• Hindi News
  • Haryana
  • Jhajjar
  • Jhajjar News haryana news only after being cleaned at the sewerage treatment plant will the dirty water drain in the drain

सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट में साफ होने के बाद ही ड्रेन में डलेगा गंदा पानी

Jhajjar News - शहर से गुजरने वाली ड्रेन अब सीधे तौर पर डलने वाले सीवरेज के बदबूदार गंदे पानी से मुक्त हो गई है। शहर के सभी...

Feb 20, 2020, 08:00 AM IST
Jhajjar News - haryana news only after being cleaned at the sewerage treatment plant will the dirty water drain in the drain

शहर से गुजरने वाली ड्रेन अब सीधे तौर पर डलने वाले सीवरेज के बदबूदार गंदे पानी से मुक्त हो गई है। शहर के सभी वार्डों से निकलने वाला सीवरेज का बदबूदार पानी अब सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के बाद ड्रेन में डालना शुरू कर दिया। इसके लिए शहर के सभी बरसाती नालों और वार्ड में मौजूद सीवरेज नालों को सांपला रोड स्थित सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट में पूरे तरीके से जोड़ दिया गया है।

1 साल पहले तक इस एसटीपी की क्षमता 2.8 मिलियन लीटर प्रतिदिन थी। अब फरवरी माह में लगभग दोगुनी 3.50 मिलियन लीटर प्रतिदिन आ गई है। सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के स्टाफ की माने तो बढ़ रही शहर की आबादी और पानी के वेस्टेज पर प्लांट के फंक्शन पर कोई असर नहीं पड़ रहा है जबकि आगामी 30 साल तक बढ़ने वाली आबादी और उपयोग होने वाले पानी को देखते हुए ही एसटीपी का डिजाइन किया गया है।

एनजीटी ने ये दिए
थे आदेश


एनजीटी ने हरियाणा सरकार को आदेश दिए थे कि स्थानीय निकाय विभाग के अधीन सभी नगर पालिका, नगर परिषद और नगर निगम से जुड़े शहरी क्षेत्र के सीवरेज का पानी एसटीपी के माध्यम से ही ड्रेन में छोड़ा जाए। अभी तक घरों और प्रतिष्ठानों से निकला गंदा पानी सीधे ड्रेनों में डाला जाता था। उसके कारण आबादी वाले क्षेत्र से निकलती ड्रेन गंदा और बदबूदार पानी छोड़ती थी।


ट्रीटमेंट हुए पानी से बन रही खाद को लेने वाले कम

झज्जर के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट में होने वाले पानी के ट्रीटमेंट प्रोसेस के बाद बचे हुए वेस्ट मटेरियल से यहां खाद बनती है लेकिन इसे लेने वाले काफी कम है। जागरूकता की कमी के कारण खाद के यहां टैंक भरे पड़े हैं।

प्लांट में लगेगा नया फ्लो मीटर, सरकार के पास भेजा एस्टीमेट

एसटीपी प्लांट में जन स्वास्थ्य नया फ्लो मीटर लगाएगा। इसके लिए एस्टीमेट और बजट की मंजूरी सरकार के पास भेजी गई है। यहां 2015 से जब एसटीपी की शुरुआत हुई थी तभी से फ्लो मीटर लगा हुआ था जो आउट ऑफ डेट हो चुका है। अब नई तकनीकी का फ्लो मीटर लगेगा इससे पानी के भाव के बारे में तुरंत जानकारी मिल सकेगी।

इन सीवरेज लाइनों को जोड़ा गया एसटीपी से

शहर की 7 जगहों की सीवरेज लाइनों को सांपला रोड काे एसटीपी प्लांट से जोड़ा गया है। इनमें रेवाड़ी रोड, रहनिया रोड, तहसील रोड, गाजी कमाल, भगत सिंह चौक व िछकारा चौक के नाले शामिल हैं। क्षेत्र में सबसे पुरानी रहनिया रोड के नाले ताे कई सालों से पहले से ही जुड़े हुए थे।

ट्रीटमेंट के बाद ड्रेन में डाला जा रहा सीवरेज का पानी।

पूरी क्षमता के साथ किया जा रहा शहर से निकलने वाले गंदे पानी का ट्रीटमेंट।

गंदे पानी के ट्रीटमेंट के बाद बनाई खाद टैंकों में भरी हुई।

Jhajjar News - haryana news only after being cleaned at the sewerage treatment plant will the dirty water drain in the drain
Jhajjar News - haryana news only after being cleaned at the sewerage treatment plant will the dirty water drain in the drain
X
Jhajjar News - haryana news only after being cleaned at the sewerage treatment plant will the dirty water drain in the drain
Jhajjar News - haryana news only after being cleaned at the sewerage treatment plant will the dirty water drain in the drain
Jhajjar News - haryana news only after being cleaned at the sewerage treatment plant will the dirty water drain in the drain

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना