसले को आईसीसी के पूर्व अंपायर साइमन टॉफेल ने गलत करार दिया है। उन्होंने कहा कि आईसीसी के नियमों के मुताबिक, इस ओवर थ्रो पर इंग्लैंड को 5 रन ही मिलने चाहिए थे। जब गुप्टिल ने थ्रो फेंका था, तब स्टोक्स और रशीद एक रन पूरा कर चुके थे। हालांकि, जब थ्रो फेंका गया, तब वे दूसरे रन के लिए एक-दूसरे को क्रॉस नहीं कर पाए थे। थ्रो पहुंचने से पहले स्टोक्स क्रीज में पहुंच चुके थे, लेकिन तभी गेंद उनके बल्ले से लगकर बाउंड्री तक चली गई थी। टॉफेल के मुताबिक, ऐसी स्थिति में उन्हें केवल 5 रन मिलने चाहिए थे, ना कि 6 रन।

 

मैच और सुपर ओवर, दोनों टाई हुए
वर्ल्ड कप इतिहास में पहली बार फाइनल में सुपर ओवर खेला गया। यह भी पहली बार हुआ, जब मैच और सुपर ओवर दोनों टाई हो गए। न्यूजीलैंड ने पहले 241 रन बनाए। इंग्लैंड की टीम 241 रन पर ही ऑलआउट हो गई। सुपर ओवर में इंग्लैंड ने 15 रन बनाए। न्यूजीलैंड ने इस लक्ष्य की बराबरी तो कर ली, लेकिन जीत के लिए जरूरी एक रन बनाने से चूक गया। इसके बाद आईसीसी के नियमानुसार ज्यादा बाउंड्री लगाने वाली इंग्लैंड को विजेता घोषित किया गया। पूरे मैच में इंग्लैंड ने 26 और न्यूजीलैंड ने 17 बाउंड्री लगाईं।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना