लवलिना ने 3 साल पुराना हिसाब चुकता किया:तीनों राउंड में चेन पर भारी पड़ीं भारतीय मुक्केबाज, 2018 वर्ल्ड चैंपियनशिप में चेन से मिली थी हार

टोक्यो3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लवलिना (रेड जर्सी में) को सेमीफाइनल में वर्ल्ड नंबर-1 मुक्केबाज से खेलना है। - Dainik Bhaskar
लवलिना (रेड जर्सी में) को सेमीफाइनल में वर्ल्ड नंबर-1 मुक्केबाज से खेलना है।

महिला मुक्केबाज लवलिना बोरगोहेन ने टोक्यो ओलिंपिक में भारत का एक और मेडल पक्का कर दिया है। पहली बार ओलिंपिक में हिस्सा ले रहीं 23 साल की लवलिना 69 किलोग्राम वेट कैटेगरी के क्वार्टर फाइनल मुकाबले में चाइनीज ताइपे की चिन निएन चेन को एकतरफा मुकाबले में हरा कर अंतिम-4 में एंट्री कर ली है। चेन वर्ल्ड रैंकिंग में दूसरे नंबर की मुक्केबाज थीं। लवलिना ने इसके साथ ही 2018 में वर्ल्ड चैंपियनशिप में चेन के हाथों मिली हार का हिसाब भी चुकता कर दिया। 2018 में चेन वर्ल्ड चैंपियन भी बनी थीं।

लवलिना ओलिंपिक में मेडल पक्का करने वाली तीसरी मुक्केबाज बन गई हैं। विजेंदर सिंह ने 2008 बीजिंग ओलिंपिक और एमसी मेरीकॉम ने 2012 लंदन ओलिंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता। लवलिना इंडिविजुअल कैटेगरी में ओलिंपिक मेडल जीतने वालीं असम की पहली एथलीट हैं।

अब वर्ल्ड नंबर-1 की चुनौती
अगर लवलिना को फाइनल में जगह बनानी है तो अब वर्ल्ड नंबर-1 और 2019 की वर्ल्ड चैंपियन तुर्की की एना लाइसेंको की मुश्किल चुनौती से पार पाना होगा। लवलिना खुद दुनिया की नंबर-3 मुक्केबाज हैं।

सेमीफाइनल में लवलिना के सामने वर्ल्ड नंबर-1 का मुकाबला करना है।
सेमीफाइनल में लवलिना के सामने वर्ल्ड नंबर-1 का मुकाबला करना है।

पहले राउंड में नजीदी रही थी बाउट
लवलिना ने शुरुआत से ही चेन के खिलाफ आक्रामक रुख अपनाया। हालांकि, चेन ने उनका कड़ा मुकाबला किया। यह बाउट काफी नजदीकी रहा और और 5 में से 3 जज ने लवलिना के और 2 जज ने चेन के पक्ष में फैसला दिया।

एकतरफा अंदाज में जीता दूसरा राउंड
पहले राउंड के बाद लवलिना ने आक्रमण के साथ-साथ डिफेंस पर भी काम किया और उन्हें इसका परिणाम भी मिला। ताइपे की मुक्केबाज ने पंच जमाने की काफी कोशिश की लेकिन, लवलिना की फुर्ती के आगे वे ज्यादा सफल नहीं हो पाईं। लवलिना ने बेहतर काउंट अटैक से कई अच्छे पंच जमाए। इस राउंड में पांचों जजों ने लवलिना को 10-10 पॉइंट दिए।

लवलिना रेड जर्सी में खेल रही थीं। दूसरे राउंड में पांचों जजों ने उन्हें 10 पॉइंट दिए।
लवलिना रेड जर्सी में खेल रही थीं। दूसरे राउंड में पांचों जजों ने उन्हें 10 पॉइंट दिए।

तीसरे राउंड मे 4 जज लवलिना के पक्ष में
तीसरे राउंड में लवलिना को बस अपना बचाव करना था। चेन के पास इस समय तक नॉक आउट से जीत हासिल करने के अलावा और कोई मौका नहीं था। लवलिना यह बात जानती थीं लिहाजा उन्होंने इस राउंड में प्रतिद्वंद्वी से डिस्टेंस के साथ मुक्केबाजी की। लवलिना को लंबाई का फायदा भी मिला। इस राउंड में चार जजों ने लवलिना को 10 पॉइंट दिए।

खबरें और भी हैं...