महाशिवरात्रि मेला; जलाभिषेक को उमड़ी भीड़, इस बार आधीरात में हुआ भष्माभिषेक

Kurukshetra News - प्राचीन संगमेश्वर महादेव मंदिर अरुणाय में महाशिवरात्रि पर सालाना मेले में तड़के तीन बजे से ही श्रद्धालुओं की...

Feb 22, 2020, 08:26 AM IST
Pehowa News - haryana news mahashivratri fair jalabhishek gets crowded this time in the midnight blasts

प्राचीन संगमेश्वर महादेव मंदिर अरुणाय में महाशिवरात्रि पर सालाना मेले में तड़के तीन बजे से ही श्रद्धालुओं की लाइनें लग गई। जलाभिषेक को प्रदेश व आसपास के राज्यों से दिनभर श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती रही। मंदिर प्रबंधन व महंतों का दावा है कि अबके महोत्सव में डेढ़ लाख से ज्यादा श्रद्धालु पहुंचे। करीब एक लाख श्रद्धालु तो शुक्रवार को ही पहुंचे। भीड़ के चलते अरुणायधाम व आसपास जाम के हालात रहे। हालांकि मंदिर और जिला प्रशासन की तरफ से काफी व्यवस्थाएं की थी। लेकिन भीड़ के आगे ये प्रबंध नाकाफी दिखे। जिसके चलते लोगों को जाम की समस्या झेलनी पड़ी।

अबके बनाए बैच: 100-100 के निकाले जत्थे | महंत विश्वनाथ गिरी व सेवादल प्रबंधक भूषण गौतम ने बताया कि डेढ़ लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने अबके महोत्सव में शिरकत की। सेवा दल की ओर से बैच बनाए गए थे। प्रत्येक बैच में सौ से दौ सौ श्रद्धालुओं को आगे बढ़ाने के बाद द्वार बंद किया गया। जिससे भीड़भाड़ पर नियंत्रण रहा।

जेबकतरों की मौज, कई चढ़े हत्थे| मेला क्षेत्र पर नजर रखने के लिए इस बार दो ड्रोन कैमरे लगाए गए थे। जिनसे कंट्रोल रूम में सड़कों पर पार्किंग में होने वाली भीड़ भाड़ के साथ साथ शरारती तत्वों पर भी नजर रखी गई। पुलिस ने कंट्रोल रूम से ही नजर रखकर कई जेबकतरों व चेन स्नैचर्स को काबू किया।

दिनभर चला पूजा अर्चना का दौरा| विद्वान ब्राह्मणों द्वारा शिवरात्रि के पूरा दिन पूजा अर्चना एवं अनुष्ठान का दौर चलता रहा। श्रद्धालुओं ने भगवान शिव के दर्शन के बाद महर्षि दुर्वाषा ऋषि मंदिर मे भी माथा टेका। उधर, शहर के अन्य शिव मंदिर श्री पृथ्वेश्वर महादेव, पशुपतिनाथ महादेव, वशिष्ठेश्वर महादेव, आशुतोष महादेव मंदिर आदि में महाशिवरात्रि महोत्सव की धूम रही।

हरिद्वार से पहुंची भस्म से हुआ भस्माभिषेक | साल में एक मर्तबा महाशिवरात्रि की रात को भोलेनाथ का भस्माभिषेक किया जाता है। इस बार भस्माभिषेक के लिए हरिद्वार से 31 किलो भस्म मंगवाई गई। यह भस्म बेलपत्र के पत्तों और गाय के गोबर से बने उपलों से तैयार की गई। आधि रात को भगवान भोलेनाथ का भस्माभिषेक कर श्रृंगार किया। इसके बाद साधुओं और भोलेनाथ को भस्म से स्नान कराया गया। मेला परिसर में प्लास्टिक पर बैन के चलते पत्तों से बने डोने और प्लेटों का प्रयोग किया गया। इस क्षेत्र में 200 डस्टबीन रखे गए। साथ ही मरीजों की स्वास्थ्य जांच के लिए एक निशुल्क मेडिकल शिविर भी लगाया गया। मंदिर के निकट ही तीन एकड़ से अधिक में पार्किंग बनाई। संगमेश्वर मंदिर सेवा दल के 350 सदस्य लगातार ड्यूटी पर रहे। सेवादल प्रधान महेश बत्रा, जयनारायण शर्मा, भूषण गौतम, राज कश्यप कंथला व शंभूनाथ विरदी, जयनारायण शर्मा, अदीश समेत कई श्रद्धालु व सेवादल सदस्य मौजूद रहे।

} भंडारों में खपा 40 बोरी आलू

अरुणाय धाम की तरफ से अबके फलाहार व व्रत के पकौड़ों का भंडारा दिया गया। जिसमें देर शाम तक 30 क्विंटल से ज्यादा फल लगे। वहीं हर साल की तरह इस बार भी विभिन्न संस्थाओं व लोगों की तरफ से मंदिर के बाहर भंडारे की होड़ रही। धाम में 16 से ज्यादा भंडारे लगे। जिसमें हरियाणा व पंजाब की संस्थाओं और श्रद्धालुओं ने कढ़ी चावल, रोटी, सब्जी, पकौड़ा और फलों के भंडारे लगाए। प्रबंधक भूषण गौतम के मुताबिक एक भंडारे में लगभग पांच क्विंटल चावल और दो क्विंटल आटा लगा। जबकि फलों की सेवा कई क्विंटलों में रही। इसे बाहर स्टॉल लगाकर श्रद्धालुओं में बांटा जाता है। मंदिर के अंदर लंगर भवन के भंडारे में ज्यादा भीड़ रही। जहां उन्होंने भांप से बने भोजन का स्वाद चखा। मंदिर प्रबंधन के मुताबिक 40 बोरी से अधिक आलू, दो क्विंटल दाल, लगभग ढाई क्विंटल चावल और पांच बोरी आटा मंदिर के अंदर के भंडारे में खपा।

लगा रहा जाम, मेले में नाकाफी रहे इंतजाम

मेले में ट्रेफिक पुलिस कर्मचारियों की खासी कमी खली। धनीरामपुरा से लेकर अरुणाय तक लगभग दो किमी तक वाहनों की कतारें रही। उधर छज्जुपुर व टीकरी की तरफ भी जाम लगा रहा। लोगों के जल्दबाजी के चक्कर में वाहनों को उल्टे सीधे फंसा दिया। जिसके 10 मिनट का सफर तय करने में लोगों को दो घंटे से अधिक का समय लगा।

पिहोवा | संगमेश्वर मंदिर में जलाभिषेक के लिए लाइनों में लगे श्रद्धालु।

X
Pehowa News - haryana news mahashivratri fair jalabhishek gets crowded this time in the midnight blasts

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना