• Hindi News
  • Sports
  • Ranji Trophy 2022 Final Match; Madhya Pradesh Vs Mumbai, Madhya Pradesh Jurny Of Final Prithvi Shaw Indian Cricketer, Aditya Shrivastava Indian Cricketer, Bhopal Madhya Pradesh

1.5 करोड़ के कोच ने MP को रणजी-फाइनल में पहुंचाया:चंद्रकांत पंडित ने इन्फेंट्री स्कूल में ट्रेनिंग कराई, टीम को रात 12 बजे भी प्रैक्टिस के लिए उठा देते थे

बेंगलुरू8 दिन पहलेलेखक: कृष्ण कुमार पांडेय
  • कॉपी लिंक

मुंबई और मध्यप्रदेश के बीच बुधवार से बेंगलुरु के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में रणजी ट्रॉफी का फाइनल मुकाबला शुरू होगा। मुंबई 41 बार की चैंपियन है, वहीं MP की टीम अपने पहले खिताब की तलाश में उतरेगी। 88 साल के टूर्नामेंट के इतिहास में मध्यप्रदेश ने दूसरी बार फाइनल में जगह बनाई है। टीम 23 साल के बाद खिताबी मुकाबला खेल रही है। MP की इस कामयाबी के पीछे कोच चंद्रकांत पंडित को सबसे ज्यादा श्रेय दिया जा रहा है।

चलिए जानते हैं कि पंडित ने कैसे एक औसत दर्जे की टीम की कायापलट कर उसे देश के सबसे बड़े घरेलू टूर्नामेंट की फाइनलिस्ट बना दिया।

दो साल पहले टीम से जुड़े थे पंडित
पंडित ने दो साल पहले ही टीम की कोचिंग की कमान संभाली थी। उनके कार्यकाल के पहले साल में MP की टीम लीग राउंड में ही बाहर हो गई थी। फिर अगले सीजन में, यानी इस बार MP ने कमाल कर दिया। करीब 1.5 करोड़ रुपए की सालाना सैलरी पर नियुक्त हुए कोच पंडित ने टीम को दो साल में फर्श से अर्श तक पहुंचा दिया। इससे पहले वे मुंबई को 2015-16, विदर्भ को 2017-18 और 2018-19 में चैंपियन बना चुके हैं।

आचरेकर सर से सीखे क्रिकेट के गुर
चंद्रकांत पंडित ने क्रिकेट की बारीकियां सचिन तेंदुलकर के गुरु और मशहूर क्रिकेट कोच रमाकांत आचरेकर से सीखी हैं। बतौर खिलाड़ी पंडित ने टीम इंडिया के लिए पांच टेस्ट और 36 वनडे मुकाबले खेले हैं। वे 1986 की वर्ल्ड कप टीम का हिस्सा रहे हैं। उन्होंने अपने कॅरियर में 171 टेस्ट और 290 वनडे रन बनाए हैं।

उनके डोमेस्टिक करियर की बात करें तो मुंबई की ओर से खेले 138 फर्स्ट क्लास मैचों में पंडित के नाम 48.57 के औसत से 8,209 रन दर्ज हैं। उन्होंने 22 शतक और 42 अर्धशतक जड़े। उनका सर्वाधिक स्कोर 202 रन रहा।

कुमार कार्तिकेय ने पिछले मैच में 5 विकेट लिए थे।
कुमार कार्तिकेय ने पिछले मैच में 5 विकेट लिए थे।

एक कॉल पर टीम मैदान में हाजिर होती थी
पंडित ने सबसे ज्यादा जोर डिसिप्लिन पर दिया। चाहे खिलाड़ियों के आने-जाने की टाइमिंग हो, या ड्रेस कोड, या फिर टीम बिहेवियर, पंडित रत्ती भर भी अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं करते थे। पंडित के एक कॉल पर टीम प्रैक्टिस के लिए ग्राउंड पर होती थी। एक बार तो उन्होंने रात 12 बजे खिलाड़ियों को ग्राउंड पर उतार दिया था। वे उस दिन खिलाड़ियों की अलर्टनेस देखना चाहते थे। यदि कोई खिलाड़ी ट्रेनिंग में लेट होता था तो उसे पूरा सेशन छोड़ना होता था। यदि रवानगी के समय कोई लेट हो जाए तो टीम उसे वहीं छोड़कर चली जाती थी। बाद में खिलाड़ी खुद के खर्चे से टीम ज्वाइन करता था।

मप्र के लिए रजत ने 506 रन बनाए हैं। (फाइल)
मप्र के लिए रजत ने 506 रन बनाए हैं। (फाइल)

खुद टैलेंट स्काउट किया
पंडित क्रिकेट मैच देखना खूब पसंद करते हैं। वे एज ग्रुप क्रिकेट के डिविजनल मैच देखने पहुंच जाते थे। यदि कोई टैलेंटेट खिलाड़ी दिखता तो उसे कैंप के लिए बुला लेते थे।

मिक्स्ड कैंपिंग काम आई
पंडित ने दो साल के कार्यकाल में टीम के लिए 405 दिन ट्रेनिंग कैंप लगाया। बारिश में कैंप का आयोजन होता था। पंडित ने रणजी टीम के साथ-साथ महिला टीम और एज ग्रुप की टीमों के खिलाड़ियों को भी हर तरह की चुनौतियों के लिए ट्रेन किया। पंडित के कोच बनने के बाद एक अंडर-19 क्रिकेटर भी रणजी टीम के खिलाड़ियों के साथ नेट्स कर सकता था।

सरफराज ने 803 रन बनाए हैं सीजन में (बाएं)।
सरफराज ने 803 रन बनाए हैं सीजन में (बाएं)।

युवाओं के लिए सिलेक्टर्स से लड़ जाते थे
पंडित मजबूत टीम बनानवे के लिए डिविजनल मैचों और ट्रायल के माध्यम से खिलाड़ियों को स्काउट करते थे। जो खिलाड़ी टैलेंटेड दिखता उसे कैंप में बुलाते थए। सूत्र यहां तक बताते हैं कि इस सीजन में एक खिलाड़ी के चयन पर उनकी चयनकर्ताओं से भी बहस हो गई थी। यहां तक कि उनके इस्तीफे की खबरें भी आईं।

हर खिलाड़ी का लेखा-जोखा रखते हैं
कोच पंडित अपने हर खिलाड़ी का डोजियर तैयार रखते हैं। इसमें उसका परफॉर्मंस, उसका ट्रेनिंग शेड्यूल सब कुछ होता है। हर दिन टीम मीटिंग होती थी। इसमें कोच हर खिलाड़ी को उसके खेल से संबंधित टिप्स देते थे और अगले दिन उस पर काम होता था।

यशस्वी जायसवाल फाइनल से पहले 419 रन बना चुके हैं।
यशस्वी जायसवाल फाइनल से पहले 419 रन बना चुके हैं।

मैच सिमुलेशन भी काम आया
कैंप से जुड़े एक सूत्र ने बताया कि इस सीजन में मैच सिमुलेशन प्रैक्टिस भी काम आई। वे कैंप के दौरान खिलाड़ियों को सिचुएशन दे देते थे और उसके हिसाब से खेलने को कहते थे। इस दौरान हर खिलाड़ी के कान में हियरिंग डिवाइस लगी होती थी और कोच बाउंड्री के बाहर वॉकी टॉकी से इंस्ट्रक्शन देते थे।

जूनियर-सीनियर कल्चर खत्म करने के लिए 'भैया' शब्द बैन
कोच ने टीम में जूनियर-सीनियर कल्चर खत्म करने के लिए कोच ने 'भैया' के संबोधन पर बैन लगा दिया था। सब एक दूसरे को नाम से ही बुलाते थे, फिर चाहे वह जूनियर हो या सीनियर। कोच का तर्क था कि यदि आप किसी की इज्जत करते हो तो दिल से करो, जबान से नहीं। खिलाड़ियों को मेंटली टफ करने के लिए महू स्थित आर्मी इन्फेंट्री.स्कूल में खिलाड़ियों के सेशन कराए। इसके लिए सेना से विशेष इजाजत ली गई। इतना ही नहीं, वहां के एक्सपर्ट को होलकर स्टेडियम बुलाकर खिलाड़ियों को ट्रेन भी कराया।

खबरें और भी हैं...