आईपीएल / स्पॉट फिक्सिंग को लेकर बीसीसीआई के खिलाफ याचिका लगाने वाले आदित्य वर्मा के बेटे बिहार रणजी टीम में शामिल

आदित्य वर्मा ने कहा- एन श्रीनिवासन के कारण मेरा बेटा क्रिकेट खेलना जारी रखा पाया। (फाइल) आदित्य वर्मा ने कहा- एन श्रीनिवासन के कारण मेरा बेटा क्रिकेट खेलना जारी रखा पाया। (फाइल)
X
आदित्य वर्मा ने कहा- एन श्रीनिवासन के कारण मेरा बेटा क्रिकेट खेलना जारी रखा पाया। (फाइल)आदित्य वर्मा ने कहा- एन श्रीनिवासन के कारण मेरा बेटा क्रिकेट खेलना जारी रखा पाया। (फाइल)

  • आदित्य वर्मा ने 2013 में स्पॉट फिक्सिंग को लेकर बीसीसीआई के खिलाफ याचिका लगाई थी
  • आदित्य ने कहा- उम्मीद है कि बेटे को मिजोरम के खिलाफ मैच में खेलने का मौका मिलेगा

Dainik Bhaskar

Dec 31, 2019, 07:23 PM IST

खेल डेस्क. इंडियन प्रीमियर लीग(आईपीएल) में स्पॉट फिक्सिंग को लेकर कोर्ट में याचिका दाखिल करने वाले आदित्य वर्मा के बेटे लखन राजा को बिहार रणजी टीम में शामिल किया गया है। वह पटना में मिजोरम के खिलाफ होने वाले मैच में टीम का हिस्सा होंगे। इस मौके पर उन्होंने कहा, ‘‘मेरे बेटे को आखिरकार बिहार की रणजी टीम में जगह मिल गई। मुझे यकीन है कि उसे मिजोरम के खिलाफ मैच में प्लेइंग इलेवन में भी जगह मिलेगी। उम्मीद करता हूं कि वह रन बनाएगा और टीम में अपनी जगह पक्की करेगा।’’ 

आदित्य 2013 में अनाधिकृत बिहार क्रिकेट संघ के सचिव थे

आदित्य 2013 में अनाधिकृत बिहार क्रिकेट संघ(सीएबी) के सचिव थे। उन्होंने स्पॉट फिक्सिंग मामले में बीसीसीआई के खिलाफ याचिका दायर की थी और तत्कालीन अध्यक्ष एन श्रीनिवासन को कोर्ट में घसीटा था। हालांकि, अब उनका बेटा लखन श्रीनिवासन की ही कंपनी इंडिया सीमेंट्स में काम करता है। वर्मा पूर्व बीसीसीआई अध्यक्ष के धुर विरोधी रहे, लेकिन नई दिल्ली में बीसीसीआई की एजीएम के दौरान उन्होंने सार्वजनिक तौर पर उनसे माफी मांग ली थी। 

आदित्य वर्मा ने कहा- श्रीनिवासन असली क्रिकेट प्रशासक

वर्मा के मुताबिक, ‘‘उनके बेटे को पूर्व बीसीसीआई अध्यक्ष ने अपनी कंपनी इंडिया सीमेंट्स में तब नौकरी थी, जब बिहार टीम में न चुने की वजह से वह क्रिकेट से दूर हो रहा था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘श्रीनिवासन के कारण मेरा बेटा क्रिकेट खेलना जारी रख पाया। अब मैंने महसूस किया है कि वह असली क्रिकेट प्रशासक हैं, जिसकी भारतीय क्रिकेट को जरूरत है। यह पूछने पर कि क्या उन्हें श्रीनिवासन की अगुआई वाले बोर्ड के खिलाफ स्पॉट फिक्सिंग मामले में याचिका दाखिल करने का मलाल है तो उन्होंने कहा, यहां कुछ भी सही या गलत नहीं है।’’

वर्मा ने बिहार क्रिकेट एसोसिएशन (जिसे वह संचालित नहीं करते) पर भ्रष्टाचार के खिलाफ याचिका लगाई है। उन्हें लगता है उनके बेटे को क्रिकेट की राजनीति के चलते ही बिहार टीम में मौका नहीं मिल पा रहा था। हालांकि, उन्होंने साफ कर दिया कि, मेरे बेटे के बिहार टीम में चुने जाने का यह मतलब नहीं है कि मैंने केस वापस ले लिया है। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना