• Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • There Have Been 7 ICC Tournaments Since 2013, Seven Different Teams Won, 3 Teams Played 3 3 Finals

क्रिकेट में अब नहीं है किसी की बादशाहत:2013 से 7 ICC टूर्नामेंट हुए, सातों में अलग-अलग टीम बनी चैंपियन, भारत टीम ने सबसे ज्यादा बार 4 बार फाइनल खेली

नई दिल्ली4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

न्यूजीलैंड ने टीम इंडिया को हराकर पहली ICC टेस्ट चैंपियनशिप जीत ली। यह 2013 से अ तक तक का सातवां ICC फाइनल था। इन 7 मौकों पर 7 अलग-अलग टीमें चैंपियन बनी। यानी यह साफ है कि पिछले कुछ सालों में कोई टीम ऐसी नहीं है जिसे इंटरनेशनल क्रिकेट का बादशाह कहा जा सके।

1970 से लगभग हर दशक में कोई न कोई टीम ऐसी रही है जो बाकी टीमों से बीस साबित होती थी। 70 और 80 के दशक में वेस्टइंडीज की बादशाहत रही। 90 के दशक में कई टीमें बराबरी पर आईं लेकिन इसके आखिर से ऑस्ट्रेलिया हावी हो गया। 2007 तक ऑस्ट्रेलिया ने दबदबा बनाए रखा। इसके बाद कुछ सालों के लिए टीम इंडिया का थोड़ा-बहुत दबदबा भी रहा। 6 साल में भारत ने तीन बड़े खिताब जीते। लेकिन उसके बाद से एक ऐसा दौर शुरू हुआ जब इंटरनेशनल क्रिकेट में कोई बादशाह नहीं रहा है।

भारत, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड सबसे कंसिस्टेंट
2013 से अब तक कोई भी टीम दो ICC टूर्नामेंट नहीं जीत सकी है। हां, भारत, न्यूजीलैंड और इंग्लैंड की टीम सबसे कंसिस्टेंट जरूर रही है। पिछले 8 सालों में इन टीमों ने तीन-तीन ICC इवेंट के फाइनल में प्रवेश किया। ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान और वेस्टइंडीज की टीम 1-1 फाइनल ही खेल सकी और उसमें जीत हासिल करने में भी सफल रही।

ऑल कंडीशन टीम बनाने में संघर्ष कर रही हैं टीमें
क्रिकेट में कोई टीम तभी अन्य टीमों पर दबदबा बना पाती है जब उसके पास सभी कंडीशन के लायक अच्छे खिलाड़ी हों। मौजूदा समय में लगभग हर बड़ी टीम इस मामले में संघर्ष करती दिख रही है। अच्छे फास्ट बॉलिंग ऑलराउंडर की कमी के कारण भारतीय टीम स्विंगिंग और सीमिंग कंडीशन में स्ट्रगल करती है। इसी तरह न्यूजीलैंड की टीम भारतीय उपमहाद्वीप में बहुत दमदार खेल नहीं दिखा पाती है। इंग्लैंड एशियाई मूल के कुछ खिलाड़ियों की बदौलत संतुलन बनाने की कोशिश कर रहा है लेकिन उसे भी अब तक सीमित सफलता ही मिली है।

टेस्ट क्रिकेट में भी कोई टीम बहुत आगे नहीं
टेस्ट क्रिकेट में भी 2013 से कोई टीम बाकी अन्य टीमों से बहुत आगे नहीं कही जा सकती है। भारत ने तब से 47 टेस्ट जीते। वहीं, इंग्लैंड ने 46, ऑस्ट्रेलिया ने 42 और साउथ अफ्रीका ने 37 टेस्ट जीते। न्यूजीलैंड को 34 मैचों में जीत मिली है। भारतीय टीम ने इस दौरान तमाम घरेलू सीरीज में सफलता हासिल की। इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया, वेस्टइंडीज, श्रीलंका जैसे देशों में जाकर भी जीत हासिल की। लेकिन, टीम को न्यूजीलैंड, साउथ अफ्रीका और इंग्लैंड में टीम फेल रही। इसी तरह न्यूजीलैंड और इंग्लैंड की टीमें भारत में हारी। ऑस्ट्रेलिया को भी भारत में हार मिली।

खबरें और भी हैं...