पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Jagadhari News Haryana News Drizzle For Two Days Damaged Wheat And Vegetable Crops Rain Again From Wednesday

दो दिन तक बूंदाबांदी से गेहूं और सब्जी की फसलों को नुकसान, बुधवार से फिर बारिश

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

दो दिन से तेज हवाओं के साथ हो रही बरसात से जहां आमजन को परेशानी हो रही है, वहीं इस बरसात ने किसानों की परेशानियों को बढ़ा दिया है। तेज हवाओं के साथ हो रही इस बरसात के कारण खेतों में खड़ी गेहूं की फसल को भारी नुकसान हुआ है। थाना छप्पर के किसान कुलवंत सिंह ने बताया कि उनकी साढ़े तीन एकड़ में खड़ी लहराती गेहूं की फसल सारी की सारी नीचे बिछ गई है। बरसात से पहले गेहूं मेें पानी दे दिया था, लेकिन अब बरसात के साथ चली तेज हवाओं ने सारी फसल की बिछा दिया है। क्षेत्र के गांव गुंदियाना के किसान बलवान सिंह की चार एकड़, गांव फरीदपुर के किसान राजेंद्र सिंह की पौने एकड़, जीत सिंह की दो एकड़, गांव बीड़ बलसुआ के किसान दारा राम की दो एकड़ व जमालपुर के किसान हरभजन सिंह की छह एकड़ में खड़ी लहराती गेहूं की फसल तेज हवाओं के कारण बर्बाद हो गई है। प्रभावित किसानों ने सरकार से मांग की है कि प्रभावित क्षेत्रों गिरदावरी करवा कर सूची बनाई जाए। किसानों के नुकसान की भरपाई की जाए।

तेज हवाओं से गेहूं की फसल जमीन पर बिछी

भास्कर न्यूज | यमुनानगर

दो दिन तक चली बारिश से जहां मौसम ने यू टर्न लिया है, वहीं किसानों की मेहनत पर पानी फिर गया है। लगातार हुई बारिश से नुकसान गेहूं और सब्जी फसलों को है। आज किसानों को राहत मिलने के आसार हैं। मौसम विभाग के अनुसार यह राहत ज्यादा दिन तक रहने वाली नहीं है।

बुधवार को फिर से मौसम करवट लेगा। दो से तीन दिन तक मौसम खराब रहेगा। बारिश के आसार हैं। इससे किसानों की फसल पर अभी खतरे के बादल छाए हुए हैं। जिले में 90 हजार हेक्टेयर में गेंहू की फसल है, वहीं 30 हजार हेक्टेयर में गन्ने की फसल है। इस बारिश का गन्ने पर असर नहीं जाएगा, हालांकि गन्ने की छिलाई पर जरूर असर जाएगा। जगाधरी में 30 एमएम, छछरौली में 24, बिलासपुर में 22, साढौरा में 22, सरस्वती नगर में 18 और रादौर में 29 एमएम बारिश हुई है ।

कोरोना का इस मौसम में ज्यादा देर तक जिंदा रह सकता है वायरस|इन दिनों करोना वायरस हरियाणा में प्रवेश कर चुका है। हालांकि यमुनानगर में इसका कोई भी मरीज सामने नहीं आया है, लेकिन जिस तरह से ठंड बढ़ी है। मौसम ने करवट ली है, इसमें करोना का वायरस ज्यादा देर तक जिंदा रह सकता है। डॉक्टर्स की माने तो तापमान बढ़ने पर वायरस ज्यादा देर तक जिंदा नहीं रह पाता, लेकिन इस तरह के मौसम में ज्यादा केयर की जरूरत है ।

गेहूं में पानी खड़ा है तो नुकसान होगा|कृषि विशेषज्ञ डॉ. राकेश कुमार ने बताया कि इस बारिश का नुकसान गेहूं में वहीं पर होगा, जहां पर पानी जमा होगा। किसान खेत में पानी जमा न होने दें। अगर पानी जमा हुआ तो गेहूं हवा में गिर जाएगी और बाली के पानी में डूबने से नुकसान होगा।

खबरें और भी हैं...