• Hindi News
  • Sports
  • Football Club Match Fixing Case CBI Investigation Udpate | Football News

इंडियन फुटबॉल में फिक्सिंग, सिंगापुर कनेक्शन:CBI ने फुटबॉल फेडरेशन से क्लब और इन्वेस्टमेंट डिटेल मांगी

नई दिल्ली15 दिन पहले
विल्सन राज ने यह बयान एक टीवी चैनल को इंटरव्यू के दौरान दिया था। उसे दुनिया के सबसे शातिर फिक्सर्स में गिना जाता है।

भारत में क्लब फुटबॉल में फिक्सिंग के आरोपों की CBI जांच शुरू हो गई है। CBI टीम ने हाल ही में दिल्ली के द्वारका ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन (AIFF) जाकर अधिकारियों से पूछताछ की थी। फेडरेशन से क्लबों और उनके इन्वेस्टमेंट की जानकारी मांगी गई है। भारत में फुटबॉल की गवर्निंग बॉडी AIFF है। इस फिक्सिंग केस में सिंगापुर के मैच फिक्सर का नाम भी सामने आ रहा है।

भारतीय फुटबॉल महासंघ के सचिव शाजी प्रभाकरन ने कहा है- 'AIFF मैच फिक्सिंग को कतई बर्दाश्त नहीं करता है और हमने क्लबों को जांच में सहयोग करने के लिए कहा है।' पूरी खबर पढ़ने से पहले हमारे इस पोल में अपनी राय दे दीजिए...

फुटबॉल में फिक्सिंग का मामला रविवार को सामने आया

ANI के मुताबिक, भारत में क्लब फुटबॉल में मैच में फिक्सिंग का मामला रविवार को सामने आया। CBI को एक इंटरनेशनल फिक्सर के बारे में जानकारी मिली थी। उसने शेल कंपनियों के माध्यम से कम से कम 5 भारतीय फुटबॉल क्लबों में कथित तौर पर बड़ी राशि इन्वेस्ट की।

सिंगापुर का मैच फिक्सर, फिक्सिंग में जेल भी काट चुका है

सिंगापुर के जिस मैच फिक्सर की बात की जा रही है। उसका नाम विल्सन राज पेरूमल है। अब तक हुई जांच में पता चला कि विल्सन ने लिंविंग 3D होल्डिंग लिमिटेड के जरिए इंडियन क्लबों में इन्वेस्टमेंट किया है। विल्सन 1995 में सिंगापुर में मैच फिक्सिंग के आरोपों में जेल जा चुका है। उसे फिनलैंड और हंगरी में भी सजा सुनाई गई थी।

विल्सन राज पेरूमल की यह फोटो इंटरनेट से ली गई है। वह सिंगापुर में फिक्सिंग के आरोप में जेल भी काट चुका है।
विल्सन राज पेरूमल की यह फोटो इंटरनेट से ली गई है। वह सिंगापुर में फिक्सिंग के आरोप में जेल भी काट चुका है।

घरेलू टूर्नामेंट खेल रही इंडियन एरोज पर भी आरोप

CBI सूत्र बताते हैं कि आई-लीग में शामिल टीम इंडियन एरोज पर भी गंभीर आरोप लगे हैं। हम पता लगा रहे हैं कि इंडियन एरोज कैसे फिक्सिंग घोटाले में उतरी। एरोज को फुटबॉल फेडरेशन और ओडिशा सरकार ने फंड दिया था। इसमें कोई विदेशी खिलाड़ी या विदेशी कर्मचारी नहीं था। यह संभवत: टीम से जुड़े कुछ लोग हो सकते हैं। CBI ने क्लबों से भी विदेशी खिलाड़ियों और तकनीकी कर्मचारियों के कॉन्ट्रैक्ट में शामिल एजेंसियों और स्पॉन्सर्स के बारे में जानकारी मांगी है।

ओलिंपिक्स, वर्ल्ड कप क्वालिफायर मुकाबले भी रडार पर
कुछ रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि इस मामले के बाद बड़े मैचों में भी फिक्सिंग की आशंका जताई जा रही है। ओलिंपिक मुकाबले, विश्व कप क्वालिफायर, महिला विश्व कप, CONCACAF गोल्ड कप और अफ्रीकी कप ऑफ नेशंस सहित अन्य बड़े टूर्नामेंटों भी रडार में हैं।

