• Hindi News
  • Rajya
  • Haryana
  • Yamunanagar
  • Radaur News haryana news just waiting for the compensation amount announced by cm even after one year to the families of the deceased in the accident

बस हादसे में मृतकों के परिजनों को एक साल बाद भी सीएम द्वारा घोषित मुआवजा राशि मिलने का इंतजार

Yamunanagar News - 12 अक्टूबर 2018 की शाम गांव मैनमती के पास मुगल माजरा चौक पर रोडवेज की खचाखच भरी बस के पेड़ से टकराकर पलटने से चार लोगों...

Bhaskar News Network

Oct 12, 2019, 08:30 AM IST
Radaur News - haryana news just waiting for the compensation amount announced by cm even after one year to the families of the deceased in the accident
12 अक्टूबर 2018 की शाम गांव मैनमती के पास मुगल माजरा चौक पर रोडवेज की खचाखच भरी बस के पेड़ से टकराकर पलटने से चार लोगों की मौत हो गई थी। काफी संख्या में लोग घायल हुए थे। घायलों को देखने मुख्यमंत्री मनोहरलाल कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज करनाल पहुंचे थे। मुख्यमंत्री ने बस दुर्घटना में मारे गए लोगों के परिवार को दो-दो लाख रुपए और घायलों को 50-50 हजार रुपए की मुआवजा राशि दिये जाने की घोषणा की थी, लेकिन घटना को एक वर्ष बीत जाने के बावजूद आज तक बहुत से प्रभावित परिवारों को मुआवजा राशि नहीं मिल पाई है। प्रभावित परिवार मुआवजा राशि लेने के लिए कई बार करनाल के अधिकारियों से भी मिले। प्रभावित लोगों काे केवल कोरे आश्वासन देकर टकराया गया।

क्षेत्र के गांव खुर्दबन निवासी रूपचंद ने बताया कि उसका बेटा गुरसेव (18) सरकारी आईटीआई करनाल में पढ़ता था। 12 अक्टूबर 2018 की शाम को लगभग साढ़े पांच बजे वह रोडवेज की बस में करनाल से खुर्दबन आ रहा था। बस ऊपर से नीचे तक खचाखच भरी हुई थी। इस दौरान गांव मैनमती के पास एक बाइक सवार को बचाते हुए बस चालक ने कट मारा तो बस अनियंत्रित होकर पेड़ से जा टकराई और पलट गई। घायलों को करनाल के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती करवाया गया था। इस दौरान उसका घायल बेटा कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज में भर्ती करवाया गया था। जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

इसी प्रकार गांव गढी बीरबल निवासी जसविन्द्र सिंह मंढान ने बताया कि उसकी माता निर्मला देवी (55) करनाल से वापिस अपने गांव गढ़ी बीरबल आ रही थी। जो बस में आगे बैठी हुईं थीं। सड़क दुर्घटना में घायल हो गईं थीं। जिसकी बाद में अस्पताल में मौत हो गई थी। प्रभावित रूपचंद खुर्दबन व जसविन्द्र सिंह मंढान निवासी गढीबीरबल ने बताया कि उनके परिजनों के अलावा कुछ अाैर लोगों की भी बस दुर्घटना में मौत हुई थी। उन्हें भी मुआवजा नहीं मिला है। सरकार द्वारा की गई घोषणा झूठी साबित हुई है। उनकी मांग है कि सरकार अपनी घोषणा पर अमल करते हुए प्रभावित लोगों को जल्द से जल्द मुआवजा राशि दे।

रादौर | गांव खुर्दबन निवासी रूपचंद मोबाइल में अपने मृतक बेटे की फोटो दिखाते हुए।

X
Radaur News - haryana news just waiting for the compensation amount announced by cm even after one year to the families of the deceased in the accident
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना