वीरू की सीधी बात, नो बकवास:पाक की जीत पर कई जगह चले पटाखे तो भड़क उठे वीरेंद्र सहवाग, पूछा- दिवाली के लिए ही क्यों है बैन का ढोंग

नई दिल्ली3 महीने पहले

टी20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान की भारत पर पहली जीत के बाद दिल्ली समेत कुछ भारतीय इलाकों में भी पटाखे फोड़कर खुशियां मनाई गईं, लेकिन इसे लेकर टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक ओपनिंग बैट्समैन वीरेंद्र सहवाग का गुस्सा भी बम सरीखा फूटा।

सोशल मीडिया पर "सीधी बात, नो बकवास" कैंपेन चलाने वाले वीरू ने ट्वीट कर इन पटाखों की तुलना दिवाली पर लगे बैन से की। वीरू ने सवाल किया कि सिर्फ दिवाली फेस्टिवल को लेकर ही इतना ढोंग क्यों किया जाता है?

पूछा- फिर दिवाली पर भी पटाखे चलाने में क्या हर्ज है
वीरेंद्र सहवाग ने ट्वीट में लिखा- दिवाली के दौरान पटाखों पर प्रतिबंध है, लेकिन कल भारत के कुछ हिस्सों में पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने के लिए पटाखे फोड़े गए। अच्छा वे क्रिकेट की जीत का जश्न मना रहे होंगे। तो दिवाली पर पटाखे चलाने में क्या नुकसान है। ढोंग क्यों, सारा ज्ञान तब ही याद आता है।

गंभीर भी बोले- भारतीय नहीं हो सकते ऐसे लोग
सहवाग के पूर्व साथी ओपनर गौतम गंभीर ने भी ट्वीट कर पटाखे चलाने वालों को खरी-खोटी सुनाई। फिलहाल भाजपा सांसद गंभीर ने #शेमफुल हैशटैग के साथ कहा- पाकिस्तान की जीत पर पटाखे फोड़कर जश्न मनाने वाले भारतीय नहीं हो सकते।

ट्रोलर्स ने शुरू किया दोनों के खिलाफ कैंपेन
सहवाग और गंभीर के ट्वीट के बाद उनके खिलाफ तथाकथित सेक्युलर ट्रोलर्स ने कैंपेन शुरू कर दिया। दोनों को जमकर ट्रोल करने की कोशिश की गई। कुछ ट्रोलर्स ने सहवाग को इस्लाम के खिलाफ कम्युनल हेट फैलाने वाला भी बता दिया। साथ ही अथॉरिटी से उनके खिलाफ आईपीसी की धाराओं में कार्रवाई करने की मांग भी की।

हालांकि ऐसे ट्रोलर्स को सहवाग और गंभीर के फैंस की तरफ से जमकर जवाब भी मिला। दोनों का जमकर समर्थन किया गया।

सहवाग ने पाकिस्तान को दी जीत की बधाई
ऐसा नहीं था कि टीम इंडिया की हार के बाद वीरेंद्र सहवाग ने सिर्फ पटाखे चलाने वालों को ही नसीहत दी। इससे पहले उन्होंने पाकिस्तानी टीम को उसके बेहतरीन खेल के लिए बधाई भी दी। उन्होंने ट्वीट करते हुए पाकिस्तान की जीत को बेहतरीन प्रयास का नमूना बताया।