• Hindi News
  • Sports
  • Indian Star Sunil Chhetri Said – Home Advantage To England, Italy's Advantage In Aggressive Play; Ronaldo Can Play Next Euro Too

यूरो कप फाइनल आज:भारतीय स्टार सुनील छेत्री बोले- इंग्लैंड को होम एडवांटेज, आक्रामक खेल में इटली को फायदा; रोनाल्डो अगला यूरो भी खेल सकते हैं

नई दिल्ली6 महीने पहलेलेखक: राजकिशोर/स्वप्निल
  • कॉपी लिंक

यूरो कप फुटबॉल टूर्नामेंट अपने आखिरी पड़ाव पर पहुंच चुका है। रविवार देर रात (12:30 बजे से) लंदन के वेम्बली स्टेडियम में इंग्लैंड का सामना इटली से होगा। इंग्लैंड की टीम पहली बार इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंची है। वहीं, इटली 1966 की चैंपियन टीम है। साथ ही वह साल 2000 और 2012 में हुए टूर्नामेंट की उपविजेता भी रही है।

भास्कर ने इस मुकाबले को लेकर भारतीय फुटबॉल स्टार और एनालिस्ट सुनील छेत्री से बात की। छेत्री ने कहा कि इंग्लैंड को अपने दर्शकों का फायदा मिलेगा, लेकिन अगर फाइनल में दोनों टीमें आक्रामक रणनीति से खेलीं तो इटली फायदे में रहेगी। यूरो कप फाइनल का सोनी टेन-2 और टेन-3 पर प्रसारण होगा। पढ़िए पूरी बातचीत…

सवाल: फाइनल में किसका पलड़ा भारी लगता है और क्यों?
जवाब: फाइनल में पहुंचने वाली दोनों टीमें मजबूत हैं। बेशक इंग्लैंड पहली बार इस टूर्नामेंट का खिताबी मुकाबला खेलेगा, लेकिन उसे कमजोर आंकना गलत होगा। फाइनल में जो टीमें पहुंचती हैं, वे कमजोर नहीं हो सकती हैं।

अगर दोनों टीमें अटैक करने की रणनीति को ध्यान में रखकर खेलती हैं, तो इटली ज्यादा फायदे में रहेगी। इटली के पास सिरो इम्मोबिले, लोरेंजो इन्सिन्ये, मैनुअल लोकाटेली, माटियो पेसिना, फेडेरिको किएसा, निकोलो बरेला, बलोत्ती ओर बेर्राडी जैसे कई खिलाड़ी हैं, जो गोल करने की काबिलियत रखते हैं।

टूर्नामेंट में इटली के 11 गोल में से 10 गोल पेसिना, किएसा और निकोलो बरेला ने किए हैं। इंग्लैंड की ओर से 10 गोल हुए हैं, इनमें से 8 गोल तो हैरी केन और रहीम स्टर्लिंग ने ही किए हैं। इंग्लैंड अगर दो डिफेंसिव मिडफल्डर केल्विन फिलिप्स और डेक्लन राइस के साथ उतरती है तो इटली के लिए राह मुश्किल बना सकती है।

सवाल: इंग्लैंड के सफर में कप्तान हैरी केन का कितना बड़ा रोल रहा है? क्या उन्हें घर में खेलने का फायदा मिला?
जवाब: बहुत बड़ा रोल रहा है। केन अब तक 4 गोल कर चुके हैं। सेमीफाइनल में डेनमार्क के खिलाफ जीत में उनका अहम रोल रहा है। फाइनल में भी केन टीम के लिए अहम भूमिका निभा सकते हैं। जहां तक घर में खेलने की बात है तो यह निश्चित रूप से काफी मददगार साबित होता है। किसी भी टीम को अपने दर्शकों के सामने खेलने का फायदा मिलता है। इंग्लैंड को भी फायदा मिला, लेकिन कई बार बड़े मैचों में यह अतिरिक्त दबाव भी बनाता है।

सवाल: कई इटैलियन फॉरवर्ड फॉर्म में नहीं दिखे? क्वार्टर फाइनल और सेमीफाइनल में दूसरे हाफ में बलोत्ती और बेर्राडी स्ट्रगल करते दिखे...
जवाब: इम्मोबिले फॉर्म में नहीं हैं। वे काफी हार्डवर्क करते हैं, लेकिन कई बार गोल के मौके को नहीं भुना सके हैं। इन्सिन्ये और किएसा फॉर्म में हैं। एक लेफ्ट से खेलते हैं और एक राइट से। दोनों ही टूर्नामेंट में गोल करने में सफल भी हुए हैं।

अगर स्पेन के साथ मैच को छोड़ दें तो इटली ने टूर्नामेंट के बाकी मैचों में डॉमिनेट किया है। वहीं इंग्लैंड की बात करें तो हैरी केन फॉर्म में हैं। अंतिम तीन मैचों में वे चार गोल कर चुके हैं। उनका साथ देने के लिए रहीम स्टर्लिंग हैं। सांचो भी फॉर्म में है। मुझे लगता है कि इस मैच में गोल करने के बहुत ही कम मौके मिलेंगे, जो टीम सीमित मौके का फायदा लेने में सफल होंगी, वह कप पर कब्जा करने की हकदार होगी।

सवाल: क्या यह रोनाल्डो का आखिरी यूरो कप टूर्नामेंट था?
जवाब: हमको और आपको लगता है कि रोनाल्डो का यह आखिरी टूर्नामेंट है, लेकिन वे काफी फिट हैं और अगले यूरो कप में भी खेलें तो हैरानी नहीं होनी चाहिए। रोनाल्डो फिटनेस पर पूरा ध्यान रखते हैं। मुझे लगता है कि वे अभी लंबे समय तक खेल सकते हैं।

खबरें और भी हैं...