• Hindi News
  • Haryana
  • Faridabad
  • Faridabad News eid miladunnabi unique colors seen in the procession praying for barkat and amanchain in the country

ईद मिलादुन्नबी: जुलूस में दिखे अनोखे रंग, देश में बरकत व अमनचैन की मांगी दुआ

Faridabad News - पैगम्बर ए इस्लाम हज़रत मोहम्मद साहब के जन्मदिन की खुशी में रविवार को शहर में कई जगह ईद मिलादुन्नबी का शान-ए-जुलूस...

Nov 11, 2019, 07:15 AM IST
पैगम्बर ए इस्लाम हज़रत मोहम्मद साहब के जन्मदिन की खुशी में रविवार को शहर में कई जगह ईद मिलादुन्नबी का शान-ए-जुलूस निकाला गया। इस दौरान कई जगह सामाजिक सौहार्द की झलक भी देखने को मिली। प्याली चौक, हार्डवेयर, बाटा, नीलम, बीके चौक, रेलवे रोड में मुस्लिम समुदाय के लोग जुलूस में हाथ में तिरंगा लेकर निकले। इसमें बच्चे, बुजुर्ग, युवा, महिला हर उम्र के लोग शामिल थे। सभी ने मुल्क के लिए दुआ मांगी।

मिलादुन्नबी अवसर पर उनके साथ तिरंगे की चादर भी देखने को मिली। जुलूस में शामिल मौलानाओं ने तकरीर पढ़ी। कहा मोहम्मद साहब ने दुनिया को शांति का पाठ पढ़ाया। सभी को मिल जुलकर रहना सिखाया। हिंदुस्तान हमेशा गंगा जमुनी तहजीब का हिमायती रहा है। जुलूस में शामिल मोहम्मद उमर जलाली ने बताया कि रजाए मुस्तफा कमेटी, गौसलवड़ा कमेटी के सहयोग से कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जुलूस डबुआ कॉलोनी भड़ाना चौक से शुरू होकर प्याली चौक, हार्डवेयर, बाटा, नीलम, बीके से रेलवे रोड होते हुए ओल्ड फरीदाबाद स्थित बड़ी दरगाह मस्जिद द पर जाकर संपन्न हुआ। इस दौरान हिंदू और मुस्लिम भाइयों ने मिलकर जगह-जगह लंगर बांटा। उन्होंने इंसानियत का पैगाम दिया। इस दौरान सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम थे। जुलूस के साथ भारी पुलिस बल भी चल रहा था।

मौलानाओं ने तकरीर पढ़ी, कहा मोहम्मद साहब ने शांति का पाठ पढ़ाया

फरीदाबाद. ईद मिलादुन्नबी पर जु़लूस में शामिल मुस्लिम समुदाय के लोग, हाथों में ितरंगा लेकर अमनचैन की मांगी दुआ।

अमन और भाईचारे की गई दुआ

अगवानपुर स्थित विनय नगर में ईद मिलादुन्नबी पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यह कार्यक्रम संस्था दौरे मिल्लत की ओर से आयोजित किया गया। इस दौरान सभी ने अमन और चैन की दुआ मांगी। अध्यक्ष अब्दुल्लाह आलम ने कहा कि मिलाद उन नबी को बारावफात या मव्लिद भी कहा जाता है। यह त्यौहार इस्लाम धर्म के लोग पैगंबर मोहम्मद के जन्म दिन की खुशी में मनाते हैं। इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार पैगंबर मोहम्मद का जन्म दिन रबीज्अल-अव्वल, तीसरे महीने में मनाया जाता है। मिलाद-उन-नबी का उत्सव 11वीं सदी में फातमी राजवंश के समय से मनाया जा रहा है। इस दौरान देश में बरकत और अमनचैन की दुआ मांगी गई।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना