अयाज मेमन की कलम से / क्या नंबर-4 पर पुजारा या रहाणे को आजमाया जाएगा?



Team India world cup preparation analysis
X
Team India world cup preparation analysis

  • वर्ल्ड कप के लिए चौथे नंबर के बल्लेबाज को लेकर टीम इंडिया परेशान
  • 30 मई से 14 जुलाई के बीच इंग्लैंड और वेल्स में वर्ल्ड कप होगा

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 07:48 AM IST

खेल डेस्क. हालिया वनडे सीरीज भारत के लिए अच्छी नहीं रही। टीम इंडिया अपने घर में ही उस टीम से हार गई, जो पिछले एक साल से लगातार संघर्ष कर रही थी। इसी टीम को भारत उन्हीं के घर में हराकर आया था। सीरीज में भारत 2-0 की लीड ले चुका था, फिर लगातार 3 मैच हारकर सीरीज गंवा दी। इस हार ने वर्ल्ड कप से पहले तमाम सवाल खड़े कर दिए हैं।

 

टी-20 सीरीज 2-0 से हारने से पहले विराट कोहली ने कहा था कि वर्ल्ड कप की टीम चुनने के लिए सिर्फ वनडे मैचों का प्रदर्शन मायने रखेगा। यहां तक कि खिलाड़ियों का आईपीएल में प्रदर्शन भी वर्ल्ड कप की टीम पर असर नहीं डालेगा। ये बात सही है कि भारत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज में कई प्रयोग किए। लेकिन इसे टीम के खराब प्रदर्शन के बहाने के तौर पर नहीं लिया जा सकता।

 

रायडू, राहुल और पंत भी नंबर-4 पर नहीं चले
विराट कोहली, कुलदीप यादव, भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह को छोड़कर किसी ने भी प्रभावशाली प्रदर्शन नहीं किया। भारतीय टीम प्रबंधन और चयनकर्ताओं के लिए टीम का मिडल ऑर्डर मजबूत करना लगातार चुनौती बना हुआ है। सीरीज के पहले तक अंबाती रायडू नंबर-4 के सबसे पुख्ता दावेदार थे। वे इस सीरीज में पूरी तरह फ्लॉप रहे। केएल राहुल और रिषभ पंत भी नहीं चले। सिर्फ केदार जाधव ने ही प्रभावित किया और अपनी जगह और भी मजबूत की।

 

रहाणे-पुजारा चौथे नंबर के दावेदार
टीम के मध्यक्रम को मजबूत करने के लिए भारत के दो पूर्व कप्तानों ने दो रोचक सुझाव दिए हैं। दिलीप वेंगसरकर ने अजिंक्य रहाणे को उनका इंग्लैंड में बेहतरीन रिकॉर्ड देखते हुए नंबर-4 पर खिलाने की बात रखी। वहीं सौरव गांगुली ने चेतेश्वर पुजारा का नाम रखा है। गांगुली का कहना है कि पुजारा के अनुभव और फॉर्म को देखते हुए वे नंबर-4 पर टीम के मध्यक्रम को स्थिरता दे सकते हैं। पुजारा संभलकर बल्लेबाजी करने में यकीन रखते हैं। उनकी फिटनेस भी उन्हें फील्डिंग टीम के लिए भारी बनाती है।

 

पुजारा ने घरेलू क्रिकेट में रन बनाए
पिछले कुछ समय में पुजारा ने फिटनेस में सुधार किया है। घरेलू लिमिटेड ओवर मैचों में उन्होंने काफी रन भी बनाए। टी20 में शतक भी लगाया। वहीं रहाणे 90 वनडे खेल चुके हैं। पिछले साल दक्षिण अफ्रीका में उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया। कहा गया कि नंबर-4 बल्लेबाज की तलाश पूरी हो गई। फिर अचानक वे टीम से बाहर हो गए। टीम मैनेजमेंट किस पर भरोसा जताता है, ये देखने वाली बात होगी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना