मेडल से चूकीं गोल्फर अदिति अशोक:ओलिंपिक में गोल्फ के आखिरी राउंड के बाद चौथे स्थान पर रहीं अदिति, 1 स्ट्रोक से ब्रॉन्ज मेडल मिस किया

टोक्यो4 महीने पहले

टोक्यो ओलिंपिक में शनिवार को भारतीय गोल्फर अदिति अशोक मेडल से चूक गईं। उन्होंने 1 स्ट्रोक से मेडल मिस किया। उनके पास बेहतरीन मौका था। कुल 4 दिन में होने वाले 4 राउंड में से 3 राउंड तक वे दूसरे स्थान पर रही थीं। शनिवार को अदिति के लिए चौथा दिन यानी अंतिम राउंड उतार-चढ़ाव भरा रहा।

अदिति ने 16वें होल पर पार बनाया। 17वें होल में न्यूजीलैंड की लीडिया ने बर्डी लगाकर फिर से अदिति को पीछे छोड़ दिया। अदिति महज कुछ सेंटीमीटर से बर्डी चूक गईं और चौथे स्थान पर रहीं, जबकि लीडियो ने बढ़त बनाते हुए तीसरा स्थान बरकरार रखा। जापान की इनामी मोने पहले और अमेरिका की नेली कोर्डा दूसरे स्थान पर रहीं।

18वें होल पर अदिति के पास बर्डी बनाकर मेडल जीतने का मौका था, क्योंकि न्यूजीलैंड की लीडिया ने भी बर्डी का चांस मिस किया था। अगर अदिति एक स्ट्रोक में बॉल होल में डाल देतीं तो मेडल उनकी झोली में होता, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। लीडिया और अदिति दोनों ने पार स्कोर किया। अदिति ने चौथे स्थान पर अपना अभियान खत्म किया।

चौथे दिन चौथे राउंड के दौरान भारत की अदिति अशोक (बाएं) और नेली कोर्डा ।
चौथे दिन चौथे राउंड के दौरान भारत की अदिति अशोक (बाएं) और नेली कोर्डा ।

अदिति महिला इंडिविजुअल स्ट्रोक प्ले में चौथे स्थान पर रहीं। अमेरिका की नेली कोर्डा पहले, जापान की इनामी मोने दूसरे और न्यूजीलैंड की लीडिया तीसरे स्थान पर रहीं। सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल के लिए जापान की इनामी और न्यूजीलैंड की लीडिया के बीच मुकाबला हुआ था। जापानी खिलाड़ी ने इसमें बाजी मारी।

राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने अदिति की तारीफ की
राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने अदिति की तारीफ की है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि अदिति अशोक आपने अच्छा खेला। भारत की एक और बेटी ने पहचान बनाई। इस ऐतिहासिक प्रदर्शन से आपने भारतीय गोल्फ को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया है। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आपने टोक्यो ओलिंपिक के दौरान जबरदस्त संकल्प दिखाया। मेडल से भले दूर रह गईं, लेकिन आप किसी भी भारतीय से कहीं आगे निकल गईं। भविष्य के लिए शुभकामनाएं।

तीसरे राउंड के बाद दूसरे स्थान पर थीं अदिति
विमेंस गोल्फ कासुमिगासेकी कंट्री क्लब में खेले गए। पहले दिन स्वीडन की मेडलिन सैगस्ट्रॉम पहले नंबर पर रहीं थीं। अदिति अशोक ने पहले दिन 4 अंडर 67 का कार्ड खेला था। वह पहले दिन के बाद अमेरिका की नेली कोर्डा (67) संयुक्त रूप से दूसरे नंबर पर थीं। गुरुवार को दूसरे राउंड में अदिति ने और बेहतर प्रदर्शन किया। उन्होंने 5 बर्डी लगाते हुए 66 का कार्ड खेला। हालांकि वह दुनिया की नंबर-1 गोल्फर नेली कोर्डा से पिछड़ गईं।

चौथे राउंड के दौरान भारत की अदिति अशोक।
चौथे राउंड के दौरान भारत की अदिति अशोक।

दूसरे राउंड के बाद नेली कोर्डा ने पहले स्थान पर कब्जा कर लिया। दो राउंड के बाद अदिति का कुल स्कोर 13 अंडर 133 था और नेली का कुल स्कोर 13 अंडर 129 था। शुक्रवार को तीसरे राउंड में कोर्डा ने 69 का कार्ड खेला और टॉप पर बनी रहीं। अदिति ने तीसरे राउंड में 68 का कार्ड खेला और इस दौर के बाद वह दूसरे स्थान पर बनी हुई थीं।

चौथे दिन लीड लेने के बाद पिछड़ गईं अदिति
अदिति ने बारिश से प्रभावित चौथे राउंड में तीन अंडर 68 का स्कोर किया। आखिरी दौर में उन्होंने 5वें, छठे, 8वें, 13वें और 14वें होल पर बर्डी लगाया। वहीं 9वें तथा 11वें होल पर बोगी लगा सकीं। अदिति पूरे समय मेडल की रेस में थीं, लेकिन 2 बोगी से वह लीडिया को से पीछे रह गईं। लीडिया ने आखिरी राउंड में 9 बर्डी लगाए। अदिति मुकाबले में 15 अंडर 269 स्कोर के साथ चौथे स्थान पर रहीं।

तीसरे दिन तीसरे राउंड के बाद वह दूसरे स्थान पर थीं।
तीसरे दिन तीसरे राउंड के बाद वह दूसरे स्थान पर थीं।

जानिए कैसे होती है गोल्फ की स्कोरिंग

  • एक स्टैंडर्ड गोल्फ कोर्स में 18 होल होते हैं।
  • हर होल में गेंद डालने के लिए पहले से शॉट्स की संख्या निर्धारित होती है। खिलाड़ियों की कोशिश होती है कि कम से कम शॉट में हर होल को कवर किया जाए।
  • अगर किसी होल के लिए 5 शॉट निर्धारित हैं और खिलाड़ी 5 शॉट में ही उसमें गेंद डालता है तो उसे पार स्कोर कहते हैं। अगर वह 4 शॉट में गेंद डाल देता है तो उसे बर्डी कहते हैं। अगर वह 5 शॉट के होल के लिए 3 शॉट ही लेता है तो उसे ईगल कहा जाता है।
  • अगर कोई खिलाड़ी तय शॉट से एक ज्यादा शॉट में गेंद डालता है तो इसे बॉगी कहते हैं। दो शॉट ज्यादा लेने पर डबल बॉगी होती है।
  • 18 होल के लिए कुल 71 शॉट निर्धारित होते हैं। अदिति ने पहले राउंड में 67, दूसरे राउंड में 66 और तीसरे राउंड में 68 शॉट्स लिए हैं। उनका कुल स्कोर 12 अंडर 201 है। यानी उन्होंने निर्धारित 213 शॉट्स की जगह 201 शॉट्स ही लिए हैं। इसी तरह नंबर-1 पर चल रहीं कोर्दा ने 198 शॉट्स ही लिए हैं।
अदिति 2017 से प्रोफेशनल गोल्फर हैं।
अदिति 2017 से प्रोफेशनल गोल्फर हैं।

गोल्फ में भारत को पहला मेडल दिलाने का था मौका
अदिति अगर जीततीं तो वे गोल्फ में मेडल जीतने वाली भारती की पहली खिलाड़ी (महिला/पुरुष) होतीं, लेकिन वह मौका चूक गईं। अदिति ने 2016 रियो ओलिंपिक में भी हिस्सा लिया था। वह उस साल महिला गोल्फ कॉम्पिटिशन में सबसे कम उम्र की प्लेयर थीं। अदिति ने टोक्यो ओलिंपिक से पहले कहा था कि रियो ओलिंपिक में हिस्सा लेने से मुझे एक्सपीरियंस मिला था। इस ओलिंपिक में मैं अच्छा करूंगी।

बेंगलुरु की हैं अदिति
अदिति अशोक का जन्म 29 मार्च 1998 को बेंगलुरु में हुआ था। उन्होंने 5 साल की उम्र से ही गोल्फ खेलना शुरू कर दिया था। अदिति को परिवार से पूरा समर्थन मिला है। आमतौर पर उनकी मम्मी या पापा ही कैडी की भूमिका निभाते हैं। गोल्फ में गोल्फर का किट बैग जो शख्स संभालता है उसे कैडी कहते हैं। ओलिंपिक में अदिति मां के साथ गई हैं।

अदिति यूथ ओलिंपिक गेम्स में भी हिस्सा ले चुकी हैं।
अदिति यूथ ओलिंपिक गेम्स में भी हिस्सा ले चुकी हैं।

पहले हासिल कर चुकी हैं कई बड़ी कामयाबी
अदिति पहली भारतीय महिला गोल्फर हैं जिन्होंने एशियन यूथ गेम्स (2013), यूथ ओलिंपिक गेम्स (2014), एशियन गेम्स (2014) में हिस्सा लिया है। वे लल्ला आइचा टूर स्कूल का टाइटल जीतने वाली सबसे कम उम्र की भारतीय भी हैं। इस जीत की वजह से उन्हें 2016 सीजन के लिए लेडीज यूरोपियन टूर कार्ड के लिए एंट्री मिली थी। 2017 में वे भारत की पहली महिला प्रोफेशनल गोल्फर बनी थीं।

खबरें और भी हैं...