डेंगू-मलेरिया की दस्तक, निगम ने शुरू नहीं की फोगिंग स्वास्थ्य विभाग जमा पानी में डाल रहा एंटी लारवा दवा

Yamunanagar News - डेंगू और मलेरिया दस्तक दे चुका है। हर दिन मलेरिया के केस सामने आने लगे हैं। हालांकि अभी तक करीब दस केस सामने आए हैं।...

Aug 14, 2019, 08:55 AM IST
Yamunanagar News - haryana news dengue malaria knock corporation did not start fogging health department is putting anti larva drug in the water
डेंगू और मलेरिया दस्तक दे चुका है। हर दिन मलेरिया के केस सामने आने लगे हैं। हालांकि अभी तक करीब दस केस सामने आए हैं। वहीं डेंगू का केस भी सामने आया है। जुलाई-अगस्त में डेंगू का केस मिलने से विभाग परेशान हैं, क्योंकि डेंगू के केस अक्सर अगस्त के अंत या फिर अक्टूबर में आते हैं। लगातार हो रही बारिश के कारण निचले एरिया में पानी जमा है। वहां पर मच्छर पनप रहे हैं।

हालांकि स्वास्थ्य विभाग की टीमें वहां पर एंटी लारवा डालने का दावा कर रही हैं। अगर समय पर जमा पानी में एंटी लारवा दवा डाल दी जाए तो वहां पर मच्छर नहीं पनप पाएंगे। स्वास्थ्य विभाग ने दावा किया है कि उनकी टीमों ने इस साल अब तक करीब 53 हजार घरों में सर्वे किया है। वहां पर जांच में 560 घरों में लारवा मिला है। जहां पर लारवा मिला है, उन्हें नोटिस दिए गए हैं। उधर, शहर में अभी तक नगर निगम की ओर से फॉगिंग शुरू नहीं की गई है। डेंगू और मलेरिया के सबसे ज्यादा केस नगर निगम एरिया में ही सामने आते हैं। नगर निगम के सेनेटरी इंस्पेक्टर अनिल नैन का कहना है कि जल्द ही फोगिंग शुरू करा दी जाएगी।

पिछले साल 42 केस डेंगू के और 90 केस मलेरिया के सरकारी रिकॉर्ड में दर्ज जुए थे| पिछल साल डेंगू के 42 केस सामने आए थे। वहीं 90 केस मलेरिया के। यह डाटा सरकारी है। प्राइवेट अस्पतालों में बहुत से मरीज ऐसे थे जिनका नाम सरकारी रिकॉर्ड में दर्ज ही नहीं हो पाया था। वहीं साल 2017 में डेंगू के मरीजों की संख्या 70 थी और मलेरिया के मरीजों की संख्या 266 तक पहुंच गई थी। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मान रहे हैं कि इस बार स्थिति कंट्रोल में है। स्वास्थ्य विभाग अधिकारियों का कहना है कि प्राइवेट अस्पताल संचालकों पर नजर रहेगी। डेंगू व मलेरिया का केस मिलने पर उसकी सूचना विभाग को देनी होगी। वहीं टेस्ट के लिए सरकारी अस्पताल में पूरी सुविधा है।

यह हैं लक्षण| मलेरिया मच्छरों द्वारा फैलने वाला रोग है। सर्दी और कंपन के साथ तेज बुखार होना, उल्टियां व सिरदर्द होना, गर्मी लगना और पसीने के साथ बुखार उतरना, बुखार हर रोज एक दिन छोड़कर या चौथे दिन आना आदि मलेरिया बुखार के लक्षण हैं। मलेरिया से बचाव के लिए हमें विशेष एहतियात बरतनी चाहिए।

अब तक 53 हजार जगह जांच की गई, 560 जगह मिला लारवा

यमुनानगर: जमा पानी में एंटी लारवा डालती स्वास्थ्य विभाग की टीम।

स्थिति कंट्रोल में है, अब हमारे पास स्टाफ भी है


बचाव, जागरुकता के साथ एहतियात जरूरी

चिकित्सकों के मुताबिक बीमारी की रोकथाम के लिए जागरुकता के साथ ही एहतियात भी जरूरी है। घर के आसपास पानी इकट्ठा न होने दें। घर के अंदर और बाहर सात दिन से अधिक पानी खड़ा होना घातक साबित होता है, क्योंकि मादा मच्छर खड़े पानी में ही अंडे देते हैं। घर के सभी बर्तनों, टंकियों, घड़ों व कूलरों को भी साफ रखें।

X
Yamunanagar News - haryana news dengue malaria knock corporation did not start fogging health department is putting anti larva drug in the water
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना