लाडवा सीएचसी में नहीं है रात को इलाज के लिए डॉक्टर

Kurukshetra News - एक ओर प्रदेश सरकार हरियाणा में लोगों को सरकारी अस्पतालों में निशुल्क चिकित्सा और दवा देने के दावे कर रही है वहीं...

Jan 16, 2020, 08:15 AM IST
Ladwa News - haryana news ladwa is not in chc doctor for night treatment
एक ओर प्रदेश सरकार हरियाणा में लोगों को सरकारी अस्पतालों में निशुल्क चिकित्सा और दवा देने के दावे कर रही है वहीं लाडवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज करने के लिए चिकित्सक भी 24 घंटे उपलब्ध नहीं हैं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से सात पद लाडवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के लिए निर्धारित हैं लेकिन पिछले काफी समय से सातों ही पद खाली पड़े हैं जिस कारण लाडवा क्षेत्र के लोगों को अपने इलाज के लिए निजी अस्पतालों में जाना पड़ रहा है। लाडवा वासी बलदेव राठी, आशीष फौजदार, शिव गुप्ता, पवन बंसल, योगेंद्र कांबोज, सन्नी, धर्मपाल, शुभम गोयल, प्रमोद कुमार और शीशपाल ने कहा कि लाडवा का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सफेद हाथी बनकर रह गया है। पिछले काफी समय से स्वास्थ्य केंद्र में कोई भी चिकित्सक नहीं है जिस कारण मरीजों को इधर से उधर भटकना पड़ता है। इतना ही नहीं, अगर किसी को अपना मेडिकल भी करवाना हो तो वह सुविधा भी लाडवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उपलब्ध नहीं है। क्षेत्र वासियों ने सरकार से जल्द से जल्द लाडवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में चिकित्सकों की नियुक्ति की मांग की।

शाम 4 बजे के बाद नहीं होता कोई चिकित्सक| लाडवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में रोजाना सुबह 9 से लेकर शाम चार बजे तक ही एक डेपुटेशन पर नियुक्त चिकित्सक डॉ. देवीदास लोगों का इलाज करने के लिए उपलब्ध रहते हैं। इसके अलावा कोई भी चिकित्सक लाडवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में नहीं है। इतना ही नहीं, किसी भी गर्भवती महिला का इलाज करने के लिए कोई भी महिला चिकित्सक नहीं है जबकि लाडवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में रोजाना 200 से 300 लोगों की ओपीडी है।

रात को नर्स व सफाई कर्मी करते हैं इलाज| शाम चार बजे से सुबह नौ बजे तक अगर कोई छोटी या बड़ी दुर्घटना लाडवा क्षेत्र में हो जाए तो उसमें घायल हुए लोगों का इलाज करने के लिए कोई भी चिकित्सक उपलब्ध नहीं है। उन घायलों का इलाज लाडवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के सफाई कर्मचारी व नर्स करती हैं। नर्स घायलों को प्राथमिक उपचार देकर जिला अस्पताल में रेफर कर देती हैं।

मंगलवार रात को 7 घायलों को किया रेफर| सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अंदर मंगलवार रात को सात बजे सड़क हादसे में घायल संजीव व गौरव सहित 7 लोगों को चिकित्सक न होने के कारण नर्सों व सफाई कर्मचारियों ने प्राथमिक उपचार देने के बाद एलएनजेपी अस्पताल में रेफर कर दिया।

सरकार दे सकती है जवाब| लाडवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अंदर चिकित्सक न होने की केंद्र के अंदर काम करने वाली एक नर्स से जानकारी लेनी चाही तो उन्होंने कहा कि चिकित्सक न होने के बारे में सरकार जवाब दे सकती है। हमारा काम केवल घायल लोगों को प्राथमिक उपचार देने और उनको एलएनजेपी अस्पताल रेफर करने का है।

सप्ताह में दो दिन होता है एक्सरे| लाडवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अंदर सप्ताह में केवल दो दिन बुधवार व शनिवार को एक्सरे करवाने की सुविधा मिलती है। एक्सरे करने के लिए कोई भी कर्मचारी केंद्र के अंदर उपलब्ध नहीं है। मात्र दो दिन शाहाबाद से आकर एक कर्मचारी एक्सरे करता है। बाकी के पांच दिन लोगों को निजी एक्सरे मशीन वालों के पास जाकर ही पैसे देकर एक्सरे करवाने पड़ते हैं। इतना ही नहीं, केंद्र के बनी लेबोरेट्री में भी केवल एक ही कर्मचारी टेस्ट करने के लिए उपलब्ध है जबकि पोस्ट दो कर्मचारियों की है। केंद्र के अंदर ब्लड बैंक की भी सुविधा उपलब्ध नहीं है।

काफी समय से है चिकित्सकों की कमी | लाडवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अंदर कार्यरत एसएमओ डॉ. अंजलि वैद ने बताया कि पिछले काफी समय से लाडवा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अंदर चिकित्सकों की कमी है जिसके बारे में उच्चाधिकारियों को अवगत करवा दिया गया है।

मंगलवार रात लाडवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में घायल के इलाज के लिए चिकित्सक का इंतजार करते राहगीर ।

19 दिसंबर के बाद से रात में नहीं कोई चिकित्सक

19 दिसंबर 2019 को शाम के समय कार्यरत चिकित्सक डॉ. अमित की मौत हो गई थी। उसके बाद से लगभग एक महीने से शाम के समय लाडवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अंदर किसी भी चिकित्सक की कोई व्यवस्था नहीं की गई है। तभी से केंद्र के अंदर लगी नर्सों व सफाई कर्मचारियों के भरोसे लोगों का इलाज चल रहा है।

X
Ladwa News - haryana news ladwa is not in chc doctor for night treatment
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना