• Hindi News
  • Sports
  • Commonwealth Games 2022 India Medals Updates; Weightlifting Vikas Thakur Punam Yadav | Judo, Swimming, Table Tennis [CWG Medals Tally Day 5]

कॉमनवेल्थ गेम्स में पांचवें दिन भारत को 4 मेडल:लॉन बॉल्स और टेबल टेनिस में सुनहरी कामयाबी, बैडमिंटन और वेटलिफ्टिंग में 1-1 सिल्वर

बर्मिंघम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ये भारतीय महिला लॉन बॉल्स टीम है जिसने फाइनल में साउथ अफ्रीका को 17-10 से पराजित कर गोल्ड जीता। - Dainik Bhaskar
ये भारतीय महिला लॉन बॉल्स टीम है जिसने फाइनल में साउथ अफ्रीका को 17-10 से पराजित कर गोल्ड जीता।

बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स के पांचवें दिन भारत ने दो गोल्ड और दो सिल्वर मेडल जीते। लॉन बॉल्स के विमेंस फोर्स इवेंट में भारत ने साउथ अफ्रीका को हराकर गोल्ड जीता। इसके बाद मेंस टेबल टेनिस टीम ने फाइनल में सिंगापुर को मात देकर सुनहरी कामयाबी हासिल की। बैडमिंटन के मिक्स्ड टीम इवेंट के फाइनल में भारत को मलेशिया से हार झेलने के कारण सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा। वेटलिफ्टिंग में विकास ठाकुर ने मेंस 96 KG कैटेगरी में सिल्वर मेडल जीता। भारत अब तक कुल 13 मेडल के साथ मेडल टैली में छठे स्थान पर है।

पीवी सिंधु ने टीम इवेंट के फाइनल में विमेंस सिंगल्स का मुकाबला जीता।
पीवी सिंधु ने टीम इवेंट के फाइनल में विमेंस सिंगल्स का मुकाबला जीता।

बैडमिंटन फाइनल में सिर्फ सिंधु को मिली जीत
बैडमिंटन फाइनल का पहला मुकाबला मेंस डबल्स का खेला गया। इसमें चिया तेंग फोंग और सोह वूई यिक की मलेशियाई जोड़ी ने सात्विक साईराज रेड्डी और चिराग शेट्टी की भारतीय जोड़ी को 21-18, 21-15 से हराया। इसके बाद डबल ओलिंपिक मेडलिस्ट पीवी सिंधु ने विमेंस सिंगल्स का मैच जीतकर भारत को बराबरी पर ला दिया। सिंधु ने गोह जिन वेई को 22-20, 21-17 से हराया।

इसके बाद मेंस सिंगल्स मुकाबले में मलेशिया के योग जे ने भारत के किदांबी श्रीकांत को तीन गेम में 21-19, 6-21, 21-16 से हराया। विमेंस डबल्स में भी भारतीय जोड़ी को हार झेलनी पड़ी और इस तरह मलेशिया ने 3-1 की अजेय बढ़त के साथ गोल्ड पर कब्जा कर लिया।

साथियान और हरमीत की बदौलत टेबल टेनिस में गोल्ड
इससे पहले भारत ने मेंस टेबल टेनिस के फाइनल में सिंगापुर को 3-1 से हराकर गोल्ड मेडल जीता। जी साथियान और हरमीत देसाई ने अपने-अपने सिंगल्स मैच जीते। साथ ही साथ दोनों खिलाड़ियों ने बतौर जोड़ीदार डबल्स मुकाबला भी जीता।

भारतीय महिलाओं ने रचा इतिहास
भारत को पांचवें दिन का पहला गोल्ड मेडल लॉन बॉल्स में मिला। भारत की विमेंस फोर्स टीम ने फाइनल में साउथ अफ्रीका को 17-10 से हराया। कॉमनवेल्थ गेम्स के 92 साल के इतिहास में पहला मौका है, जब भारतीय लॉन बॉल्स महिला टीम ने कोई मेडल जीता है। फाइनल मैच में भारतीय खिलाड़ी लवली चौबे, पिंकी, नयनमोनी सैकिया और रूपा रानी टिर्की ने शानदार प्रदर्शन किया।

1930 से कॉमनवेल्थ गेम्स की शुरुआत हुई। पहले टूर्नामेंट से ही लॉन बॉल्स कॉमनवेल्थ का हिस्सा है, लेकिन भारतीय महिला टीम कभी इसमें कोई भी मेडल नहीं जीत सकी थी।

2010 में नई दिल्ली में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स में भारतीय पुरुष और महिला टीम पहली बार लॉन बॉल्स के लिए क्वालिफाई कर सकी थी।

तिरंगे के साथ भारत की चैंपियन बेटियां।
तिरंगे के साथ भारत की चैंपियन बेटियां।

एथलेटिक्स में तीन खिलाड़ी से मेडल की उम्मीद

1.भारतीय लॉन्ग जंपर श्रीशंकर मुरली और मोहम्मद अनीस ने फाइनल के लिए क्वालिफाई कर लिया है।

2. शॉटपुट विमेंस में मनप्रीत ने मेडल राउंड में जगह बना ली है।

भारतीय महिला हॉकी टीम को मिली हार
भारतीय महिला हॉकी टीम को इंग्लैंड के खिलाफ 1-3 से हार मिली है। भारत के लिए मैच में इकलौता गोल वंदना कटारिया ने 60वें मिनट में किया। वहीं, इंग्लैंड के लिए पहला गोल जिसेल एंसली और दूसरा गोल टेस होवार्ड ने किया। हन्ना मार्टिन ने टीम के लिए तीसरा गोल किया। भारत ने इससे पहले घाना को 5-0 से और वेल्स को 3-1 से हराया था।

वेटलिफ्टिंग: मेडल से चूकीं पूनम यादव, पिछली बार गोल्ड जीता था

भारतीय वेटलिफ्टर पूनम यादव विमेंस 76KG वेट कैटेगरी में मेडल जीतने से चूक गईं। उन्होंने स्नैच में 98 KG वेट उठाया। लेकिन, क्लीन एंड जर्क के तीन प्रयास में वे एक बार भी 116 KG वेट नहीं उठा पाईं। पूनम 2018 कॉ़मनवेल्थ गेम्स की गोल्ड मेडलिस्ट थीं और इस बार भी उनसे सोने के तमगे की उम्मीद थी।

क्लीन एंड जर्क के तीसरे प्रयास में पूनम ने वेट उठा लिया था। लेकिन, रेफरी के सिग्नल से पहले ही उन्होंने बारबेल नीचे रख दिया और उनकी लिफ्ट डिसक्वालिफाई कर दी गई। भारतीय दल ने रेफरी के फैसले को चैलेंज भी किया लेकिन गेम्स ज्यूरी ने इसे खारिज कर दिया।