पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Yamunanagar News Haryana News Letter Written To Union Minister Seeking To Cancel License For Heart Care

हार्ट केयर का लाइसेंस रद्द करने की मांग, केंद्रीय मंत्री को लिखा पत्र

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

हार्ट केयर अस्पताल पर लगे आरोपों का मामला बढ़ता जा रहा है। अस्पताल के खिलाफ आंदोलन करने वालों ने शनिवार को मीटिंग कर सरकार से अस्पताल का लाइसेंस रद्द करने की मांग की। संघर्ष समिति के संयोजक एडवोकेट साहिब सिंह गुर्जर और भाकियू नेता सुभाष गुर्जर का कहना है कि उन्होंने अस्पताल का लाइसेंस रद्द करने की मांग को लेकर भारतीय स्वास्थ्य परिषद और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिखा है। वहीं उन्होंने मांग की है कि हार्ट केयर ग्रुप के देश में जहां पर भी अस्पताल हैं वहां भी जांच की जाए कि वहां कितने मरीजों का इलाज हुआ है। कितनों की मौत हुई और कितनों का सही इलाज नहीं हो पाया। उनका कहना है कि यमुनानगर में इस अस्पताल की जांच के लिए बनी कमेटी अब तक अस्पताल के खिलाफ एक्शन नहीं ले पाई।

इसलिए विवाद : गांव धौड़ंग निवासी भाकियू प्रधान सुभाष गुर्जर की हालत बिगड़ गई थी। परिवार उन्हें हार्ट केयर अस्पताल लाया। उनके भाई एडवोकेट साहब सिंह गुर्जर का आरोप था कि हार्ट की नसें ब्लॉक होने की बात कहकर उन्हें डराया गया। उन्हें बताया गया कि इलाज पर लाखों रुपए खर्च आएगा। जब उन्होंने पीजीआई ले जाने की बात कही तो डॉक्टर ने कहा कि मरीज की हालत खराब है और वह अंबाला तक भी नहीं जा पाएगा। लेकिन परिवार के लोग यहां से दूसरे अस्पताल ले गए। वहां पर सुभाष बिना ऑपरेशन और स्टंट डाले ही ठीक हो गए। यहीं से इस अस्पताल के खिलाफ विरोध शुरू हुआ। पहले डीसी को कार्रवाई के लिए शिकायत दी थी। वहीं बाद में अस्पताल के बाहर प्रदर्शन किया था। हार्ट केयर अस्पताल के डॉक्टर शगुन सब्रवाल इस मामले में सामने आकर सफाई दे चुके हैं कि सभी आरोप गलत हैं। मामले को लेकर आईएमए और बार एसोसिएशन भी मैदान में आ चुकी है।

यमुनानगर | अस्पताल का लाइसेंस रद्द करने की मांग को लेकर बैठक करते संघर्ष समिति के पदाधिकारी।
खबरें और भी हैं...