• Hindi News
  • Haryana
  • Sirsa
  • Sirsa News haryana news farmers surrounded the market committee office locked the gate for one hour

किसानों ने मार्केट कमेटी कार्यालय घेरा, एक घंटे तक गेट को जड़ा ताला

Sirsa News - कॉटन की सरकारी खरीद नहीं होने से भड़के किसानों ने शुक्रवार को मार्केट कमेटी कार्यालय के गेट पर ताला जड़ दिया और गेट...

Oct 12, 2019, 08:46 AM IST
कॉटन की सरकारी खरीद नहीं होने से भड़के किसानों ने शुक्रवार को मार्केट कमेटी कार्यालय के गेट पर ताला जड़ दिया और गेट के सामने धरना लगाकर बैठ गए। एक घंटे तक किसी अधिकारी को बाहर नहीं निकलने दिया और सरकार व सीसीआई के खिलाफ नारेबाजी करते हुए रोष जताया।

वहीं गुस्साए किसानों ने न्यूनतम समर्थन मूल्य पर नरमा खरीद नहीं होने तक गेट नहीं खोलने की चेतावनी दी, तो मार्केट कमेटी सचिव ने किसानों को समाधान निकाले जाने का आश्वासन देकर गेट खुलवाया। लेकिन सीसीआई से सीईओ रूपलाल के साथ मीटिंग में कोई हल नहीं निकाल पाए। किसानों ने सोमवार तक सीसीआई की ओर से नरमा खरीद नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी है।

हरियाणा किसान मंच के प्रदेशाध्यक्ष प्रहलाद सिंह भारूखेड़ा के नेतृत्व में शुक्रवार को जगसीर सिंह, गुरदीप सिंह, जगदीश, साहबराम, जंटा सिंह, रामजीलाल व अन्य दर्जनों किसान अनाज मंडी में एकत्रित हुए। सुबह 11 बजे किसानों ने मार्केट कमेटी कार्यालय के गेट को ताला जड़ दिया और गेट के सामने धरना लगाकर बैठ गए। प्रदर्शनकारी किसानों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कहा कि सीसीआई की ओर से जिला में एक अक्टूबर को नरमा की सरकारी खरीद शुरू होनी थी, लेकिन सरकार व फेक्ट्री मालिकों की मिलीभगत है। जिसका नतीजा सीसीआई का 19 कॉटन फेक्ट्रियों से एग्रीमेंट 11 दिन बीतने के बाद भी सिरे नहीं चढ़ पाया है, जबकि जिला में रोजाना 26 हजार क्विंटल से ज्यादा नरमे की आवक होने लगी है। किसानों को प्रति क्विंटल 300 से 500 रुपये तक नुक्सान झेलना पड़ रहा है। जिससे 45 लाख रुपये का प्रतिदिन किसानों को नुक्सान उठाना पड़ता है।

यह मामला डीसी एवं कृषि मंत्रालय के भी संज्ञान में है, लेकिन उसके बावजूद किसानों को सरेआम लूटा जा रहा है। एक घंटे तक गेट को ताला लगाने के बाद सीसीआई से सीईओ रूपलाल के साथ कमेटी सचिव ने मीटिंग करवाई, तो उसमें भी कोई नतीजा नहीं निकला, क्योंकि अधिकारी ने सिर्फ जिला की एेलनाबाद मंडी में कुछ फेक्ट्रियों के साथ सीसीआई का एग्रीमेंट होना स्वीकार किया है। जिसके बाद फिलहाल किसानों को साेमवार से नरमा की सरकारी खरीद शुरू करवाने का आश्वासन दिया गया है।

सीसीअाई की ओर से नरमा की सरकारी खरीद नहीं हाेने से भड़के किसान मार्केट कमेटी कार्यालय के गेट को ताला लगाकर सरकार के खिलाफ रोष जताते हुए व बाहर निकलने का इंतजार करते अधिकारी।

तोल के समय फेक्ट्रियों में लगाते हैं चपत, तो शिकायत करें किसान

किसान नेता प्रहलाद सिंह भारूखेड़ा ने मार्केट कमेटी सचिव के समक्ष शिकायत रखते हुए बताया कि फेक्ट्री संचालक बोली लगाकर नरमा खरीदते हैं। लेकिन फेक्ट्री में ट्रॉली तोलते समय दोबारा उसका भाव बदल किसानों को चपत लगाई जाती है। किसानों को गुमराह कर उनका नरमा सस्ते दाम में खरीदा जाता है। उन्होंने कहा कि आढ़ती बोली के दौरान लगाए भाव में किसान का नरमा खरीदें। फेक्ट्री में किसान को कम भाव के लिए मजबूर ना किया जाए। जिस पर सचिव ने किसानों को अपना मोबाइल नंबर उपलब्ध करवाते हुए कहा कि वह ऐसी शिकायत कर सकते हैं, इसकी गंभीरता से जांच करवाई जाएगी।

एक अक्टूबर से शुरू होनी थी नरमा की सरकारी खरीद

जिले की तीन मंडियों सिरसा, कालांवाली व ऐलनाबाद में 1 अक्टूबर से नरमा की सरकारी खरीद शुरू होनी थी। जिसके तहत निगम मापदंडों के मुताबिक 8 फीसदी नमी वाले नरमा का भाव न्यूनतम समर्थन मूल्य 5450 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित है। हालांकि इससे ज्यादा 12 प्रतिशत तक नमी होने पर रेट में कटोती का प्रावधान है। लेकिन सीसीआई का जिला की 19 कॉटन फेक्ट्रियों के साथ एग्रीमेंट नहीं हो पाया है, जिसका कारण तीन बार टेंडर कैंसिल होना बताया जाता है। अभी ऐलनाबाद व आदमपुर में कई फेक्ट्रियों का एग्रीमेंट सिरे चढ़ने की भी बात सामने आई है।

किस मंडी में कितनी आवक

मंडी नरमा

सिरसा 95687 क्विंटल

डबवाली 25612 क्विंटल

कालांवाली 58974 क्विंटल

ऐलनाबाद 96433 क्विंटल

डिंग 2828 क्विंटल

मनमानी के खिलाफ किसान ने दी शिकायत

एक कॉटन फेक्ट्री के कारिंदों की मनमानी के खिलाफ गांव बुर्ज भंगु के किसान राधेश्याम ने मार्केट कमेटी सचिव को एक शिकायत दी है। जिसमें बताया कि 9 अक्टूबर को वह नरमे की फसल बेचने आया था। उसकाे नरमा 4712 रुपये क्विंटल बेचना पड़ा, वहीं फेक्ट्री में नरमा तुलाने के बाद उसको ट्रॉली का एक क्विंटल वजन कम बताया गया। हालांकि इस दौरान उसको वजन भी नहीं दिखाया। किसान ने बताया कि फेक्ट्री में उसको 47 किलोग्राम नरमा की चपत लगा दी। उसको आर्थिक नुक्सान हुआ है। किसान ने मार्केट कमेटी सचिव से मामले की जांच करवाने की मांग की है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना