• Hindi News
  • Sports
  • Strange Due To The Stadium Being In Two Countries, The Team Had To Postpone The Match, Because Different Corona Protocols In Both The Countries

अजब-गजब:स्टेडियम दो देश में होने की वजह से टीम को टालना पड़ा मैच, क्याेंकि दोनों देश में अलग कोरोना प्रोटोकॉल

14 दिन पहलेलेखक: रॉरी स्मिथ
  • कॉपी लिंक
इंग्लैंड की टीम चेस्टर एफसी का घरेलू स्टेडियम वेल्स-इंग्लैंड की बॉर्डर पर। - Dainik Bhaskar
इंग्लैंड की टीम चेस्टर एफसी का घरेलू स्टेडियम वेल्स-इंग्लैंड की बॉर्डर पर।

एक फुटबॉल स्टेडियम ऐसा है, जिसका मैदान तो वेल्स में है, लेकिन पार्किंग इंग्लैंड में है। इंग्लैंड के फुटबॉल क्लब चेस्टर एफसी का घरेलू डेवा स्टेडियम ऐसा ही है। कभी इंग्लिश फुटबॉल की टॉप टीमों में रही चेस्टर मौजूदा समय में इंग्लैंड के छठे टियर में खेलती है। सिर्फ स्टेडियम की लोकेशन ही इसे खास बनाती है। इसके अलावा कुछ नहीं। क्लब के ऑफिशियल हिस्टोरियन चेस सुमनेर कहते थे कि स्टेडियम का स्थान मामूली नेम-फेम के लिए है। इससे कभी-कभी बहुत असुविधा हो जाती थी। चेस्टर एफसी को एक बार फिर असुविधा का सामना करना पड़ा और अचानक अपना मुकाबला रद्द करना पड़ा। ऐसा इसलिए क्योंकि चेस्टर एफसी पर आरोप था कि उसने वेल्स के कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन किया है। दरअसल, चेस्टर ने न्यू ईयर के दौरान घरेलू मैदान पर दो मैच खेले थे। इस समय दो हजार से ज्यादा फैंस मैच देखने पहुंचे थे। यह इंग्लैंड के नियम के अनुरूप था, लेकिन इससे वेल्स के नियमों का उल्लंघन हुआ क्याेंकि वहां अधिकतम 50 लोग ही आउटडोर इवेंट्स में शामिल हो सकते हैं। चेस्टर को भरोसा नहीं हुआ कि ये नियम उनके मामले में भी लागू होते हैं। चेस्टर के वॉलंटियर अध्यक्ष एंड्रयू मॉरिस ने कहा, ‘हमारा इंग्लिश क्लब है, जिसका स्टेडियम इंग्लैंड और वेल्स दोनों को कवर करता है। हम इंग्लिश फुटबॉल एसोसिएशन में रजिस्टर्ड हैं। जिस जमीन पर स्टेडियम बनाया गया है, वह इंग्लिश काउंसिल के अधीन है। हम इंग्लैंड के शासन और उसकी पुलिस के अधीन हैं।’ लेकिन वेल्स के अधिकारियों को इससे फर्क नहीं पड़ा। सरकार के एक प्रतिनिधि ने कहा, ‘चेस्टर फुटबॉल क्लब का स्टेडियम वेल्स में है, इसलिए वहां वेल्स के नियम लागू होते हैं।’ इस वजह से चेस्टर को इस वीकेंड पर होने वाले अपने मैच को टालना पड़ा। वे इस मामले के निपटारे के लिए कानूनी सलाह ले रहे हैं।