ओलिंपिक में मानवता का मेडल:बराबरी पर आए विरोधी खिलाड़ी को चोट लगी तो एथलीट ने अकेले मेडल लेने से इनकार किया, दोनों को मिला गोल्ड

टोक्यो6 महीने पहले
हाई जंप इवेंट के गोल्ड विनर मुताज एस्सा बारशिम (बाएं) और गियानमार्को तांबेरी।

दुनिया के किसी भी एथलीट का सबसे बड़ा सपना ओलिंपिक गोल्ड जीतना होता है। यह खेल में कामयाबी का सबसे ऊंचा स्तर माना जाता है। लेकिन, कतर के एथलीट मुताज एस्सा बारशिम इससे भी एक कदम आगे निकल गए। उन्होंने ओलिंपिक गोल्ड के साथ-साथ मानवता का मेडल और दुनियाभर के खेल प्रेमियों का दिल भी जीत लिया है।

बारशिम ने फाइनल के दौरान चोटिल हो गए इटली के गियानमार्को तांबेरी को भी गोल्ड दिलवाया। चलिए जानते हैं कि आखिर यह कैसे मुमकिन हुआ...

बारशिम ने अकेले गोल्ड न लेकर दुनियाभर के फैंस का दिल जीत लिया है।
बारशिम ने अकेले गोल्ड न लेकर दुनियाभर के फैंस का दिल जीत लिया है।

दोनों ने लगाई 2.37 मीटर की छलांग
यह वाकया हुआ टोक्यो ओलिंपिक में पुरुषों के हाई जंप इवेंट के दौरान। बारशिम और तांबेरी दोनों ने 2.37 मीटर की छलांग लगाई और एक साथ पहले स्थान पर रहे। इसके बाद इवेंट ऑफिशियल्स ने दोनों को तीन-तीन जंप और लगाने को कहा। दोनों में से कोई भी एथलीट इन तीन जंप में 2.37 मीटर के ऊपर नहीं जा सका।

गोल्ड मिलने के बाद खुशी का इजहार करते हुए तांबेरी।
गोल्ड मिलने के बाद खुशी का इजहार करते हुए तांबेरी।

आखिरी जंप से पहले चोटिल हुआ इतालवी एथलीट
जब तीन एक्स्ट्रा जंप के बाद भी विजेता का फैसला नहीं हुआ तो ऑफिशियल्स ने उन्हें एक-एक बार और जंप करने को कहा। लेकिन, तब तक इतालवी एथलीट तांबेरी चोटिल हो चुके थे। पैर की चोट के कारण उन्होंने नाम वापस ले लिया। अब बारशिम के पास मौका था कि वे एक बेहतर जंप लगाएं और गोल्ड अपने नाम कर लें।

बारशिम ने ऑफिशियल से पूछा- मैं भी नाम वापस ले लूं तो क्या होगा
इतालवी एथलीट के बाहर होने के बाद बारिशम ने ऑफिशियल से पूछा कि अगर वे भी नाम वापस ले लेते हैं तो क्या होगा। ऑफिशियल ने रूल बुक चेक की और कहा-अगर आप भी नाम वापस लेते हैं तो हमें आप दोनों को गोल्ड देना होगा। बारशिम ने इसके बाद आखिरी जंप से नाम वापस ले लिया और फिर उन्हें और तांबेरी दोनों को गोल्ड मेडल दिया गया।

हमने आने वाली पीढि़यों को संदेश दिया है
बारशिम ने अपने इस ऐतिहासिक फैसले के बाद कहा- खेल में जीतना ही सब कुछ नहीं होता है। हमने आने वाली पीढ़ियों को संदेश दिया है कि कैसे खेलना चाहिए। कैसे अपने प्रतिद्वंद्वियों का भी सम्मान करना चाहिए और जो हकदार हो उसके साथ कामयाबी शेयर करनी चाहिए। तांबेरी ने खुशी में बारशिम को गले लगा लिया और दोनों ने ओलिंपिक स्टेडियम का चक्कर लगाकर अपनी भावनाओं का इजहार किया।

खबरें और भी हैं...