पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Sports
  • Wrestler Sagar Murder Case : 4 Members Of Kala Aasoda Gang And Neeraj Bawana Gang Arrested, Assaulted Wrestler Along With Sushil Kumar In Chhatrasal Stadium

रेसलर सुशील की मुश्किलें बढ़ीं:सागर मर्डर केस में पुलिस ने बवाना और काला-आसोदा गैंग के 4 सदस्यों को गिरफ्तार किया, घटना वाले दिन सुशील के साथ स्टेडियम में मौजूद थे

नई दिल्ली4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
2 बार के ओलिंपिक मेडलिस्ट सुशील कुमार को दिल्ली के मुंडका इलाके से 23 मई को गिरफ्तार किया था। - Dainik Bhaskar
2 बार के ओलिंपिक मेडलिस्ट सुशील कुमार को दिल्ली के मुंडका इलाके से 23 मई को गिरफ्तार किया था।

दिल्ली पुलिस ने छत्रसाल स्टेडियम में हुए रेसलर सागर मर्डर केस में आरोपी सुशील कुमार के 4 और साथियों को गिरफ्तार किया है। यह सभी हरियाणा के रहने वाले हैं और सागर को मारने के लिए यह बहुदरगढ़ के आसोदा गांव से दिल्ली आए थे। यह चारों आरोपी नीरज बवाना गैंग और काला-आसोदा गैंग के सदस्य हैं। अब तक मामले में 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

चारों आरोपियों ने पुलिस के सामने घटना वाली रात सुशील के साथ स्टेडियम में होने की बात भी स्वीकार कर ली है। सुशील और उसके साथियों पर 4 मई की देर रात 23 साल के जूनियर नेशनल रेसलिंग चैंपियन सागर और कुछ दोस्तों को किडनैप करने और उसे स्टेडियम लाकर बुरी तरह से पीटने का आरोप है। सागर ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था।

बवाना और काला-आसोदा गैंग के सदस्य
दिल्ली पुलिस ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि गिरफ्तार किए गए 4 आरोपियों की पहचान भुपेंदर (38), मोहित असोदा (22), गुलाब (24) और मंजीत (29) के रूप में हुई है। भुपेंदर बहादुरगढ़ के आसोदा गांव के पूर्व सरपंच राजीव उर्फ काला का करीबी है। 2011 में राजीव को डबल मर्डर केस में गिरफ्तार किया गया था। फरवरी, 2021 में वह जेल से छूटा और तब से वह बदला लेने के लिए अपनी गैंग बना रहा था।

पुलिस ने घेवरा रेलवे क्रॉसिंग से गिरफ्तार किया
पुलिस के मुताबिक, मोहित गैंगस्टर नवीन बाली का खास है। नवीन नीरज बवाना के गिरफ्तार होने के बाद से उसका गैंग चला रहा है। पुलिस ने बताया कि हमें 25 मई को जानकारी मिली थी कि काला-आसोदा और बवाना गैंग के 4 सदस्य जो कि सागर की हत्या में शामिल थे, वे घेवरा गांव आ रहे हैं। उन्हें अपने किसी खास आदमी से मिलना था। इस जानकारी के आधार पर हमने घेरवा रेलवे क्रॉसिंग के पास जाल बिछाया और चारों को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस सायरन सुन स्टेडियम से भाग खड़े हुए थे
पुलिस ने कहा कि इन सभी ने छत्रसाल स्टेडियम आने की बात स्वीकार कर ली है। यह सभी 4 मई की देर रात 12 बजे के आसपास स्टेडियम पहुंचे थे। इनके पास 2 गाड़ियां थीं। इनमें स्कॉर्पियो और ब्रीजा कार शामिल है। यह सागर मामले में पूरी तरह शामिल थे और इन्होंने सीक्वेंस में हमें पूरी घटना की जानकारी दी है। आरोपियों ने बताया कि घटना वाले दिन पुलिस सायरन सुनने के बाद वे गाड़ियों को नहीं ले जा पाए और हथियार को भी स्टेडियम में छोड़कर भाग खड़े हुए थे।

सागर की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ था बड़ा खुलासा
सागर के पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी बड़ा खुलासा हुआ था। रिपोर्ट के मुताबिक, सागर पर किसी धारदार हथियार से हमला किया गया था और उसके शरीर पर 1 से 4 सेंटीमीटर गहरे जख्म मौजूद हैं। उसकी मौत भी सिर में गंभीर चोट आने की वजह से हुई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, सागर के सिर पर भी किसी धारदार हथियार से हमला किया गया था।

सागर की छाती पर 5*2 और पीठ पर 15*4 के सेंटीमीटर गहरे जख्म हैं। इसकी वजह से खून ज्यादा बह गया। इतना ही नहीं सागर के शरीर पर चोट के निशान नीले पड़ गए थे। अब विसरा और ब्लड सैंपल की भी जांच की जा रही है। डॉक्टर के मुताबिक ये जख्त उसकी मौत से पहले के हैं।

थाने में फूट-फूटकर रोते रहे सुशील
सुशील कुमार की पुलिस हिरासत में पहली रात बेहद तनाव भरी रही। उसे खुद की गलती का अहसास भी शायद होने लगा है। सूत्रों के मुताबिक वह पुलिस अधिकारियों के सामने रोया भी है। उन्होंने खाना भी नहीं खाया। सूत्रों मुताबिक थाने के अंदर सुशील फर्श पर बैठकर करीब आधे घंटे तक रोते रहे। वहीं, उनका दोस्त अजय शांत बैठा रहा।

लगातार बयान बदल रहे सुशील कुमार
हाई-प्रोफाइल मामला होने के कारण इसकी तहकीकात दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच के एडिशनल सीपी शिबेश सिंह और डीसीपी मोनिका भारद्राज और उनकी टीम कर रही है। सुशील से पहले दिन करीब 5 घंटे पूछताछ की गई। हालांकि, सुशी जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं और लगातार बयान बदल रहे हैं।

खबरें और भी हैं...