• Hindi News
  • Sports
  • FIFA World Cup 2022 Top Winning Contenders; Brazil Argentina Uruguay | Messi Ronaldo Neymar

फीफा वर्ल्ड कप के 6 बड़े दावेदार:ब्राजील-अर्जेंटीना टॉप पर, मेसी-नेमार पर रहेंगी सबकी नजरें

16 दिन पहले

फीफा वर्ल्ड कप का आगाज आज से होने जा रहा है। दुनियाभर की 32 टीमें वर्ल्ड कप में हिस्सा ले रही हैं। स्पोर्ट्स वेबसाइट ओप्टा एनालिस्ट ने इस मेगा टूर्नामेंट के लिए एक सर्वे किया है। इसमें वेबसाइट ने सुपर कम्प्यूटर की मदद से फीफा वर्ल्ड कप में हिस्सा ले रही टीमों का एनालिसिस किया है। इस पर मिले डेटा के अनुसार 6 टीमों को वर्ल्ड कप खिताब का दावेदार माना जा रहा है।

आइए जानते है कि कौन सी टीमें वर्ल्ड कप खिताब की दावेदार हैं और उनका परफॉर्मेंस कैसा रहा है...लेकिन इससे पहले इस पोल में अपनी राय दीजिए...

6. जर्मनी 7.7%
ओप्टा के मुताबिक जर्मनी के जीतने के चांस 7.7 फीसदी हैं। चार बार की वर्ल्ड कप चैंपियन जर्मनी ने 2014 में ब्राजील को उसी के घर में 7-1 से हराया था।

जर्मनी का पिछले वर्ल्ड कप में प्रदर्शन देखें तो वह साउथ कोरिया के खिलाफ हार कर ग्रुप स्टेज में बाहर हो गई थी। इसलिए इस बार जर्मनी ने म्युनिख के पूर्व कोच हंसी फ्लिक को टीम की कमान सौंपी है। हंसी फ्लिक ने बायर्न म्युनिख को एक ही सीजन में सिक्सटुपल (6 प्रमुख कप) जिताए थे।

टीम के पास हर पोजिशन पर कम से कम एक प्रमुख खिलाड़ी है। जर्मनी के दोनों गोलकीपर नोयर और टर स्टेगन ने इस सीजन में अपने क्लब को कई बार हार से बचाया है।

मिडफील्ड में गुंडोगन और खिमिच अपनी टीम में अहम भूमिका निभाएंगे। फॉरवर्ड में साने और नाबरी जैसे फास्ट और मुलर जैसे अनुभवी प्लेयर्स साथ मिलकर टीम के लिए गोल दाग सकते है।

5. इंग्लैंड 8.8 %
1966 के बाद इंग्लैंड की टीम एक भी वर्ल्ड कप नहीं जीत पाई है। पिछले कुछ सालों में इंग्लैंड ने अच्छा खेल दिखाया है। इस टीम के लगभग सभी प्लेयर्स दुनिया की बेस्ट लीग EPL यानी इंग्लिश प्रीमियर लीग में खेलते हैं।

हैरी केन की कप्तानी में टीम 2020 में यूरो कप के फाइनल में पहुंची थी। टीम के पास यंग टैलेंट की भरमार है। मार्कस रेश्फोर्ड, ट्रेंट अर्नाल्ड, एरॉन रैम्‍स‍डेल, बुकायो साका और जूड बेलिंघम जैसे युवा सितारे हैं जो अपने क्लब में अहम खिलाड़ी साबित हुए हैं।

मार्कस रेश्फोर्ड इस साल मैनचेस्टर यूनाइटेड के टॉप स्कोरर रहे हैं। वहीं, टीम के गोलकीपर निक पोप और एरॉन रैम्‍स‍डेल के पास इंग्लिश प्रीमियर लीग में सबसे ज्यादा क्लीन शीट है। यानी उन्होंने 7 मैच में एक भी गोल नहीं खाया।

4. स्पेन 8.9%

2010 वर्ल्ड कप की विजेता टीम स्पेन के जीतने के चांस 8.9% है। स्पेन ने आज तक एक बार ही वर्ल्ड कप जीता है। 2010 से पहले स्पेन की टीम कभी फाइनल भी नहीं पहुंच पाई थी। 2018 में स्पेन का प्रदर्शन बुरा रहा था। टीम रूस के खिलाफ राउंड ऑफ 16 में बाहर हो गई थी।

इस साल टीम यंग प्लेयर्स के साथ ग्राउंड पर उतरेगी। बार्सिलोना के पूर्व कोच लुइस एनरिके अपने बोल्ड फैसलों के लिए जाने जाते हैं। 2015 सीजन में उन्होंने बार्सिलोना को ट्रेबल (सीजन की तीन मुख्य ट्रॉफी) जिताई थी।

