चार चिराग तेरे बलण हमेशा, पंजवां मैं बालण आई हां भला झूले लालण

Kurukshetra News - चार चिराग तेरे बलण हमेशा, पंजवां मैं बालण आई हां भला झूले लालण, जिंदडी दा सेवण दा अली शाबास कलन्दर, दमा दम मस्त...

Feb 15, 2020, 08:15 AM IST
Kurukshetra News - haryana news four lamp is your balan always i am in panjan

चार चिराग तेरे बलण हमेशा, पंजवां मैं बालण आई हां भला झूले लालण, जिंदडी दा सेवण दा अली शाबास कलन्दर, दमा दम मस्त कलन्दर जैसे गीतों से झूलेलाल अमरकथा में श्रद्धालु खूब झूमे। कथा सुनने श्रद्धालु पंहुचे।

शुक्रवार को गोशाला बाजार स्थित श्री झूलेलाल मंदिर में व्यवस्थापक रामलाल ठाकुर ने पिछली कथा से आगे का वर्णन करते हुए कहा कि पुगरदेव ने लालसाईं से कहा कि अब मैं आपका उपदेश सिर आंखों पर रख कर आपके बताए हुए भक्ति मार्ग पर चल कर बिना किसी भेदभाव के मानव क ल्याण के लिए प्रचार करूंगा। पुगर राय की यह बात सुन कर लाल साईं ने कहा कि अब तुम्हारे और हमारे बीच में कोई अंतर नही है। तुम इस पुनीत कार्य का संचालन करके पंथ को आगे बढाओ। लोगों को धर्म और उपासना का उपदेश दो। आज मैं तुम्हें ठाकुर की उपाधि प्रदान करता हूं। अब तुम ठाकुर पुगरदेव के नाम से जाने जाओगे और जो ये सात वस्तुएं जो मैं तुम्हें दे रहा हूं इनकी महिमा भी तुम्हें बताऊगा। इतना कह कर लाल साई ने सिहासन पर ज्योतिस्वरूप के पास रखी 7 वस्तुएं जिनमें कलश, अखंड ज्योति, कंथा, अंगूठी, देग, नगाडा और तलवार शामिल थी, पुगरदेव को सौंपी। कथा के पश्चात महिला श्रद्धालुओं द्वारा कीर्तन किया गया। झूलेलाल आरती में तारादत्त पांडे, पुजारी ललित शर्मा, महेंद्र ठाकुर, वेद भाटिया, सुरेश कुमार, प्रांशु मुटरेजा, डाॅ. सुशील खन्ना, शंकरलाल, वीरभान, राजेंद्र अग्रवाल, आकाश ठाकुर, शशि वर्मा, भारती, सरला सहगल, आशा, शीला, कमलेश, अमृत देवी, अनीता कपूर और इंदु ने भाग लिया।

कुरुक्षेत्र | झूलेलाल मंदिर में कीर्तन करते श्रद्धालु।

X
Kurukshetra News - haryana news four lamp is your balan always i am in panjan
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना