पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अब 2024 ओलिंपिक की तैयारी:सिंधु ने कहा- देश के लिए तीसरा मेडल जीतने का लक्ष्य; टोक्यो में ब्रॉन्ज जीतना रियो से ज्यादा मुश्किल था

टोक्यो2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारत की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु की नजर अब 2024 पेरिस ओलिंपिक में मेडल जीतने पर है। वर्ल्ड बैडमिंटन फेडरेशन (BWF) से बातचीत में सिंधु ने कहा कि वे सिर्फ 2 मेडल पर रुकने वाली नहीं हैं। उनका टारगेट अगले ओलिंपिक में भारत के लिए तीसरा मेडल जीतना भी है। सिंधु ने कहा कि टोक्यो ओलिंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीतना रियो ओलिंपिक में सिल्वर मेडल जीतने से ज्यादा मुश्किल था।

मैच से पहले खुद के इमोशन पर कंट्रोल किया
सिंधु ने कहा- मैं मेडल जीतकर बहुत खुश हूं। मैंने इसके लिए काफी मेहनत की थी। मैच के बाद मेरे अंदर काफी कुछ चल रहा था। मैं सोच रही थी कि ब्रॉन्ज के लिए खुश होऊं या मैंने फाइनल में खेलने का मौका खो दिया इसके लिए दुख जताऊं? फिर मैंने अपने इमोशन को कंट्रोल किया। मैच के लिए मैंने सारी पुरानी बातों को पीछे छोड़ दिया था। यह मेरे और चीनी प्लेयर जियाओ बिंग के लिए फ्रेश गेम था। हम दोनों पिछला मैच हारकर आ रहे थे।

जीत के बाद सिंधु काफी खुश नजर आईं।
जीत के बाद सिंधु काफी खुश नजर आईं।

देश के लिए मेडल जीतना का गर्व का पल है
सिंधु ने कहा- मैंने इस पल के लिए काफी सालों तक कड़ी मेहनत की है। मैं सच में काफी खुश हूं और मुझे लगता है कि मैंने अच्छा प्रदर्शन किया। देश के लिए मेडल जीतना गर्व का पल है। मेरे परिवार ने मेरे लिए कई त्याग किए। ये जीत मेरे देश के लिए है। उन्होंने मुझे काफी प्यार दिया है। मैं सभी को थैंक यू कहती हूं।

सिंधु ने सिर्फ 52 मिनट में मैच अपने नाम किया
सिंधु ने ब्रॉन्ज मेडल के मैच में चीन की जियाओ बिंग हे को 21-13, 21-15 से हराया। उन्होंने सिर्फ 52 मिनट में मैच जीत लिया था। सिंधु ओलिंपिक में लगातार 2 मेडल जीतने वाली भारत की पहली महिला खिलाड़ी बन गईं। ओवरऑल सुशील कुमार के बाद वे भारत की दूसरी एथलीट हैं। सिंधु ने इससे पहले 2016 रियो ओलिंपिक में सिल्वर मेडल जीता था।

सुशील ने 2008 बीजिंग ओलिंपिक में ब्रॉन्ज और 2012 लंदन ओलिंपिक में सिल्वर मेडल जीता था। ये बैडमिंटन में ओलिंपिक में भारत का ओवरऑल तीसरा मेडल रहा। साइना नेहवाल ने 2012 लंदन ओलिंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता था।

सिंधु ने ब्रॉन्ज मेडल मैच में शानदार खेल दिखाया। उन्होंने पहला गेम 23 मिनट और दूसरा गेम 29 मिनट में जीता।
सिंधु ने ब्रॉन्ज मेडल मैच में शानदार खेल दिखाया। उन्होंने पहला गेम 23 मिनट और दूसरा गेम 29 मिनट में जीता।

टोक्यो ओलिंपिक में भारत को अब तक 3 मेडल
टोक्यो ओलंपिक में भारत का यह तीसरा मेडल है। सबसे पहले मीराबाई चानू ने वेटलिफ्टिंग के 49 किलो वेट कैटेगरी में सिल्वर मेडल जीता था। वहीं बॉक्सर लवलिना बोरगोहेन ने 69 किलो वेल्टरवेट कैटेगरी के सेमीफाइनल में पहुंचकर भारत के लिए मेडल पक्का कर चुकी हैं।

खबरें और भी हैं...