विल्सन राज पेरूमल, सिपाही बनना चाहता था फिक्सर बन गया

2012 में विल्सन ने रोवानिएमी कोर्ट में उसकी सजा कम करने की अपील की थी। उसे 2 साल की जेल हुई थी, लेकिन रोवानिएमी कोर्ट ने उसकी अपील खारिज कर दी थी। इसी दौरान पेशी के लिए जाता विल्सन।
2012 में विल्सन ने रोवानिएमी कोर्ट में उसकी सजा कम करने की अपील की थी। उसे 2 साल की जेल हुई थी, लेकिन रोवानिएमी कोर्ट ने उसकी अपील खारिज कर दी थी। इसी दौरान पेशी के लिए जाता विल्सन।
  • विल्सन राज पेरूमल, वो इंसान जिसने सिंगापुर की लोकल फुटबॉल लीग्स में फिक्सिंग करते-करते इंटरनेशनल मैचों में फिक्सिंग शुरू कर दी। इसके जरिए उसने करोड़ों की कमाई की। CNN को दिए अपने पहले टीवी इंटरव्यू में विल्सन ने कहा कि अब तक उसने कितने मैच फिक्स किए उसे याद नहीं, लेकिन संख्या 80-100 हो सकती है।
  • विल्सन बचपन में सिपाही बनना चाहता था, लेकिन क्रिमिनल रिकॉर्ड होने के चलते वो ऐसा नहीं कर सका। 19-20 साल की उम्र में सट्टेबाजी में उसे मजा आने लगा। वो सट्टा लगाकर हारना नहीं चाहता था इसलिए धीरे-धीरे लोकल मैच फिक्स करने लगा।
  • 1980 के दशक में उसने शुरुआत की और 90 के दशक के अंत तक वो इंटरनेशनल मैच भी फिक्स करने लगा। 1997 में उसने अपना पहला इंटरनेशनल मैच फिक्स किया जो कि जिम्बाब्वे और बोस्निया-हर्जेगोविना के बीच था।
  • 1995 में विल्सन को एक फुटबॉल खिलाड़ी को घूस देने के मामले में 12 महीने की जेल हुई। इसके 4 साल बाद उसे एक रेफरी और मैच फिक्सर को मिलवाने के कारण 26 महीनों की जेल हुई।
  • साल 2000 में विल्सन ने एक फुटबॉल खिलाड़ी पर हॉकी स्टिक से हमला भी किया। 2011 में विल्सन को फिनलैंड की एक प्रीमियर फुटबॉल लीग में फिक्सिंग के मामले में गिरफ्तार किया गया।
  • जब पुलिस ने उसे पकड़ा तो विल्सन के फोन में उन्हें 38 देशों के नंबर मिले। उसके पास इन देशों के अधिकारियों और खिलाड़ियों के नंबर थे। इतना ही नहीं, इसके लैपटॉप में 50 देशों के नंबर भी थे। फीफा में कुल 209 एसोसिएशन हैं। इस लिहाज से विल्सन के पास एक-चौथाई फीफा एसोसिएशन के कॉन्टैक्ट नंबर थे।

फुटबॉल से जुड़ी अन्य खबरें यहां देखें...

वर्ल्ड कप में 'वन लव बैंड' पर विवाद

पहले ही विवादों में घिर चुके फीफा वर्ल्ड कप में अब LGBT+ विवाद शुरू हो गया है। मैच के दौरान इंग्लैंड समेत 8 टीमों ने समलैंगिक संबधों का सपोर्ट करने का फैसला किया है। पूरी खबर यहां देखें...

फीफा में लैटिन अमेरिका और यूरोप की बादशाहत

फीफा वर्ल्ड कप की शुरुआत 1930 में हुई। तब से आज तक या तो लैटिन अमेरिका या फिर यूरोप की किसी टीम ने ये टूर्नामेंट जीता। ब्राजील 5 तो जर्मनी और इटली 4-4 बार फीफा वर्ल्ड कप जीत चुके हैं। फ्रांस और उरुग्वे ने 2-2 के अलावा इंग्लैंड और स्पेन ने 1-1 बार यह ट्रॉफी जीती। पूरी स्टोरी यहां पढ़ें...

फीफा वर्ल्ड कप के बीच कतर पहुंचा भगोड़ा जाकिर नाइक

भारत में मनी लॉन्ड्रिंग और जहरीले भाषण देने के आरोपी जाकिर नाइक को कतर की सरकार ने फुटबॉल वर्ल्ड कप के दौरान इस्लामिक उपदेश देने के लिए बुलाया है। गिरफ्तारी के डर से भारत से फरार होने के बाद इंडोनेशिया से संगठन चला रहा नाइक कतर पहुंच भी चुका है। पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें।

फीफा वर्ल्ड कप का 92 साल का इतिहास बदला...

रविवार रात कतर के अल-बेत स्टेडियम में फीफा वर्ल्ड कप का आगाज हुआ। ओपनिंग मैच मेजबान कतर और इक्वाडोर के बीच खेला गया। इस मैच में इक्वाडोर ने कतर को 2-0 से हरा दिया। दोनों ही गोल इक्वाडोर के कप्तान और स्ट्राइकर एनर वेलेंसिया ने दागे। पूरी मैच रिपोर्ट पढ़ने के लिए क्लिक करें।