निगम से किराए पर ली दुकानों के मालिक बनने के लिए आवेदन शुरू

Karnal News - नगर निगम की दुकानों को किराए पर लेकर व्यापार करने वाले दुकानदार निगम से दुकानें खरीदने के लिए आवेदन कर सकते हैं।...

Sep 13, 2019, 08:10 AM IST
नगर निगम की दुकानों को किराए पर लेकर व्यापार करने वाले दुकानदार निगम से दुकानें खरीदने के लिए आवेदन कर सकते हैं। निगम की ओर से दुकानों को खरीदने की चाह रखने वाले किराएदारों से आवेदन लेना शुरू कर दिए हैं।

अब तक 30 से अधिक आवेदन नगर निगम को मिल चुके हैं। फिलहाल यह आवदेन लिए जाएंगे, क्योंकि सरकार की ओर से इस बारे में अभी तक डेड लाइन घोषित नहीं की गई है। चुनाव के बाद प्रदेश सरकार इनको बेचने की कार्रवाई को अमलीजामा पहना सकती है। शहर में छाेटे दुकानदारों के लिए सरकार का यह निर्णय खास लाभकारी साबित हो सकता है, क्योंकि सरकार की ओर से निर्धारित रेट के अनुसार दुकानों का मूल्य चुकाकर दुकानदार उनके मालिक बन सकते हैं। इसके लिए निगम की ओर से बाकायदा खरीददार के नाम पर दुकान की रजिस्ट्री भी कराई जाएगी। ऐसा होने पर दुकानदारों के परिवार के लोगों की आमदनी का जरिया सुरक्षित होगा। शहर में विभिन्न 25 स्थानों पर निगम की ओर से 652 दुकानें किराए पर दी गई हैं। इनमें जो दुकानें 20 साल से किराए पर चल रही हैं, उनको निर्धारित शर्तों पर निगम किराएदारों को ही बेचेगा। विशेष बात यह है कि उक्त दुकानों को वही व्यक्ति खरीद सकेंगे जो वर्तमान में उनके किराएदार के तौर पर उनका प्रयोग कर रहे हैं।

इन स्थानों पर हैं शहर में निगम की दुकानें

कमेटी चौक पर तकरीबन 22, रेलवे रोड पर 36, देवी मंदिर रोड पर 31, सदर बाजार में 30, नावल्टी पर 22, प्रेम नगर में 13, काछवा रोड रामनगर 12, रामनगर में वाटर टेंक के निकट 27, रामनगर में 14, तहसील मार्केट में 3, मीनार रोड पर 30, बस स्टैंड पर 17, ओल्ड पोस्ट ऑफिस 10, मेरठ रोड 10, प्रेमनगर में 12, बासों गेट 10, मेरठ रोड 2, अर्जुन गेट, 15, नेहरू पैलेस 31, अस्पताल चौक 3, रणधीर रोड 22, निकट ज्ञान भूषण अस्पताल कुंजपुरा रोड 20, कर्ण पार्क मार्केट 54, महिला आश्रम-2, अपोजिट बस स्टैंड 37, जाटों गेट, क़लंदरी गेट, सब्जीमंडी चुंगी अंबाला रोड, कर्ण गेट, रणधीर रोड व जुंडला गेट में 24, रणधीर रोड 22, कर्ण पार्क जीटी रोड 9, ग्राम पंचायत कंबोपुरा 24, विलेज उचानी 19 आदि जगहो पर हैं।

आवेदन से पहले करना होगा बकाया भुगतान

सरकार की ओर से जारी की गई इस पॉलिसी का लाभ उठाने के लिए दुकानदार को किराया डिफॉल्टर नहीं होना चाहिए। अगर कोई डिफॉल्टर है तो उसे पहले अपना पूरा किराया राशि का भुगतान करना होगा। इसके बाद ही वह आवेदन कर सकता है। नहीं तो उसका आवेदन रद्द हो जाएगा।

दुकानदार निर्धारित शर्तों के अनुसार दुकान खरीद सकता


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना