फुटबॉल:सुपर एजेंट रायोला के निधन की खबरें वायरल हुईं, खुद सोशल मीडिया पर पोस्ट कर बताया कि जिंदा हूं

मिलान2 महीने पहले

प्रतिष्ठित फुटबॉल एजेंट मिनो रायोला जीवित हैं और अस्पताल में हैं। उनके निधन की खबरें वायरल हुई थीं। रायोला को खुद सोशल मीडिया के जरिए अपने जिंदा होने का सबूत देना पड़ा। दरअसल, गुरुवार रात ऐसी खबरें आईं कि फुटबॉल की दुनिया के सुपर एजेंट रायोला की मृत्यु हो गई है। इटली की मीडिया में ऐसी खबरें फैल गईं। धीरे-धीरे यूरोप के भी कई मीडिया आउटलेट्स में ऐसी बातें होने लगीं कि उनका निधन हो गया। फुटबॉल के सबसे शक्तिशाली और सबसे ज्यादा कमाई करने वाले एजेंट्स में से एक रायोला को ट्वीट करना पड़ा- जीवित हूं। यह ट्वीट मेरे निधन के बारे में सोचने वाले लाेगों के लिए है। वे चार महीने में दूसरी बार मुझे मार चुके हैं।

उनका यह बयान तब आया, जब मिलान के सैन रैफेल अस्पताल के डॉक्टर अल्बर्टो जांग्रिलो ने एक न्यूज एजेंसी को बताया कि वे ऐसे पत्रकारों के समूह से नाराज हैं, जो ऐसी गलत और अटकलों वाली खबरें प्रसारित करते हैं। एक व्यक्ति (रायोला) जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहा है और जीवित रहने के लड़ रहा है, उसके बारे में कुछ लोग अफवाहें फैला रहे हैं।

रायाेला जनवरी से गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं

इटली में जन्मे रायोला जनवरी से गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं। वे तब से ही अस्पताल में भर्ती हैं। वे पॉल पोग्बा, जियानलुईजी डोनारुमा, अर्लिंग हालेंड, मारियो बालोटेली, मथाइस डि लिट, ज्लाटन इब्राहिमोविच जैसे सुपरस्टार फुटबॉलर्स के एजेंट हैं। रायोला नीदरलैंड्स में पले-बढ़े। उन्होंने डच फुटबॉल क्लब एचएफसी हारलीम की यूथ टीम में शामिल थे। उन्होंने फुटबॉल एजेंसी की दुनिया में बतौर इंटरप्रेटर (दुभाषिए) के रूप में कदम रखा था। चेक रिपब्लिक के पावेल नेदवेद उनके पहले बड़े क्लाइंट थे। हालांकि, रायोला के मुखर दृष्टिकोण के कारण वे अक्सर क्लब मैनेजर्स की पसंद नहीं होते थे। रायोला की स्वास्थ्य स्थिति इस बार के कई बड़े समर ट्रांसफर पर असर डाल सकती है। यूनाइटेड के पॉल पोग्बा का मौजूदा सीजन के बाद अनुबंध खत्म हो जाएगा। इससे उनके भविष्य पर सवाल खड़े हो जाएंगे। हालांकि, पीएसजी उन्हें अपने साथ शामिल करना चाहती है। वहीं, हालेंड भी सबसे अधिक मांग वाले स्ट्राइकर्स में से एक हैं। उन्हें खरीदने के लिए सिटी और रियल मैड्रिड सबसे आगे है।