मिलिए महिला हॉकी टीम की 16 खिलाड़ियों से:टीम की कप्तान रानी रामपाल तांगा चलाने वाले की बेटी, गुरजीत के पिता ने मोटरसाइकिल बेच कर दिलाई थी हॉकी किट

टोक्यो3 महीने पहले

भारतीय महिला हॉकी टीम ने इतिहास रचते हुए टोक्यो ओलिंपिक के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। 41 साल में टीम ने पहली बार यह कारनामा किया है। इस अंसभव सी लगती सफलता को मुमकिन बनाया है देश की 16 बेटियों ने। इन्होंने ऑस्ट्रेलिया, साउथ अफ्रीका, आयरलैंड जैसी टीमों को हराने से पहले अपने जीवन में गरीबी, लड़कियों को कमतर आंकने वाली सोच सहित कई मुश्किलों को मात दी है। चलिए जानते हैं रियल लाइफ की इन चक दे गर्ल्स की कहानी...

टीम इंडिया की कप्तान रानी रामपाल ने गरीबी को मात देकर हॉकी में मुकाम बनाया है।
टीम इंडिया की कप्तान रानी रामपाल ने गरीबी को मात देकर हॉकी में मुकाम बनाया है।

कप्तान रानी रामपाल के पिता तांगा चलाते थे, मां घरों में काम करती थीं
भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल हरियाणा के कुरुक्षेत्र के शाहाबाद कस्बे की रहने वाली हैं। उनके रामपाल पिता तांगा चलाया करते थे। मां लोगों के घरों में काम करती थी। पिता की कमाई 80 रुपए रोज की थी। रानी से बड़े दो भाई हैं। एक भाई किराना के दुकान में काम करता है। वहीं, दूसरा भाई बढ़ई का काम करता है।

रानी के घर के सामने ही लड़कियों की हॉकी की एकेडमी थी। रानी जब एकेडमी में दाखिले के लिए गईं तो कोच बलदेव सिंह ने साफ मना कर दिया, क्योंकि रानी काफी दुबली पतली थीं। उन्हें लगता था कि रानी की आर्थिक स्थिति ज्यादा अच्छी नहीं है, ऐसे में उनके लिए डाइट का इंतजाम करना मुश्किल होगा। लेकिन, रानी की बार-बार जिद की वजह से उन्हें ट्रेनिंग पर आने के लिए कहा। साथ ही उन्होंने कहा कि एकेडमी में पीने के लिए आधा लीटर दूध लाने के लिए कहा। उनका परिवार 200 मिली दूध का ही इंतजाम कर पाता था। रानी उसमें पानी मिलाकर ले जाती थीं ताकि ट्रेनिंग छूट न जाए। शुरुआत में वे सलवार में ही ट्रेनिंग करती थीं। बाद में उनकी प्रतिभा को देखते हुए कोच बलदेव सिंह ने उन्हें किट दिलवाई।

गुरजीत कौर के गोल की बदौलत भारत ने ऑस्ट्रेलिया को हरा दिया।
गुरजीत कौर के गोल की बदौलत भारत ने ऑस्ट्रेलिया को हरा दिया।

गुरजीत के पिता ने मोटरसाइकिल बेच दिलाई थी हॉकी किट
भारत ने ऑस्ट्रेलिया को क्वार्टर फाइनल में 1-0 से हराया। भारत के लिए इकलौता गोल गुरजीत कौर ने किया था। गुरजीत टीम में डिफेंडर और ड्रैग फ्लिक स्पेशलिस्ट की भूमिका निभाती हैं। ड्रैग फ्लिक स्पेशलिस्ट यानी पेनल्टी कॉर्नर लेने वाली खिलाड़ी।
अमृतसर की मियादी कला गांव की रहने वाली 25 साल की गुरजीत किसान परिवार से हैं। जिनका हॉकी से कोई संबंध नहीं था।

