टी-20 वर्ल्ड कप के 10 नायक:टॉप 5 बल्लेबाजों में दो पाकिस्तानी, भारतीय खिलाड़ी टूर्नामेंट में रहे फिसड्डी

एक वर्ष पहले

29 दिन और 45 मुकाबलों के बाद टी-20 वर्ल्ड कप 2021 का चैंपियन मिल गया। ऑस्ट्रेलिया ने न्यूजीलैंड को हराकर पहली बार टी-20 वर्ल्ड कप की ट्रॉफी अपने नाम की है। इस वर्ल्ड कप में कई ऐसे बल्लेबाज रहे जिन्होंने अपनी बल्लेबाजी से बेजोड़ दम दिखाया है। वहीं, कई ऐसे गेंदबाज भी रहे जिन्होंने अपनी गेंदबाजी से सबका ध्यान अपनी ओर खींचा। आइए आपको ऐसे ही टॉप 5 बल्लेबाज और टॉप 5 गेंदबाज के बारे में बताते हैं।

बता दें, टॉप 5 बल्लेबाज और टॉप 5 गेंदबाज में एक भी भारतीय नहीं है। भारतीय खिलाड़ी पूरे टूर्नामेंट में फिसड्डी रहे। खिलाड़ियों के खराब प्रदर्शन का ही नतीजा था कि टीम सुपर-12 से ही बाहर हो गई।

बाबर के नाम सबसे ज्यादा रन
टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बाबर आजम के बल्ले से निकले। उन्होंने 6 मैचों में 303 रन बनाए। इस दौरान उनका औसत 60.60 का था। बाबर ने ये रन 126. 25 के स्ट्राइक रेट से बनाए। पूरे टूर्नामेंट में पाक के कप्तान के बल्ले से 28 चौके और 5 छक्के निकले। साथ ही उन्होंने 6 मैचों में 4 अर्धशतक बनाया।

दूसरे नंबर पर ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर रहे। इस धाकड़ बल्लेबाज ने 7 मैचों में 48.16 की शानदार औसत से 289 रन बनाए। इस दौरान इस खिलाड़ी का स्ट्राइक रेट 146.70 का था। पूरे टूर्नामेंट में इनके बल्ले से 32 चौके और 10 छक्के निकले। प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट रहे वार्नर ने 7 मैचों में 3 अर्धशतक अपने नाम किए।

खूब चला रिजवान और बटलर का बल्ला

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबले में रिजवान ने धमाकेदार पारी खेली थी, लेकिन उनकी टीम जीत नहीं पाई।
ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबले में रिजवान ने धमाकेदार पारी खेली थी, लेकिन उनकी टीम जीत नहीं पाई।

तीसरे नंबर पर पाकिस्तान के सलामी बल्लेबाज मोहम्मद रिजवान रहे। उन्होंने 6 मैचों में कमाल का फॉर्म दिखाया और उनके बल्ले से 281 रन निकले। इस दौरान रिजवान का औसत 70.25 रहा। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सेमीफाइनल से पहले 2 दिन ICU में रहे इस जांबाज खिलाड़ी का स्ट्राइक रेट 127.72 का रहा। पूरे टूर्नामेंट में पाक के इस धाकड़ बल्लेबाज ने 23 चौके और 12 छक्के जड़े। रिजवान ने इस वर्ल्ड कप 6 मैचों 3 अर्धशतक लगाए।

श्रीलंका के खिलाफ सुपर-12 के मुकाबले में बटलर ने धमाकेदार बल्लेबाजी करते हुए शतक जड़ दिया था। उनकी इस कमाल की पारी के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच भी चुना गया था।
श्रीलंका के खिलाफ सुपर-12 के मुकाबले में बटलर ने धमाकेदार बल्लेबाजी करते हुए शतक जड़ दिया था। उनकी इस कमाल की पारी के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच भी चुना गया था।

चौथे स्थान पर इंग्लैंड के सलामी बल्लेबाज जोस बटलर रहे। उन्होंने 6 मैचों में 269 रन बनाए। इस दौरान उनका औसत 89.66 का था। बटलर ने ये रन 151.12 के शानदार स्ट्राइक रेट से बनाए। बटलर ने पूरे टूर्नामेंट में 13 छक्के और 22 चौके लगाए। टॉप-5 बल्लेबाज में बटलर एकमात्र ऐसे बल्लेबाज हैं, जिनके बल्ले से शतक निकला। उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ 101 रन की धमाकेदार पारी खेली थी।

चरिथ असलंका का कमाल

वहीं, पांचवे स्थान पर श्रीलंका के चरिथ असलंका रहे, जिनके बल्ले से 6 मैचों में 231 रन देखने को मिले। इस दौरान उनका औसत 46.20 और स्ट्राइक रेट 147.13 का था। असलंका के बल्ले से पूरे टूर्नामेंट में 9 छक्के और 23 चौके निकले।

गेंदबाजों में किसने किया कमाल?

टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा विकेट श्रीलंका के वानिंदु हसंरगा ने झटके। उनके नाम 16 विकेट रहे। उनके इस शानदार प्रदर्शन के बावजूद उनकी टीम सेमीफाइनल तक भी नहीं पहुंच पाई।

दूसरे नंबर पर वर्ल्ड कप की चैंपियन बनी टीम ऑस्ट्रेलिया के लेग स्पिनर एडम जम्पा रहे। उन्होंने 7 मैचों में 13 विकेट अपने नाम किए।

तीसरे नंबर पर रनर-अप टीम न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट थे। उनके खाते में 13 विकेट आए।

चौथे स्थान पर बांग्लादेश के शाकिब अल हसन ने जगह बनाई। उन्होंने 6 मैचों में 11 खिलाड़ियों को आउट कर पवेलियन का रास्ता दिखाया।

वहीं, जोश हेजलवुड की झोली में भी 11 विकेट आए।