पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Sports
  • French Open 2021 Barbora Krejcikova Became The New Clay Queen, Pavlyuchenkova Lost In The Finals

फ्रेंच ओपन टेनिस:बारबोरा क्रेज्सिकोवा बनीं नई क्ले क्वीन, 52 ग्रैंडस्लैम खेलने के बाद पहली बार फाइनल में पहुंचीं पाव्ल्यूचेंकोवा हारीं

पेरिस4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
25 साल की बारबोरा क्रेज्सिकोवा चैंपियन बनने के बाद ट्रॉफी को चूमती हुईं। लगातार छठे साथ फ्रेंच ओपन को नई वुमंस सिंगल्स चैंपियन मिली है। - Dainik Bhaskar
25 साल की बारबोरा क्रेज्सिकोवा चैंपियन बनने के बाद ट्रॉफी को चूमती हुईं। लगातार छठे साथ फ्रेंच ओपन को नई वुमंस सिंगल्स चैंपियन मिली है।

चेक रिपब्लिक की बारबोरा क्रेज्सिकोवा ने फ्रेंच ओपन में वुमंस सिंगल्स का खिताब जीत लिया है। 25 साल की अनसीडेड (गैर वरीय) खिलाड़ी क्रेजिस्कोवा ने फाइनल मुकाबले में रूस की अनास्तासिया पाव्ल्यूचेंकोवा को 6-1, 6-3 से हराकर क्ले कोर्ट पर होने वाले इस इकलौते ग्रैंड स्लैम का खिताब जीता। 40 साल बाद चेक रिपब्लिक की किसी महिला खिलाड़ी ने फ्रेंच ओपन का खिताब जीता है। उनसे पहले 1981 में हाना मांडलिकोवा ने यह उपलब्धि हासिल की थी। क्रेज्सिकोवा ने अपने करियर में सिर्फ पांचवीं बार किसी ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट के सिंगल्स इवेंट के मुख्य ड्रॉ में उतरी थीं।

मैच के बाद क्रेज्सिकोवा (दाएं) को बधाई देतीं पाव्ल्यूचेंकोवा।
मैच के बाद क्रेज्सिकोवा (दाएं) को बधाई देतीं पाव्ल्यूचेंकोवा।

लगातार छठे साल नई चैंपियन
फ्रेंच ओपन टेनिस टूर्नामेंट में लगातार छठे साल महिला सिंगल्स में कोई नई चैंपियन सामने आई है। वहीं, कुल मिलाकर पिछले 15 ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट में 9 अलग-अलग महिला चैंपियन सामने आई हैं।

पहला गेम हारने के बाद की वापसी
क्रेज्सिकोवा ने फाइनल मुकाबले में अपनी सर्विस पर पहला गेम गंवा दिया। लेकिन, इसके बाद उन्होंने जोरदार वापसी की और लगातार छह गेम जीतकर पहला सेट अपने नाम कर लिया। दूसरे गेम में पाव्ल्यूचेंकोवा ने बेहतर खेल दिखाया और जल्द ही 5-1 की बढ़त पर आ गईं। उन्होंने यह सेट आखिरकार 6-2 से जीता। तीसरे सेट में 4-5 के स्कोर पर पाव्ल्यूचेंकोवा ने दो मैच पॉइंट बचाए, लेकिन आखिरकार क्रेज्सिकोवा ने यह गेम, सेट और मैच जीतने में कामयाबी हासिल कर ली।

क्रेज्सिकोवा इससे पहले दो डबल्स खिताब जीत चुकी हैं।
क्रेज्सिकोवा इससे पहले दो डबल्स खिताब जीत चुकी हैं।

कभी चौथे राउंड में भी नहीं पहुंची थीं क्रेज्सिकोवा
क्रेज्सिकोवा मुख्यतः डबल्स की खिलाड़ी रही हैं। वे डबल्स में पहले दो ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट जीत चुकी थीं। हालांकि, सिंगल्स में क्रेज्सिकोवा इससे पहले किसी ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट के चौथे राउंड में भी नहीं पहुंच पाई थीं। क्रेज्सिकोवा ने साबित किया कि फ्रेंच ओपन में महिला सिंगल्स में रैंकिग और वरीयता सिर्फ नंबर है। उनसे पहले 2017 में येलेना ओस्टापेंको और 2020 में इगा स्विटेग अनसीडेड खिलाड़ी के तौर पर यहां चैंपियन बन चुकी हैं।

अपना 52वां ग्रैंडस्लैम खेल रहीं पाव्ल्यूचेंको पहली बार फाइनल में पहुंची थीं।
अपना 52वां ग्रैंडस्लैम खेल रहीं पाव्ल्यूचेंको पहली बार फाइनल में पहुंची थीं।

नहीं खत्म हुआ पाव्ल्यूचेंकोवा का इंतजार
रूस की 29 साल की खिलाड़ी अनास्तासिया पाव्ल्यूचेंकोवा पहली बार किसी ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट के सिंगल्स इवेंट के फाइनल में पहुंची थीं। यह उनका 52वां ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट है। पाव्ल्यूचेंकोवा ने सबसे अधिक ग्रैंडस्लैम खेलने के बाद फाइनल में पहुंचने का रिकॉर्ड बनाया था। उनसे पहले यह रिकॉर्ड इटली की रॉबर्टा विंसी के नाम था। विंसी अपने 44वें ग्रैंड स्लैम में पहली बार फाइनल में पहुंची थीं। बहरहाल पाव्ल्यूचेंकोवा खिताब नहीं जीत पाईं। अगर वे चैंपियन बनतीं तो फ्लाविया पेनेटा को बाद सबसे अधिक उम्र में अपना पहला ग्रैंड स्लैम खिताब जीतने वाली महिला खिलाड़ी बन जातीं। पेनेटा ने 33 साल की उम्र में यूएस ओपन के रूप में अपना पहला ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट जीता था।

खबरें और भी हैं...