उनके पिता सतनाम सिंह बेटी की पढ़ाई को लेकर काफी गंभीर थे। गुरजीत और उनकी बहन प्रदीप ने शुरुआती शिक्षा गांव के निजी स्कूल से ली और फिर बाद में उनका दाखिला तरनतारन के कैरों गांव में स्थित बोर्डिंग स्कूल में करा दिया गया। गुरजीत का हॉकी का सपना वहीं से शुरू हुआ। हालांकि, गुरजीत को हॉकी खिलाड़ी बनाना उनके परिवार के लिए आसान नहीं था। उनके लिए हॉकी किट खरीदने के लिए उनके पिता ने मोटरसाइकिल तक बेच दी थी।

सलीमा टेटे के डिफेंस को भेदना ऑस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम के बूते से बाहर रहा।
सलीमा टेटे के डिफेंस को भेदना ऑस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम के बूते से बाहर रहा।

सलीमा को हॉकी प्लेयर बनाने के लिए बहन ने किया मेड का काम
भारतीय टीम की युवा डिफेंडर सलीमा टेटे झारखंड में हॉकी का गढ़ माने जाने वाले सिमडेगा जिले से हैं। सलीमा का परिवार आज भी कच्चे घर में रहता है। परिवार में पांच बहनें और एक भाई है। घर की हालत ऐसी नहीं थी कि बेटी को स्पोर्ट्स में भेज सकें। सलीमा के सपने को सच करने के लिए बहन अनीमा ने बैंगलोर में मेड का काम किया। सलीमा जब हॉकी की वर्ल्ड चैंपियनशिप खेलने गईं तो उनके पास ट्रॉली बैग तक नहीं था। कुछ परिचितों ने किसी से पुराना बैग लेकर दिया। पॉकेट मनी के लिए फेसबुक पर मुहिम चलाई गई। अब सलीमा को सरकारी नौकरी मिल चुकी है।

निक्की प्रधान की मां को स्टेडियम में जाने से रोक दिया गया था
झारखंड के खूंटी जिले की रहने वाली निक्की प्रधान मिडफील्डर हैं। निक्की के पिता पुलिस में हैं। उनके पास समय की कमी होती है। इसलिए मां ही उन्हें ट्रेनिंग के लिए ले जाती थीं। एक बार निक्की स्टेट लेवल पर रांची के स्टेडियम में मैच खेल रही थीं लेकिन पुलिस वालों ने उनकी मां को अंदर नहीं जाने दिया। उन्होंने बार-बार बताया कि उनकी बेटी मैच खेल रही है लेकिन किसी ने उसकी बात पर यकीन नहीं किया था।

वंदना ओलिंपिक में हैट्रिक जमाने वाली भारत की पहली महिला खिलाड़ी हैं।
वंदना ओलिंपिक में हैट्रिक जमाने वाली भारत की पहली महिला खिलाड़ी हैं।

वंदना ने पेड़ की टहनी से हॉकी खेलना सीखा
साउथ अफ्रीका के खिलाफ पूल मैच में हैट्रिक जमाने वाली फॉरवर्ड वंदना कटारिया हरिद्वार के रोशनाबाद की रहने वाली हैं। वंदना ने पेड़ की टहनियों से हॉकी खेलना शुरू किया था। वंदना के परिवार में ज्यादातर लोग नहीं चाहते थे कि वे हॉकी खेलें, लेकिन पिता नाहर सिंह चाहते थे कि बेटी आगे बढ़े। वंदना जब ओलिंपिक की ट्रेनिंग के लिए बेंगलुरु में थीं तभी उनके पिता का निधन हो गया। कोरोना के कारण वे उनके अंतिम संस्कार में भी नहीं पहुंच सकीं। अब परिवार का कहना है कि वंदना खेल के मैदान पर पिता की आखिरी ख्वाहिश पूरा करने के लिए खेल रही हैं। पिता की ख्वाहिश थी कि बेटी अपनी हॉकी से पूरी दुनिया में अपना नाम रोशन करे।

