• Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Suraj Randiv Is Now A Bus Driver In Australia, He Was Part Of Sri Lanka Team In 2011 World Cup Final And CSK In IPL

CSK को चैम्पियन बनाने वाले रंदीव बने बस ड्राइवर:10 साल पहले सहवाग को शतक नहीं बनाने दिया था; भारत के खिलाफ सीरीज में ऑस्ट्रेलिया की मदद भी की

मेलबर्न10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ऑफ स्पिनर रंदीव ने श्रीलंका के लिए 12 टेस्ट, 31 वनडे और 7 टी-20 खेले हैं। अब वे ऑस्ट्रेलिया में बस ड्राइवर बन गए हैं। - Dainik Bhaskar
ऑफ स्पिनर रंदीव ने श्रीलंका के लिए 12 टेस्ट, 31 वनडे और 7 टी-20 खेले हैं। अब वे ऑस्ट्रेलिया में बस ड्राइवर बन गए हैं।

श्रीलंका के पूर्व क्रिकेटर सूरज रंदीव अब बस ड्राइवर बन गए हैं। वे फिलहाल ऑस्ट्रेलिया में हैं और ड्राइवर के साथ-साथ एक लोकर क्लब के लिए क्रिकेट भी खेलते हैं। बस चलाते हुए उनकी एक फोटो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। उन्होंने भारत के खिलाफ हाल ही में खेलने वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम की भी मदद की थी। रंदीव ने ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को नेट में बैटिंग प्रैक्टिस कराई थी।

रंदीव 2011 के वनडे वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंची श्रीलंकाई टीम का हिस्सा भी रहे चुके हैं। वहीं, 2012 IPL में चैम्पियन में बनी चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) का भी हिस्सा रहे थे। उन्हें पूर्व भारतीय ओपनर वीरेंद्र सहवाग को सेंचुरी नहीं बनाने देने के लिए भी जाना जाता है।

पैटिंसन और सिडल जैसे क्रिकेटर के साथ खेलते हैं रंदीव
रंदीव ने अपने नए प्रोफेशन की शुरुआत ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न स्थित एक फ्रेंच बेस्ड कंपनी से की। उन्हें ट्रांसडेव नाम की कंपनी ने बतौर ड्राइवर बहाल किया है। वे 2019 में ही ऑस्ट्रेलिया पहुंचे थे। वे जिस क्लब के लिए खेलते हैं, उसे विक्टोरिया प्रीमियर क्रिकेट से मान्यता प्राप्त है। जेम्स पैटिंसन और पीटर सिडल जैसे क्रिकेटर भी इस क्लब के लिए खेलते हैं। रंदीव ने श्रीलंका में अपना आखिरी घरेलू मैच अप्रैल, 2019 में खेला था।

2012 में CSK को चैम्पियन बनाने में दिया था योगदान
रंदीव दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट लीग IPL में भी खेल चुके हैं। वे 2012 में चैम्पियन बनी महेंद्र सिंह धोनी की कमान वाली CSK टीम का हिस्सा थे। रंदीव ने उस सीजन में 8 मैच खेले थे, जिसमें उन्होंने 6 विकेट चटकाए थे। हालांकि, इसके बाद उन्हें कभी IPL खेलने का मौका नहीं मिला।

सहवाग को शतक लगाने से कर दिया था महरूम
रंदीव को भारतीय फैंस सबसे ज्यादा 2010 में फेंके गए उनके नो बॉल को लेकर जानते हैं। भारत के खिलाफ उस मैच में उन्होंने सहवाग को शतक से महरूम कर दिया था। 2010 में श्रीलंका के खिलाफ ट्राइंगुलर सीरीज के तीसरे मैच में भारत को जीत के लिए 1 रन की जरूरत थी। सहवाग 99 रन बनाकर स्ट्राइक पर थे।

रंदीव को उनकी हरकत के लिए झेलना पड़ा था एक मैच का बैन
रंदीव ने इसके बाद तिलकरत्ने दिलशान से कुछ बातचीत कर जानबूझकर नो-बॉल फेंकी थी। इस बॉल पर सहवाग ने छक्का भी लगाया था, लेकिन नो बॉल की वजह से टीम इंडिया पहले ही मैच जीत गई। इसके चलते सहवाग अपनी सेंचुरी नहीं पूरी कर सके थे। रंदीव पर इसके लिए एक मैच का बैन भी लगाया गया था।

रंदीव ने श्रीलंका के लिए 12 टेस्ट और 31 वनडे खेले
ऑफ स्पिनर रंदीव ने श्रीलंका के लिए 12 टेस्ट, 31 वनडे और 7 टी-20 खेले हैं। टेस्ट में उन्होंने 46 विकेट, वनडे में 36 विकेट और टी-20 में उन्होंने 7 विकेट लिए। इसके अलावा बैटिंग में भी उन्होंने कई अच्छी पारियां खेलीं। उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 56 रन का रहा।

खबरें और भी हैं...