किशोरावस्था में खून की कमी भविष्य के जोखिम का आधार: डॉ कल्पना

Bhiwani News - लोहारू | आज के भागदौड़ के दौर में खासकर महिलाओं को अपनी किशोर अवस्था में हीमोग्लोबिन को संतुलित स्तर पर रखना...

Nov 09, 2019, 08:57 AM IST
लोहारू | आज के भागदौड़ के दौर में खासकर महिलाओं को अपनी किशोर अवस्था में हीमोग्लोबिन को संतुलित स्तर पर रखना चाहिए। किशोर अवस्था में लड़कियों में अगर हीमोग्लोबिन की कमी रहती है तो उनका शारीरिक विकास सही नहीं हो पाता और इसके साथ-साथ एक एनिमिक महिला को भविष्य में कई प्रकार में खतरों के सामने करना पड़ता है जो एक परिवार के निर्माण में भी बाधक साबित हो सकता है।

यह बात सीएचसी लोहारू से डॉ. कल्पना चतुर्वेदी ने राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय लोहारू में किशोर स्वास्थ्य दिवस के दौरान कही। किशोर स्वास्थ्य दिवस कैंप का शुभारंभ स्कूल प्राचार्या दर्शन देवी ने किया। ब्लाॅक के राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल में किशोर स्वास्थ्य दिवस के दौरान बच्चों की लंबाई और भार की जांच की गई। परामर्शदाता हरिओम शर्मा ने बच्चों को विभिन्न प्रकार के शारीरिक व मानसिक विकास के लिए संतुलित आहार के बारे में जानकारी दी। वरिष्ठ तकनीशियन अधिकारी राम प्रताप ने संभावित एनिमिक बच्चों के हीमोग्लोबिन की जांच की। कला अध्यापिका कुमारी पुष्पा दहिया व प्रवक्ता बबिता कौशिक के निर्देशन में दो समूह में चार्ट मेकिंग प्रतियोगिता करवाई गई। कक्षा 6 से 8 में प्रथम सोनिया व दिव्या आठवीं से, द्वितीय काफी व शालू सातवीं से, तृतीय तीन सांत्वना पुरस्कार मनीषा व काशिफा सातवीं से, हीना व लक्ष्मी सातवीं से और प्रीति व लोकेश आठवीं से रहें। दूसरे समूह कक्षा 9 से 12 में प्रथम वैष्णवी व चंदा 10वीं कक्षा से, द्वितीय लक्ष्मी 10वीं से, तृतीय तीन सांत्वना पुरस्कार प्रतिभा व अनामिका 9वीं से, रवीना 12वीं से, इशरत व जैसमीन 9वीं से रहें।

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना