जल संरक्षण पर खर्च होंगे 6 हजार करोड़ रुपए: कटारिया

Kurukshetra News - केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय के राज्य मंत्री रतन लाल कटारिया ने कहा कि देश के 7 राज्यों में जल संरक्षण व भूमिगत वाटर...

Feb 15, 2020, 08:15 AM IST
Kurukshetra News - haryana news 6 thousand crores will be spent on water conservation kataria

केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय के राज्य मंत्री रतन लाल कटारिया ने कहा कि देश के 7 राज्यों में जल संरक्षण व भूमिगत वाटर रिचार्ज पर 6 हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे। इन राज्यों में हरियाणा भी शामिल है । क्योंकि प्रदेश के 60 प्रतिशत खंडों में पानी की स्थिति चिंताजनक है। सरकार की तरफ से हर घर तक जल योजना के तहत 15 करोड़ घरों तक पेयजल कनेक्शन दिए जाएंगे।

2024 तक इसका लक्ष्य रखा है। केंद्रीय राज्यमंत्री रतन लाल कटारिया शुक्रवार को कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के सभागार में राष्ट्रीय जल मिशन द्वारा जल संरक्षण पर कार्यशाला में बतौर मुख्यातिथि बोल रहे थे। इससे पहले केंद्रीय राज्यमंत्री कटारिया, खेल एवं युवा मामले मंत्री संदीप सिंह, जल शक्ति मंत्रालय के सचिव यूपी सिंह, राष्ट्रीय जल मिशन के मिशन निदेशक अशोक कुमार, सीजीडब्ल्यूवी के क्षेत्रिय निदेशक अनूप नागर, कृषि एवं कल्याण विभाग के अतिरिक्त निदेशक सुरेश गहलावत, हरियाणा किसान आयोग के चेयरमैन डाॅ. रमेश कुमार यादव, सलाहकार सुनील कुमार अरोड़ा ने जल कलश पूजन कर उद्घाटन किया। कटारिया ने कृषि विभाग, सिंचाई विभाग व प्रगतिशील किसानों के तत्वावधान द्वारा लगाई प्रदर्शनी का भी उद्घाटन किया। कलाकारों ने लघु नाटिका और लोक गीतों की प्रस्तुति दी।

अटल भूजल योजना से हर घर पानी: कटारिया ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अटल भूजल योजना को अमलीजामा पहनाया है। इस योजना के तहत 7 राज्यों पर करीब 6 हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे। जल मंत्रालय द्वारा 2024 तक देश के सभी घरों में नल से जल पहुंचाने का लक्ष्य तय किया है। पहले 15 करोड़ घरों का लक्ष्य है। इसके लिए 3 लाख 40 हजार करोड़ का बजट रखा है।

100 गज के मकान में वाटर रिचार्ज प्रणाली अपनाना जरूरी: शहरी निकाय मंत्रालय द्वारा एक कानून बनाया गया है। जिसमें आने वाले समय 100 गज के मकान का निर्माण करने के लिए जल संरक्षण व रिचार्ज प्रणाली को अपनाना होगा। कहा कि देश मे कृषि पर 70 प्रतिशत जल लगता है। अमेरिका, ब्राजील, चीन की तुलना में यह तिगुना है। हरियाणा में भी लगातार गिरता जलस्तर किसानों के लिए खतरे का संकेत है। किसानों को माइक्रो इरिगेशन या ड्रिप इरिगेशन की पद्धति की तरफ जाना होगा। माैके पर कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के अतिरिक्त निदेशक सुरेश अहलावत, मिशन निदेशक एवं अतिरिक्त सचिव अशाेक कुमार, भाजपा के जिलाध्यक्ष धर्मवीर मिर्जापुर, एडीसी वीना हुड्डा, डाॅ. हरिओम, कार्यकारी अभियंता नीरज शर्मा, हिरमी के प्रधान निदेशक डाॅ. दिनेश कुमार, एसडीएम अश्विनी मलिक, डीडीए डाॅ. प्रदीप मिल, सिंचाई विभाग के कार्यकारी अभियंता कृष्ण कुमार, एसडीओ जितेन्द्र मेहता मौजूद रहे।

कुरुक्षेत्र | प्रदर्शनी का अवलोकन करते कटारिया।

X
Kurukshetra News - haryana news 6 thousand crores will be spent on water conservation kataria
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना