पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Sports
  • Tokyo Olympics: IOA Chief Batra Says India's Male And Female Flagbearer To Be Named By June End | 2 Flag Bearers For The First Time

टोक्यो ओलिंपिक:पहली बार महिला और पुरुष वर्ग के 2 ध्वज वाहक भारतीय दल का नेतृत्व करेंगे, इस महीने के अंत तक हो सकता है ऐलान

नई दिल्ली12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
2016 रियो ओलिंपिक में अभिनव बिंद्रा भारत के ध्वज वाहक रहे थे। - Dainik Bhaskar
2016 रियो ओलिंपिक में अभिनव बिंद्रा भारत के ध्वज वाहक रहे थे।

टोक्यो ओलिंपिक में अब 45 दिन बचे हैं। इससे पहले फैन्स ओलिंपिक के उद्घाटन समारोह में भारतीय दल को नेतृ्त्व करने वाले एथलीट की घोषणा का इंतजार कर रहे हैं। इंडियन ओलिंपिक एसोसिएशन के चीफ नरिंदर बत्रा ने मंगलवार को कहा कि पहली बार महिला और पुरुष दो अलग ध्वज वाहक भारत का नेतृत्व करेंगे। इसकी घोषणा इस महीने के अंत कर दी जाएगी।

अब तक कुल 23 समर ओलिंपिक हुए हैं। इसमें से भारत ने 17 ओलिंपिक में हिस्सा लिया है और 17 ध्वज वाहक रहे हैं। 1920 में भारत ने पहली बार ओलिंपिक में हिस्सा लिया था। एथलीट पूर्मा बनर्जी भारतीय दल की पहली ध्वज वाहक थीं। पिछले एडिशन यानी 2016 में शूटर अभिनव बिंद्रा ने यह रोल निभाया था। इस साल पुरुषों में संजीव राजपूत और बजरंग पूनिया और महिलाओं में पीवी सिंधू और मैरी कॉम में से कोई एक हो सकता है।

''सभी इवेंट में टीमों के ऐलान का इंतजार''
नरिंदर बत्रा ने कहा- अभी तक सभी इवेंट में भारतीय टीम का ऐलान नहीं हुआ। इसमें अभी समय है। आर्चरी में अब भी क्वालिफिकेशन राउंड बाकी है। हमें जब फाइनल लिस्ट मिल जाएगा, हम ध्वज वाहक का ऐलान कर देंगे। उन्होंने कहा कि इस बार हमने लिंग भेद का भी ध्यान रखा है। इसलिए उद्घाटन समारोह में एक महिला और एक पुरुष भारतीय दल का नेतृत्व करेंगे।

''IOC से भी ओपनिंग सेरेमनी को लेकर बातचीत करेंगे''
नरिंदर बत्रा ने कहा- हमें अभी इंटरनेशनल ओलिंपिक कमेटी (IOC) से ओपनिंग सेरेमनी को लेकर बात भी करना है। कोरोना की वजह से इसमें बदलाव किए जा सकते हैं। ऐसे में ये देखना होगा कि यह सेरेमनी होता भी है या नहीं। हम सेरेमनी ड्रेस और बाकी सभी चीजों के लिए तैयार हैं।

पुरुषों में शूटर संजीव राजपूत भारत के ध्वज वाहक हो सकते हैं।
पुरुषों में शूटर संजीव राजपूत भारत के ध्वज वाहक हो सकते हैं।

''अलग-अलग दल में जापान जाएंगे खिलाड़ी''
यह पूछे जाने पर कि टीम इंडिया जापान के लिए कब रवाना होगी? इस पर बत्रा ने कहा कि हमने अलग-अलग दल भेजने का सोचा है। इस पर अभी कुछ क्लीयर नहीं है। IOC के मुताबिक खिलाड़ियों को इवेंट से 5-6 दिन पहले ही टोक्यो पहुंचना है। ऐसे में जिनका इवेंट शुरुआत में है, वे जल्दी जाएंगे। इसके साथ ही इवेंट के 2 दिन बाद ही खिलाड़ियों को टोक्यो छोड़ना होगा। हमने इसी हिसाब से प्लान बनाया है।

''एथलीट ओलिंपिक को लेकर पूरी तरह तैयार''
IOA प्रेसिडेंट ने कहा कि भारतीय एथलीट ओलिंपिक के लिए पूरी तरह तैयार हैं। उन्होंने कहा- वे दुनिया के बाकी देशों के एथलीट की तरह फिट हैं और टूर्नामेंट में मेडल जीतना चाहते हैं। कुछ एथलीट भारत में तैयारी कर रहे हैं और कुछ विदेश में हैं। कुछ सीधे टोक्यो पहुंचेंगे।

महिलाओं में स्टार बैडमिंटन प्लेयर पीवी सिंधु ध्वज वाहक को रोल निभाती दिख सकती हैं।
महिलाओं में स्टार बैडमिंटन प्लेयर पीवी सिंधु ध्वज वाहक को रोल निभाती दिख सकती हैं।

''खिलाड़ियों को वैक्सीनेशन लगवाना हमारी जिम्मेदारी''
वैक्सीनेशन को लेकर बत्रा ने कहा कि इस कोरोना के समय में हमें किसी भी चीज का अंदाजा नहीं है। प्लेयर फाइनल में पहुंचकर भी पॉजिटिव आ सकते हैं। ऐसे में जरूरी है कि हम अपने एथलीट को कोरोना का टीका लगवाएं और हमने ऐसा किया भी है। हमने इसके लिए किसी भी एथलीट पर दबाव नहीं डाला है।

अब तक 50 से ज्यादा एथलीट को दूसरा डोज लगा
बत्रा ने कहा कि अब तक 120 एथलीट और 27 पैरा एथलीट को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है। वहीं, 58 एथलीट और 4 पैरा एथलीट को टीका का दूसरा डोज लग चुका है। 114 कोच और सपोर्ट स्टाफ ने भी वैक्सीन की पहली डोज ले ली है। जबकि, 37 को दूसरी डोज भी लग चुकी है।

खबरें और भी हैं...