उन्होंने 2020 यूरो कप में एक नई टीम स्थापित की और अपने टैक्टिक्स से सभी को हैरान कर दिया। स्पेन यूरो कप के सेमीफाइनल में विजेता टीम इटली को कड़ी टक्कर देते हुए गेम को पेनल्टी तक लेकर गई थी।

इसके साथ ही टीम में बार्सिलोना टीम के दो प्रभावशाली यंग मिडफील्डर है। गावी और पेड्री। पेड्री को 2021 में यंग प्लेयर ऑफ द ईयर का खिताब मिला था। साथ ही गावी ने इस साल यूरोप के गोल्डन बॉय का अवॉर्ड भी जीता था। स्पेन की टीम की पासिंग स्किल भी बेमिसाल है।

3. फ्रांस 12%

फ्रांस के नाम 2 वर्ल्ड कप है। डिफेंडिंग चैंपियंस ने 2018 में वर्ल्ड कप जीता था। इससे पहले 1998 वर्ल्ड कप पर भी फ्रांस ने कब्जा जमाया था। यूरो 2020 में फ्रांस राउंड ऑफ 16 में बाहर हो गया था।

इस साल अगर स्क्वाड की बात करे तो टीम संतुलित है। टीम के स्टार स्ट्राइकर किलियन एम्बाप्पे पर सबकी नजर रहेगी। हालांकि करीम बेंजेमा की चोट ने टीम को झटका दिया है। इससे टीम के चैंपियन बनने की संभावनाएं कम हुई हैं। लेकिन, मुकाबलों का परिणाम काफी हद तक एम्बाप्पे के प्रदर्शन पर निर्भर करेगा।

पिछले एक साल में बेंजेमा ने कमाल का फॉर्म दिखाया है। इस साल उन्हें फुटबॉल का सर्वोच्च सम्मान बैलन डी'ओर भी मिला है।

इस सीजन किलियन एम्बाप्पे यूरोप के तीसरे सबसे बड़े गोल स्कोरर हैं।

2. अर्जेंटीना 13.1%
माराडोना ने अर्जेंटीना को 1986 में वर्ल्ड कप जिताया था। 2014 में ये टीम वर्ल्ड कप के फाइनल तक पहुंची थी। 2018 में अर्जेंटीना राउंड ऑफ 16 में बाहर हो गई थी। 2021 में टीम ने वापसी की और कोपा अमेरिका ट्रॉफी अपने नाम की।

अर्जेंटीना के हेड कोच लियोनल स्कालोनी टीम के लिए बहुत अच्छे साबित हुए हैं। स्कालोनी फीफा वर्ल्ड कप 2018 के बाद अर्जेंटीना के कोच बने। उसके बाद वे अर्जेंटीना को दो इंटरनेशनल ट्रॉफी दिला चुके हैं।

वर्ल्ड कप में लियोनल मेसी अटैक संभालेंगे। टीम के मिड-फील्डर एंजल डी मरिया और डी पॉल अच्छे फॉर्म में है। डिफेंस में लिसांड्रो मार्टिनेज के आने से टीम और मजबूत हो गई है।

1. ब्राजील 16.13%
वर्ल्ड कप के इतिहास में ब्राजील के पास सबसे ज्यादा खिताब है। ब्राजील ने रिकॉर्ड 5 बार वर्ल्ड कप जीता है। ब्राजील ने आखिरी बार 2002 में वर्ल्ड कप जीता था। पिछले वर्ल्ड कप यानी 2018 में ब्राजील क्वार्टर फाइनल से बाहर हो गई थी। टीम को बेल्जियम के खिलाफ 2-1 से शिकस्त मिली थी।

इस साल कोपा अमेरिका में हारने के बावजूद ब्राजील वर्ल्ड कप जीतने के प्रबल दावेदारों में से एक है। ब्राजील का अटैकिंग लाइनअप बहुत मजबूत है। नेमार टीम को लीड करेंगे। इस साल PSG क्लब में नेमार अलग रंग में नजर आए।

नेमार इस समय यूरोप के क्लब फुटबॉल में छठे नंबर के टॉप गोल स्कोरर हैं। उनकी फॉर्म भी लौट आई है। ब्राजील के अटैकिंग लाइनअप में विनिशियस जूनियर, गेब्रियल और रफिना ने अपने-अपने क्लब में बहुत अहम भूमिका निभाई है।

साथ ही ब्राजील के डिफेन्स में अनुभवी खिलाडी है। 38 साल के थिएगो सिल्वा, जुवेंटस के स्टार डिफेंडर 31 साल के डानीलो और यूरोप के टॉप प्लेयर में से एक कैसेमीरो डिफेंस को लीड करेंगे।

साथ ही 39 साल के राइट बैक डानी एल्वेस जुड़े हैं। इसके साथ ही यूरोप के दो बेस्ट गोलकीपर ब्राजील के पास हैं। मेनचेस्टर सिटी के एडरसन और लिवरपूल के एलिसन बेकर वर्ल्ड कप में डिफेंस की आखिरी लाइन को मजबूत करेंगे।