क्या टीम इंडिया जीतेगी टी-20 वर्ल्ड कप:विराट की कप्तानी में हम ICC का हर इवेंट हारे, सबसे पहले पाकिस्तान ने दी शिकस्त

8 महीने पहले

2017 चैंपियंस ट्रॉफी भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली का पहला ICC टूर्नामेंट था। टीम इंडिया ने अपने पहले मैच में चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को 124 रनों से मात दी। इस जीत के बाद टीम इंडिया ने ग्रुप स्टेज से लेकर सेमीफाइनल तक धमाकेदार प्रदर्शन किया और फाइनल में जगह बनाई। सेमीफाइनल में कोहली की सेना का सामना बांग्लादेश से हुआ। टीम इंडिया के लिए ये मुकाबला एकतरफा साबित हुआ। उन्होंने बांग्लादेश को 9 विकेटों से मात दी। वहीं, फाइनल में एक बार फिर भारतीय टीम पाकिस्तान से भिड़ी।

पाक टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 338 रनों का पहाड़ जैसा लक्ष्य भारत के सामने रखा। भारतीय टीम लक्ष्य का पीछा करते हुए सिर्फ 158 रनों पर ही सिमट गई। टीम इंडिया को 180 रनों से हार का सामना करना पड़ा। साथ ही भारतीय टीम ट्रॉफी भी नहीं जीत पाई। इस हार के बाद विराट कोहली और टीम के कोच अनिल कुंबले के बीच मतभेद इतना बढ़ गई कि कुंबले को अपना पद तक छोड़ना पड़ा था।

2019 वर्ल्ड कप
साल 2019 में खेला गया वनडे वर्ल्ड कप भारतीय टीम के कप्तान के रूप में विराट कोहली का पहला एक दिवसीय विश्व कप था। टीम के अधिकांश खिलाड़ी धमाकेदार फॉर्म में थे। कोहली एंड कंपनी टूर्नामेंट जीतने वाली सबसे पसंदीदा टीमों में से एक थी। वे उम्मीदों पर खरे भी उतरे और नौ मैचों में सिर्फ एक हार के साथ अंक तालिका में शीर्ष पर पहुंच गए, लेकिन न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में भारत दबाव झेल नहीं पाया।

बारिश से प्रभावित मैच दो दिन तक चला जिसमें न्यूजीलैंड ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 239/8 का स्कोर बनाया। भारत ने रन-चेज में खराब शुरुआत की और पहले चार ओवरों में टीम का स्कोर 3 विकेट पर 5 रन था। महेंद्र सिंह धोनी (50) और रवींद्र जडेजा (77) भारत को जीत की ओर ले जा रहे थे, लेकिन वो टीम इंडिया को जीत नहीं दिला पाए। विराट की टीम 18 रनों से मैच हार गई और वर्ल्ड कप से बाहर हो गई। यह भारत की जर्सी में महेंद्र सिंह धोनी का अंतिम मैच भी था। उन्होंने एक साल बाद 15 अगस्त को संन्यास की घोषणा कर दी थी।

विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल
भारत एक बार फिर लीग चरणों में सर्वश्रेष्ठ टीम साबित हुई, क्योंकि टीम ने 2019 से 2021 तक खेली गई विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के उद्घाटन संस्करण के दौरान छह सीरीज में से सिर्फ एक में हार का सामना किया। भारत की एकमात्र सीरीज में हार न्यूजीलैंड के खिलाफ थी। न्यूजीलैंड ने भी लीग चरणों में कमाल का प्रदर्शन किया और वो भी फाइनल में पहुंचे। जहां एक बार फिर टीम इंडिया को न्यूजीलैंड के खिलाफ भिड़ना था।

विराट कोहली के लिए टेस्ट क्रिकेट में भारत के दबदबे को और आगे बढ़ाने और अपने ICC ट्रॉफी सूखे को खत्म करने का यह एक सुनहरा मौका था, लेकिन कोहली ऐसा नहीं कर पाए और न्यूजीलैंड रोमांचक फाइनल में भारत को हराकर विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का पहला चैंपियन बना। न्यूजीलैंड ने साउथैम्प्टन में बारिश से प्रभावित फाइनल को आठ विकेट से जीत लिया।

विराट कोहली की कप्तानी में भारत ने कभी भी ICC इवेंट नहीं जीता है। टी-20 वर्ल्ड कप के बाद क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट की कप्तानी से कोहली अलविदा कहने वाले हैं। ऐसे में इस वर्ल्ड कप को वह हर हाल में टीम इंडिया के लिए जीतना चाहेंगे और उनका सारा फोकस खिताबी सूखा खत्म करने पर होगा।

खबरें और भी हैं...