मैकेनिक की बेटी हैं नवजोत कौर
26 साल की नवजोत कौर उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर की रहने वाली हैं। उनके पिता पेशे से मैकेनिक हैं और मां गृहिणी हैं। नवजोत ने कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की और शाहाबाद में बलदेव सिंह की अकादमी में हॉकी के लिए प्रशिक्षण लिया। अंडर-19 स्तर पर अपने पहले टूर्नामेंट में ही उन्होंने शीर्ष स्थान प्राप्त किया। उन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए हॉकी के 100 से अधिक अंतरराष्ट्रीय मैचों में हिस्सा लिया है।

दमदार गोलकीपिंग की बदौलत सविता को टीम इंडिया की ग्रेट वॉल कहा जाता है।
दमदार गोलकीपिंग की बदौलत सविता को टीम इंडिया की ग्रेट वॉल कहा जाता है।

गोलकीपर सविता ने किया दादा के सपने को साकार
भारतीय टीम की दीवार गोलकीपर सविता पूनिया हरियाणा के सिरसा जिले की रहने वाली हैं। उनके दादा रणजीत सिंह चाहते थे कि सविता हॉकी खिलाड़ी बने। पिता महेंद्र सिंह पूनिया का कहना है- सविता ने मेरा सीना गर्व से चौड़ा कर दिया, लेकिन उसकी जीत उसके स्वर्गीय दादाजी रणजीत सिंह को समर्पित है। क्योंकि उनकी ये दिली इच्छा थी कि पोतियां खेलों में भाग लेकर देश की सेवा करें।' हालांकि, सविता की जीत का जश्न मनाने के लिए वे अब इस दुनिया में नहीं हैं।

हिसार साई सेंटर में सविता के कोच रहे आजाद सिंह मलिक ने बताया कि लंबी हाइट और फुर्ती के कारण ही सविता को गोलकीपर चुना गया था। जब सविता 9वीं क्लास में थीं, तब हिसार कोचिंग के लिए आई थीं। यहां पर एक प्रैक्टिस मैच में सविता को गोलकीपर बनाया था। जब उन्होंने उस मैच में सविता का रिएक्शन टाइम देखा तो उनको लगा कि सविता को गोलकीपर के तौर पर ही तराशा जाना चाहिए। उस मैच से लेकर अब तक सविता लगातार अपने खेल में सुधार करती रही हैं।

कॉमनवेल्थ और एशियन गेम्स में भी हिस्सा ले चुकी हैं नवनीत कौर।
कॉमनवेल्थ और एशियन गेम्स में भी हिस्सा ले चुकी हैं नवनीत कौर।

पांचवीं क्लास में हॉकी खेलने की इच्छा जाहिर की थी नवनीत कौर ने
टीम इंडिया की फॉरवर्ड नवनीत कौर भी हरियाणा के शाहाबाद कस्बे की हैं। उनके पिता बूटा सिंह खेती करते हैं और मां गृहिणी हैं। नवनीत कौर का जन्म 26 जनवरी 1996 को हुआ था। उन्होंने पांचवीं कक्षा में ही हॉकी खेलने की इच्छा जाहिर की। हॉकी कोच बलदेव ने उन्हें ट्रेंड किया। नवनीत कौर ने 2013 में जूनियर वर्ल्ड कप में ब्रॉज मेडल जीता था। इसके बाद 2017 में एशियन कप में गोल्ड मैडल, 2018 में एशियन गेम्स में सिल्वर, 2018 में ही कामनवेल्थ गेम्स में चौथा स्थान पाया। 2018 में ही सीनियर वर्ल्ड कप, 2019 में ओलिंपिक और 2021 में टोक्यो ओलिंपिक क्वालिफाई किया। नवनीत कौर ने टोक्यो ओलिंपिक में शुक्रवार को आयरलैंड से हुए हाकी मुकाबले में मैच के अंतिम क्वार्टर में गोल करके देश की ओलिंपिक में बने रहने की उम्मीदें जगाई। इसके बाद रविवार को ऑस्ट्रेलिया को हराकर टीम सेमीफाइनल में पहुंच गई।

