इंडियन क्रिकेट में कैप्टेंसी कंट्रोवर्सी की वजह IPL:कोरोना की दूसरी लहर के बीच BCCI चाहता था IPL हो, सबसे पहले कोहली ने किया विरोध

मुंबईएक महीने पहलेलेखक: राजकिशोर

इंडियन क्रिकेट एक बार फिर कैप्टेंसी कंट्रोवर्सी के दौर से गुजर रहा है। कोहली से वनडे कैप्टेंसी छीन ली गई है। इसके बाद उन्होंने दक्षिण अफ्रीका की वन-डे सीरीज से ब्रेक ले लिया है। उधर, चोटिल रोहित टेस्ट सीरीज से बाहर हो गए हैं, जिसमें उन्हें कोहली की कप्तानी में खेलना था। ऐसे में BCCI के सामने मुश्किलें बढ़ रही हैं, लेकिन सवाल ये है कि लिमिटेड ओवर्स में पहले से बेहतर प्रदर्शन कर रहे कोहली से कप्तानी छीनने की वजह क्या रही?

भास्कर से एक्सक्लूसिव बातचीत में बोर्ड के सूत्र ने बताया कि दरअसल, कोहली की कप्तानी जाने की जड़ में IPL है। तो कंट्रोवर्सी की जड़ से ही शुरू करते हैं किस्सा...

सूत्र ने बताया कि 2021 में कोरोना की दूसरी लहर के बीच भी BCCI चाहता था कि IPL कराया जाए। BCCI इसे कैंसिल करने के बारे में नहीं सोच रहा था। 3 मई को कोहली की टीम रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु का मैच कोलकाता नाइट राइडर्स से होना था। टीम के दो मेंबर वरुण चक्रवर्ती और संदीप वॉरियर कोविड पॉजिटिव पाए गए थे। इसके बाद कोहली ने KKR से मैच खेलने से साफ इनकार कर दिया।

कोहली के इनकार से पहले कोई भी टीम कोरोना को लेकर नहीं बोल रही थी, लेकिन बेंगलुरु और कोलकाता का मैच कैंसिल होने के बाद बाकी फ्रेंचाइजियों ने भी अपने खिलाड़ियों और स्टाफ की सेहत को लेकर चिंता जाहिर की थी और मैच खेलने से इनकार कर दिया था। इसकी वजह भी थी। कोलकाता ने 29 अप्रैल को अहमदाबाद में दिल्ली से मैच खेला था। संदीप वॉरियर और वरुण प्लेइंग इलेवन में नहीं थे, लेकिन टीम में तो थे ही इसलिए फिक्र और बढ़ गई थी।

फ्रेंचाइजियों के विरोध के चलते 3 मई को होने वाला बेंगलुरु-केकेआर का मैच टाल दिया गया। इसके बाद 4 मई को बोर्ड ने पूरा IPL टालने का फैसला लिया। सूत्र के मुताबिक कोहली के इनकार से बोर्ड तभी नाराज हो गया था।

बोर्ड को फिक्र थी कि IPL टालने से नुकसान होगा, पर कोहली ने इसे नजरंदाज कर दिया। इसके बाद IPL 2021 के बचे हुए मैच UAE में 19 सितंबर से 15 अक्टूबर के बीच खेले गए। इतना ही नहीं, भारत में होने वाला टी-20 वर्ल्ड कप भी नहीं हो पाया। यह भी UAE में ही कराना पड़ा।

बोर्ड ने नुकसान झेला, फिर कोहली की नाफरमानी
IPL और टी-20 वर्ल्ड कप की वजह से BCCI को नुकसान हुआ। इस सबके अलावा कोहली के एक और फैसले ने बोर्ड को नाराज कर दिया। विराट कोहली ने 16 सितंबर को टी-20 वर्ल्ड कप से पहले अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक खत लिखकर टी-20 टीम की कैप्टेंसी से इस्तीफे का ऐलान कर दिया। उन्होंने वर्क लोड का हवाला दिया। हालांकि बोर्ड अध्यक्ष सौरव गांगुली चाहते थे कि वे कप्तान रहें, पर कोहली ने इस्तीफा दे दिया। इसके बाद कोहली को वनडे कैप्टेंसी से भी हटा दिया गया।

गांगुली ने इस पर कहा था, "फैसला BCCI और चयनकर्ताओं ने मिलकर लिया है। BCCI ने विराट से टी-20 की कप्तानी नहीं छोड़ने को कहा था, लेकिन वह सहमत नहीं हुए। ​​​चयनकर्ताओं का मानना था कि लिमिटेड ओवर्स के फॉर्मेट में दो अलग-अलग कप्तान नहीं होने चाहिए। इसलिए ये फैसला लिया गया। अब विराट टेस्ट कप्तान बने रहेंगे और रोहित वनडे, टी-20 की कमान संभालेंगे।"

खबरें और भी हैं...