• Hindi News
  • Harayana
  • Yamunanagar
  • Yamunanagar News haryana news inspection committee inspected the recognition of new government college of saraswatinagar running in model school temporarily

अस्थाई तौर पर मॉडल स्कूल में चल रहे सरस्वतीनगर के नए सरकारी कॉलेज की मान्यता को केयू से इंस्पेक्शन कमेटी ने किया निरीक्षण

Yamunanagar News - सरस्वती नगर ब्लॉक में नए सरकारी कॉलेज की मान्यता को लेकर केयूके (कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी कुरुक्षेत्र) से 3...

Sep 14, 2019, 09:11 AM IST
सरस्वती नगर ब्लॉक में नए सरकारी कॉलेज की मान्यता को लेकर केयूके (कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी कुरुक्षेत्र) से 3 सदस्यीय टेम्परेरी इंस्पेक्शन कमेटी मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल में अस्थाई तौर पर चल रहे कॉलेज में पहुंची। टीम में प्रो. संजीव अरोड़ा, अनिल गुप्ता व सुशीला शामिल रहे। तीनों ने हाजिरी रजिस्टर जांचने के बाद स्टाफ व विद्यार्थियों से अलग-अलग पूछताछ की। मौके पर वीडियोग्राफी कर पूछताछ के आधार पर फार्म फिल कर टीम लौट गई, जो अब टीम केयूके में रिपोर्ट देगी।

बता दें कि टीम ने करीब 3 घंटे कॉलेज में निरीक्षण किया। मौके पर छछरौली सरकारी कॉलेज के प्रिंसीपल व सरस्वतीनगर में नए सरकारी कॉलेज के लिए नोडल अधिकारी बनाए गए एसपी गिरोत्रा व उनके साथ राकेश शर्मा, संजीव गांधी, रविकांत, डॉ. हेमप्रभा, डॉ. इंदु बंसल, डॉ. स्वाति भी मौजूद रहे।

स्कूल में चल रहे कॉलेज की ओवरऑल स्थिति| अभी सरस्वतीनगर में राजकीय कॉलेज की अपनी बिल्डिंग न होने पर सरस्वतीनगर के राजकीय स्कूल में क्लासिस लग रही हैं। यहां यूजी में इंग्लिश, हिंदी, पॉलीटिकल साइंस, हिस्ट्री, ज्योग्राफी, इकनॉमिक्स व मैथेमेटिक्स विषयों में आर्टस की दो यूनिट यानि 160 सीटें हैं और कॉमर्स स्ट्रीम की 80 सीटें हैं। आर्टस में 160 में से 124 सीटें भर पाईं और 36 सीटें खाली हैं। इसी तरह कॉमर्स में 80 में से 64 सीटें भर पाईं और 35 खाली हैं। स्टाफ की बात करें तो कॉलेज में विभाग की ओर से मैथ, इक्नॉमिक्स, कॉमर्स भेजे गए वहीं, छछरौली कॉलेज से हिस्ट्री व इंग्लिश के टीचर हैं। अभी भी पॉलिटिकल साइंस, ज्योग्राफी व हिंदी के टीचर नहीं हैं।

मान्यता के लिए 50 प्रतिशत खरा उतरना जरूरी

छछरौली के सरकारी कॉलेज के प्रिंसिपल एवं सरस्वतीनगर में नए खुले सरकारी कॉलेज के लिए नोडल अधिकारी बनाए गए एसपी गिरोत्रा ने बताया कि हालांकि उम्मीद है कि कॉलेज को आसानी से मान्यता मिल जाएगी, लेकिन केयूके की टेम्परेरी इंस्पेक्शन कमेटी के निरीक्षण में कॉलेज में इंफ्रास्ट्रक्चर समेत ओवरऑल सभी मान्यता के बिंदुओं में से कम से कम 50 प्रतिशत पर खरा उतरना होगा, तभी कॉलेज काे मान्यता मिलेगी।

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना