भारत-पाक मैच के दिन पहली बार श्रीनगर में सन्नाटा:एक भी बिग स्‍क्रीन नहीं, लाल चौक भी खाली; कर्फ्यू-गृहमंत्री की यात्रा और मौसम ने बिगाड़ा मैच का रोमांच

एक महीने पहले

टीम इंडिया और पाकिस्तान 5 साल बाद टी-20 वर्ल्ड कप में भिड़ रहे हैं, लेकिन जम्मू-कश्मीर की सड़कों पर सन्नाटा है। लोग घरों में छिपे हुए हैं। भारत-पाकिस्तान के हर मैच का गवाह लाल चौक भी खाली पड़ा है। आसपास की दुकानें बंद पड़ी हैं। इसके पीछे 3 कारण हैं। आइए आपको उस वक्त कश्मीर की एक झलक दिखाते हैं जब दुबई इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम में भारत और पाकिस्तान की टीमें गेंद-बल्ले से लड़ रही थीं।

रविवार को भारत-पाकिस्तान मैच के बावजूद श्रीनगर की सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा।
रविवार को भारत-पाकिस्तान मैच के बावजूद श्रीनगर की सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा।

गृह मंत्री शाह की यात्रा के चलते शहर में पाबंदियां
इस वक्त गृह मंत्री अमित शाह जम्मू कश्मीर के तीन दिनी दौरे पर हैं। रविवार को उनके दौरे का दूसरा दिन था। उन्होंने जम्मू में रैली को संबोधित भी किया। इसके चलते कई जगहों पर जबर्दस्त पाबंदियां रहीं। इसलिए लोगों ने बाहर मैच देखने का प्रोग्राम नहीं बनाया, क्योंकि बाहर निकलने पर कई तरह की पूछताछ से गुजरना होता। फिर ऐसे में लोग अपने तरह से मैच को एन्जॉय भी नहीं कर पाते। कई कश्मीरियों ने अपना नाम पब्लिक ना करने की शर्त पर घर से बाहर मैच नहीं देखने का कारण यही बताया।

तीन ही बड़े मौकों पर ये जगहें आबाद होती थीं, 26 जनवरी, 15 अगस्त और भारत-पाक मैच। लेकिन इस बार ऐसा नहीं है।
तीन ही बड़े मौकों पर ये जगहें आबाद होती थीं, 26 जनवरी, 15 अगस्त और भारत-पाक मैच। लेकिन इस बार ऐसा नहीं है।

जबर्दस्त ठंड ने मैच की गर्मी को किया कम
इस वक्त कश्मीर का पारा 6 डिग्री है। कश्मीर के ऊपरी हिस्सों में जबर्दस्त बर्फबारी हो रही है। ऐसे में घर से बाहर निकलना दूभर है। इसलिए भी लोगों ने बाहर आकर मैच देखने का मन नहीं बनाया। फयाज अहमद भट्ट कहते हैं कि वो मैच देखने के लिए काफी उत्साहित हैं, लेकिन चाहते हैं कि बाहर बाबर आजम, शोएब मलिक और विराट कोहली की टक्कर देखें और सबके साथ देखें, लेकिन बहुत कोशिश करने पर भी ऐसा माहौल नहीं बन पाया।

उन जगहों पर भी कोई शख्स नहीं दिखा, जहां पहले भारत-पाक मैच में मजमा लगा रहता था।
उन जगहों पर भी कोई शख्स नहीं दिखा, जहां पहले भारत-पाक मैच में मजमा लगा रहता था।

गैर-कश्मीरियों की हत्याएं भी बनीं बाहर मैच न देखने की वजह
अदनान अहमद कहते हैं कि कश्मीरी युवाओं में क्रिकेट को लेकर जबर्दस्त उत्साह है। वो रोहित शर्मा, विराट कोहली और जसप्रीत बुमराह जैसा क्रिकेटर बनाना चाहते हैं, लेकिन इस बार ऐसा नहीं हो पा रहा है। इसके पीछे कई सारी वजहें हैं, लेकिन एक बड़ी वजह हाल में हुई हिंसात्मक घटनाएं भी हैं। असल में कश्मीर में अभी कई जगहों पर कर्फ्यू जैसा माहौल हैं। इसलिए लोगों ने अपने घरों में टीवी पर मैच देखने ही सबसे बेहतर समझा है।

कोई भी जीते, हम तो अच्छा मैच चाहते हैं
ज्यादातर कश्मीरियों से बात करने पर पता चलता है कि उनके फेवरेट खिलाड़ियों में भारत और पाकिस्तान दोनों ही टीमों के खिलाड़ी शामिल हैं। हाल के दिनों में उमरान मलिक और अब्दुल समद के IPL में खेलने के बाद यहां के युवा तेजी से क्रिकेट की ओर बढ़ रहे हैं। वो भारत और पाकिस्तान के मैच को अपनी जीत-हार के तौर पर नहीं लेते। वो चाहते हैं कि कांटे की टक्कर रहे, ताकि मैच देखने में मजा आए।