रेलवे में जॉब मिलने के बाद निशा की पारिवारिक स्थिति में सुधार आया।
रेलवे में जॉब मिलने के बाद निशा की पारिवारिक स्थिति में सुधार आया।

दर्जी की बेटी निशा कोच के सपोर्ट की बदौलत आगे बढ़ीं
डिफेंडर निशा वारसी पहली बार ओलंपिक में भाग ले रही हैं। उन्हें यहां तक पहुंचने के लिए कई मुश्किलों से जूझना पड़ा। पिता सोहराब अहमद एक दर्जी थे। साल 2015 में उन्हें लकवा मार गया और उन्हें काम छोड़ना पड़ा। उनकी मां महरून एक फोम बनाने वाली कंपनी में काम किया करती थीं, लेकिन निशा को रेलवे में नौकरी मिलने के बाद उन्होंने काम छोड़ दिया। कई सामाजिक बाधाएं भी थीं। लेकिन कोच सिवाच ने निशा का साथ दिया। उन्होंने उनके माता-पिता को समझाया। उन्हें निशा को अपने सपने पूरा करने देने के लिए मनाया। 2018 में निशा को भारतीय टीम के कैंप के लिए चुना गया लेकिन घर छोड़ने का फैसला आसान नहीं था। उन्होंने अपना इंटरनैशनल डेब्यू 2019 में हिरोशिमा में FIH फाइनल्स में किया। तब से वह नौ बार भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं।

दोस्त की सलाह पर हॉकी खिलाड़ी बनीं नेहा गोयल।
दोस्त की सलाह पर हॉकी खिलाड़ी बनीं नेहा गोयल।

बेरोजगार थे मिडफील्डर नेहा गोयल के पिता
हरियाणा के सोनीपत की रहने वालीं भारतीय मिडफील्डर नेहा गोयल के पिता के पास कमाई का साधन नहीं था। एक दोस्त ने सलाह दी कि हाकी खेलने से अच्छे जूते और कपड़े मिलेंगे। वह छठी कक्षा में थीं, तभी से हॉकी स्टिक थाम ली। जिला स्तर का मुकाबला जीतने के बाद उन्हें दो हजार रुपए का इनाम मिला। बेटी को आगे बढ़ाने के लिए मां सावित्री फैक्ट्री में काम करने लगीं। इसके बाद नेहा ने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

पिता के सपने को पूरा करने के लिए उदिता बनीं हॉकी खिलाड़ी।
पिता के सपने को पूरा करने के लिए उदिता बनीं हॉकी खिलाड़ी।

हैंडबॉल की खिलाड़ी थीं उदिता दुहन
हरियाणा के हिसार की रहने वाली की उदिता दुहन के पिता यशवीर सिंह दुहन पुलिस में थे। बीमारी के कारण उनका नवंबर 2015 में निधन हो जाने पर माता गीता देवी ने कठिन परिस्थितियों में उदिता का पालन-पोषण किया था। परिवार के लोग चाहते थे कि अब वे पैतृक गांव भिवानी के नांगल में आकर बस जाएं लेकिन गीता ने बेटी को शहर में रखा ताकि वह खेल में नाम कमाकर पिता के सपने को पूरा कर सके। पिता के सपने को पूरा करने के लिए ही उदिता ने हाकी स्टिक थामी थी। उदिता पहले हैंडबॉल की खिलाड़ी थीं। उनके हैंडबॉल कोच कुछ दिन स्कूल नहीं आए तो उदिता ने हॉकी में हाथ आजमाया और तब से इसी खेल की होकर रह गईं। 2016 में वे जूनियर टीम की कप्तान भी बनीं।

