‘धर्म का सार सिर्फ सुनना ही नहीं जीवन में धारण करना है’

Karnal News - पीयूष मुनि महाराज ने कहा कि मानव जीवन बड़ी कठिनाई से अत्यधिक पुण्य के प्रभाव से मिलता है। इस अनुपम उपलब्धि से अपने...

Jan 16, 2020, 08:06 AM IST
Karnal News - haryana news 39the essence of religion is not just listening but wearing it in life39
पीयूष मुनि महाराज ने कहा कि मानव जीवन बड़ी कठिनाई से अत्यधिक पुण्य के प्रभाव से मिलता है। इस अनुपम उपलब्धि से अपने जीवन को सफल बनाने और परलोक सुधारने की कोशिश करनी चाहिए। सभी महापुरुष और धर्मग्रंथ मानव को यही प्रेरणा देते हैं। पीयूष मुनि महाराज मकर संक्रांति के उपलक्ष्य में आराधना मंदिर में धर्मसभा में बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि धर्म का सार सिर्फ सुनना ही नहीं, बल्कि जीवन में धारण करना है कि जो व्यवहार अपने प्रतिकूल है, वह किसी दूसरे के लिए भी नहीं होना चाहिए। जो दिन और रात व्यतीत हो जाते हैं, वे लौटकर वापस नहीं आते। धर्म करने वाले का समय सार्थक और अधर्मी का निरर्थक चला जाता है। समय को पकड़ पाना किसी के लिए भी संभव नहीं है, विशेष रूप से एक बार व्यतीत हो जाने के बाद तो इसके हाथ आने का सवाल ही पैदा नहीं होता। काम-भोग मनुष्य को छोड़कर चले जाते हैं। उन्होंने कहा कि मकर संक्रांति वर्ष का पहला त्यौहार है जब सूर्य उत्तरायण में आता है और धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। श्रद्धालुओं के शुभ तथा मंगल के लिए बृहत स्तोत्र पाठ सुनाया गया। प्रवर्तक डाॅ. राजेंद्र मुनि, सुरेंद्र मुनि, साध्वी श्वेता ने धार्मिक प्रेरणाएं दी। मुनि संयमेश, साध्वी प्रतिष्ठा-प्रणम्या ने अपने भजनों से निहाल किया। हरियाणा पर्यटन विकास निगम के चेयरमैन रणधीर गोलन विधायक तथा मुख्यमंत्री हरियाणा के राजनीतिक सचिव कृष्ण बेदी अपनी भक्ति-भावना प्रकट करने के लिए उपस्थित हुए।

करनाल. श्री आत्म मनोहर जैन आराधना मंदिर में प्रवचन सुनते श्रद्धालु।

X
Karnal News - haryana news 39the essence of religion is not just listening but wearing it in life39
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना