अश्वेतों के प्रति हमदर्दी:टीम इंडिया ने घुटनों पर बैठकर किया ब्लैक लाइव्स मैटर का समर्थन, PAK खिलाड़ी नहीं बैठे

8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारत और पाकिस्तान के बीच दुबई में मैच का आगाज हो गया है। टी-20 मैच में दोनों देशों के खिलाड़ियों ने ब्लैक लाइव्स मैटर का समर्थन किया। भारतीय खिलाड़ियों ने घुटनों पर बैठकर रंगभेद के खिलाफ मूवमेंट को अपना समर्थन दिया है। वहीं, पाकिस्तान टीम के खिलाड़ी घुटने पर तो नहीं झुके, लेकिन उन्होंने अपने दिल पर हाथ रखकर इस मूवमेंट का समर्थन किया। सोशल मीडिया पर इसके फोटो और वीडियो खूब शेयर हो रहे हैं।

घुटनों पर इस तरह झुककर टीम इंडिया ने ब्लैक लाइव्स मैटर का समर्थन किया।
घुटनों पर इस तरह झुककर टीम इंडिया ने ब्लैक लाइव्स मैटर का समर्थन किया।

वेस्टइंडीज और इंग्लैंड के मैच में भी हुआ था ऐसा

वेस्टइंडीज और इंग्लैंड के खिलाफ टी-20 मैच में भी दोनों टीमों ने नस्लवाद के खिलाफ समर्थन दिखाया था। बता दें कि अमेरिका में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस कस्टडी में मौत हो गई थी। उसी के बाद दुनियाभर में 'ब्लैक लाइव्स मैटर' कैंपेन शुरू हुआ था। जॉर्ज फ्लॉयड को पुलिस अधिकारियों ने हथकड़ी पहनाई और जमीन पर उल्टा लिटाकर उनकी गर्दन को घुटने से करीब 9 मिनट तक दबाए रखा था। इससे जॉर्ज की सांसें रुक गईं और उनकी मौत हो गई थी।

रोहित शर्मा ने भी किया ब्लैक लाइव्स मैटर का समर्थन।
रोहित शर्मा ने भी किया ब्लैक लाइव्स मैटर का समर्थन।

बाबर आजम ने टॉस जीता
मैच में पाकिस्तान के कप्तान बाबर आजम ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया है। भारत ने शानदार फॉर्म में चल रहे ईशान किशन को प्लेइंग-11 में शामिल नहीं किया है। यानी मैच में वरुण चक्रवर्ती और रवींद्र जडेजा स्पिन डिपार्टमेंट की कमान संभालेंगे। वहीं, तेज गेंदबाजी की जिम्मेदारी जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी और भुवनेश्वर कुमार के कंधे पर है।

ब्लैक लाइव्स मैटर के समर्थन में बाबर आजम दिल पर हाथ रखे हुए
ब्लैक लाइव्स मैटर के समर्थन में बाबर आजम दिल पर हाथ रखे हुए

पाकिस्तान ने एक दिन पहले ही 12 खिलाड़ियों की लिस्ट जारी कर दी थी। इनमें से हैदर अली को प्लेइंग-11 से बाहर रखा गया है। यानी शोएब मलिक और मोहम्मद हफीज दोनों यह मैच खेल रहे हैं।

जुलाई में अमेरिका के सेंट लुईस में जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के विरोध में प्रदर्शन कर रहा एक युवक घुटनों पर बैठ गया था। हर जगह लोगों ने जॉर्ज को इंसाफ दिलाने के लिए इसी अंदाज का सहारा लिया था।
जुलाई में अमेरिका के सेंट लुईस में जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के विरोध में प्रदर्शन कर रहा एक युवक घुटनों पर बैठ गया था। हर जगह लोगों ने जॉर्ज को इंसाफ दिलाने के लिए इसी अंदाज का सहारा लिया था।