कोच प्रवीण सिहाग ने निखारा शर्मिला का खेल
भारतीय फॉरवर्ड शर्मिला देवी हिसार के कैमरी की रहने वाली हैं। पिता सुरेश कुमार किसान हैं। परिवार की आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण वह आगे नहीं बढ़ पा रही थीं। जब वह चौथी क्लास में थीं तभी कोच प्रवीण सिहाग से मुलाकात हुई। सिहाग ने उनकी हर स्तर पर मदद की और इंटरनेशनल लेवल का खिलाड़ी बनाया।

लालरेमसियामी भारतीय टीम में आने वाली मिजोरम की पहली खिलाड़ी हैं।
लालरेमसियामी भारतीय टीम में आने वाली मिजोरम की पहली खिलाड़ी हैं।

पिता के निधन के बावजूद टीम के साथ बनी रहीं लालरेमसियामी
भारतीय टीम की फॉरवर्ड लालरेमसियामी टीम में जगह बनाने वाली मिजोरम की पहली खिलाड़ी हैं। जून 2019 में जब वे टीम के साथ थीं तभी उनके पिता की मृत्यु हो गई। इसके बावजूद उन्होंने टीम के साथ रहने का फैसला किया और FIH महिला हॉकी सीरीज में हिस्सा लिया।

दीप ग्रेस एक्का भारतीय डिफेंस लाइन की सबसे दमदार खिलाड़ियों में से एक हैं।
दीप ग्रेस एक्का भारतीय डिफेंस लाइन की सबसे दमदार खिलाड़ियों में से एक हैं।

बिजली न होने के कारण दीप ग्रेस के माता-पिता नहीं देख पा रहे मैच
डिफेंडर दीप ग्रेस एक्का ओडिशा के सुंदरगढ़ जिले की रहने वाली हैं। दीप के पिता चा‌र्ल्स एक्का बताते हैं कि बचपन में हॉकी स्टिक न होने के कारण वे केंदू पौधे से बने हॉकी स्टिक से खेलती थीं। परिवार में तीन बेटे और दो बेटियां हैं। गांव में आज भी बिजली-पानी की समस्या है। बिजली न होने के कारण उनके माता-पिता इस ओलिंपिक में अब तक बेटी को खेलते हुए नहीं देख पाए हैं।

मिडफील्डर मोनिका को कुश्ती में लाना चाहते थे पिता।
मिडफील्डर मोनिका को कुश्ती में लाना चाहते थे पिता।

मोनिका को पहलवान बनाना चाहते थे पिता
सोनीपत जिले के गामड़ी गांव की मोनिका मलिक को बचपन से ही पिता तकदीर सिंह ने खेलों के लिए प्रोत्साहित किया था। मोनिका ने 8वीं कक्षा के दौरान ही हॉकी खेलना शुरू कर दिया था। हालांकि, उनके पिता उन्हें पहलवान बनाना चाहते थे। बेटी की हॉकी में रुचि देखकर उन्होंने फिर अपना मन बदल लिया। मोनिका अब टीम की स्टार मिडफील्डर हैं।

चोट के कारण रीना का करियर खत्म होने वाला था
भारतीय टीम की डिफेंडर रीना खोखर मोहाली जिले के नयागांव की रहने वाली हैं। रीना के पिता BSF से रिटायर्ड है। उन्होंने हमेशा रीना को खेल में आगे बढ़ने के लिए मोटिवेट किया। 2019 में जिम सेशन के दौरान हुई एक दुर्घटना के कारण रीना का करियर खत्म होने की कगार पर पहुंच गया था। उन्हें बाईं आंख पर चोट लगी थी और नजर कमजोर होने का डर था। लेकिन, रीना ने जोरदार वापसी की और अब अपने मजबूत खेल से भारत को मेडल के करीब पहुंचा दिया है।

खबरें और भी हैं...