शार्दूल को टीम में जगह मिलने की टॉप-5 वजह:गोल्डन आर्म और लोअर ऑर्डर में बेहतर बल्लेबाजी; इसके साथ ही हार्दिक का खराब फॉर्म भी रहा प्रमुख कारण

दिल्ली6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

टीम इंडिया ने टी-20 वर्ल्ड कप टीम में बड़ा बदलाव किया है। अक्षर पटेल की जगह शार्दूल ठाकुर को टीम में शामिल किया गया है। अक्षर पटेल को अब रिजर्व प्लेयर्स की लिस्ट में रखा गया है। वहीं, खराब फॉर्म में चल रहे हार्दिक पंड्या भी टीम के साथ जुड़े हुए हैं। शार्दूल ठाकुर IPL 2021 में चेन्नई सुपर किंग्स के लिए कमाल की गेंदबाजी कर रहे हैं। इस खिलाड़ी ने 15 मैच में 18 विकेट झटके हैं।

शार्दूल को टीम में क्यों जोड़ा गया है? इसके पीछे क्या वजहें हो सकती हैं? आइए जानते हैं...

हार्दिक की खराब फॉर्म
टीम इंडिया के ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या का फॉर्म पिछले कुछ दिनों से बहुत ही खराब रहा है। उनके बल्ले से ना तो रन निकल रहे हैं और ना ही वो गेंदबाजी कर पा रहे हैं। IPL के इस सीजन के 12 मैचों में हार्दिक ने 14.11 के मामूली औसत से सिर्फ 112 रन बनाए हैं। वहीं, उन्होंने एक भी ओवर गेंदबाजी नहीं की है।

टीम इंडिया के लिए इस खिलाड़ी ने अपनी आखिरी सीरीज श्रीलंका के खिलाफ खेली थी। इस सीरीज में पंड्या ने 3 वनडे मैच खेले और उनके बल्ले से सिर्फ 19 रन निकले। सीरीज के दौरान हार्दिक ने 14 ओवर गेंदबाजी भी की और 2 विकेट लिए। शार्दूल गेंदबाजी के साथ-साथ बल्लेबाजी भी कर सकते हैं। अगर हार्दिक का ऐसा ही खराब फॉर्म वर्ल्ड कप में भी जारी रहा, तो शार्दूल टीम इंडिया के लिए हार्दिक की जगह सबसे बेहतरीन विकल्प साबित हो सकते हैं।

लोअर ऑर्डर में बैंटिग होगी मजबूत
शार्दूल ने पिछले कुछ समय से अपनी गेंदबाजी के साथ बल्लेबाजी से भी रंग जमाया है। दिल्ली के खिलाफ क्वालिफायर मैच में तो इन्हें धोनी और जडेजा से भी ऊपर बल्लेबाजी करने के लिए भेज दिया गया था।

हालांकि, उनका बल्ला मैच में नहीं चला। शार्दूल ने इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में अपने बल्ले के प्रदर्शन से सबका ध्यान अपनी ओर खींचा है। इंग्लैंड के खिलाफ शार्दूल ने 2 मैच में 39.00 के औसत से 117 रन बनाए। इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 102.63 का रहा। वर्ल्ड कप में शार्दूल लोअर ऑर्डर में बल्लेबाजी को मजबूती दे सकते हैं।

शार्दूल ठाकुर की अच्छी फॉर्म
पिछले दो साल में शार्दूल का प्रदर्शन शानदार रहा है। जब भी इस खिलाड़ी से कप्तान विराट कोहली को विकेट की आस रही है, तब शार्दूल ने अपनी गेंदबाजी का जलवा दिखाते हुए विकेट निकाला है।

वहीं, टीम को जब रनों की जरूरत थी तो इस खिलाड़ी ने अपने बल्ले से भी कमाल दिखाया। इंग्लैंड के खिलाफ भारत में खेले गए वनडे और टी-20 सीरीज में भी शार्दूल का प्रदर्शन कमाल का था। वनडे सीरीज में इस खिलाड़ी ने 23.3 ओवर गेंदबाजी की और 7 विकेट झटके। एक मैच में तो शार्दूल ने 67 रन देकर 4 विकेट लिए थे। टी-20 सीरीज में भी शार्दूल ने 8 विकेट लिए थे। वहीं, IPL में चेन्नई के लिए शार्दूल बेहतरीन प्रदर्शन कर ही रहे हैं।

मैन विथ गोल्डन आर्म
शार्दूल ने अब तक भारत के लिए चार टेस्ट, 15 वनडे और 21 टी-20 मैच खेले हैं। टेस्ट में उन्होंने 14 विकेट, वनडे में 22 विकेट और टी-20 में 31 विकेट लिए हैं। इसके अलावा बल्लेबाजी में टेस्ट में शार्दूल ने 38 की औसत से 190 रन, वनडे में 21.4 की औसत से 107 रन और टी-20 में 34.5 की औसत से 69 रन बनाए हैं।

ये तो उनका पूरा करियर हो गया, लेकिन जब-जब कोई बल्लेबाज टीम इंडिया को मैच के दौरान अपनी बल्लेबाजी से परेशान करता है, तब टीम इंडिया शार्दूल ठाकुर को ही याद करती है। इसका सबसे ताजा उदाहरण इंग्लैंड के खिलाफ हाल ही में हुई टेस्ट सीरीज है। सीरीज में इंग्लैंड के कप्तान जो रूट कमाल के फॉर्म में थे। ओवल टेस्ट के दौरान ये खिलाड़ी 78 गेंदों में 36 रन बनाकर खेल रहा था। भारतीय टीम की जीत और हार के बीच जो रूट खड़े थे। कोहली ने शार्दूल को गेंद थमाई और उन्होंने रूट को क्लीन बोल्ड कर दिया। टीम इंडिया को इस मैच में 157 रनों से जीत मिली।

फाइटिंग स्पिरिट
शार्दूल ठाकुर टीम इंडिया के ऐसे खिलाड़ी हैं जो लड़ने की क्षमता रखते हैं। शार्दूल के अंदर अंत तक हार ना मानने की क्षमता है। ये उन्हें कई खिलाड़ियों से अलग बनाती है। अपनी बल्लेबाजी और गेंदबाजी से इस खिलाड़ी ने कई बार ये साबित कर के भी दिखाया है। टी-20 वर्ल्ड कप में इस खिलाड़ी से टीम इंडिया को बहुत उम्मीदें होंगी। अब देखना है कि शार्दूल इन उम्मीदों पर खरे साबित होते हैं या नहीं।

खबरें और भी हैं...